पूरी दुनिया एक तरफ और उत्तरप्रदेश पुलिस एक तरफ। इनकी हरकतें हमेशा से चर्चा में रहा करती हैं। चाहे वो “मारो मारो, भागो भागो…” वाली घटना हो या फिर छुट्टी के लिए भगवान शिव के सपने में आने वाली बात। पर, अब जो खबर आई है वह काफी चौंकाने वाली और उत्तरप्रदेश पुलिस की लापरवाही की इंतेहा को बताता है।

दरअसल एक लाख रुपये का इनामी गैंगस्टर बदन सिंह बद्दो को गुरुवार के दिन छह पुलिसवाले पूरे तैयार होकर कोर्ट में पेशी के लिए ले जा रहे थे। अचानक ही बदन सिंह बद्दो को शराब की तलब जगी। उसने पुलिस वालों को ये बात बतायी और दोस्ती-यारी के नाते पुलिस वालों को भी दारू ऑफर कर दी। अब भाई! दारू वागेरह ऐसी चीज होती है जोकि ऑन-ड्यूटी अगर पी न जाये तो पुलिस वाला रुतबा तो आता ही नहीं है। पुलिस वालों ने ऑफर को हाथों-हाथ स्वीकार कर लिया।

धोखेबाज बदन सिंह बद्दो। फोटो सोर्स: गूगल

सभी छह पुलिसवाले बद्दो को लेकर मेरठ के एक होटल में पहुँच गए। वहाँ पर बद्दो के दोस्त-यार पहले से ही मौजूद थे। बद्दो ने दारू पी और पुलिसवालों को भी पिलाई। बहुत मजे किए सबने।

पर, कमबख्त बद्दो ने धोखा दे दिया। छह पुलिसवालों को जमकर के दारू पिलाने के बाद वह फोन पर बात करते करते अपने साथियों के साथ फरार हो गया। सबसे मजे की बात है कि पुलिसवाले दारू पी कर इतने भंड हो गए कि बद्दो के फरार होने के तीन घंटे बाद उनको इस बात की हवा लगी कि बद्दो फरार हो चुका है।

वैसे कहा तो जा रहा है कि पुलिसवालों के दारू में कुछ नशीला पदार्थ मिला दिया गया था जिस वजह से सारे पुलिसवाले अपना होश गंवा बैठे। मेरठ के एडीजी प्रशांत कुमार ने बताया है कि मामले में शामिल पुलिसवालों से पूछताछ की जा रही है लेकिन वेलोग अभी तक होश में नहीं आ सके हैं। अब पुलिस की 11 टीम बद्दो के तलाश में जुटी हुई है।

खैर, कोई बात नहीं। बद्दो था ही कौन। उस पर महज हत्या और डकैती जैसे 10 आरोप ही तो थे और बद्दो को उम्रक़ैद जैसी छोटी-मोटी सजा भी हो रखी थी। कोई खास घबराने की बात नहीं है। उत्तरप्रदेश ने आजम खान की भैंसे ढूंढ निकाली थी तो ये अद्दो-बद्दो क्या चीज है।

हम भी उत्तरप्रदेश पुलिस से नाराज़ नहीं हैं। हम समझ सकते हैं, ये दारू होती ही ऐसी चीज है कि मना करते बनता नहीं है। हमें बस बद्दो की ये धोखेबाज़ी पसंद नहीं आई। यार, ऐसे माहौल को बिगाड़ दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here