लोकसभा चुनाव नजदीक आ रहा है। सरकार किसी की भी हो लेकिन 2014 में आई भारतीय जनता पार्टी की सरकार को कई मायनों में याद रखा जाएगा चाहे वो GST हो, सर्जिकल स्ट्राइक हो, नोटबंदी या फिर कालेधन की बात करें। जिस तरह ED ने रॉबर्ट वाड्रा को घेरा औऱ उनसे पुछताछ के बाद कई खुलासे हुए वह वाकई चौकाने वाली बात थी। लेकिन रॉबर्ट वाड्रा मामले में एक औऱ नाम जुड़ने से इस मामले की तस्वीर ही बदल गई है। बताया जा रहा है कि इस मामले में जो नाम जुड़ा है वह संजय भंडारी है जिसे ED अब आर्थिक भगोड़ा घोषित करने जा रही है।

कौन है संजय भंडारी?

संजय भंडारी एक बड़े पैमाने पर हथियार का सौदागर है। संजय भंडारी के बारे में एक और अहम बात सामने आती है कि 2008 में इसने पनी फ्लैगशिप कंपनी ‘ऑफसेट इंडिया सॉल्यूशन ग्रुप’ की स्थापना की थी जिसकी पेड-अप पूंजी मात्र एक रुपये थी। भंडारी की कंपनी ओआईएस दुनिया भर में आयोजित आर्म्स शोज में शामिल होती है। इसकी वजह से भी इस इंडस्ट्री में भंडारी की अच्छी पकड़ है।

संजय भंडारी। फोटो सोर्स: गूगल

यह पहली बार 2010 में जांच एजेंसी के नजर में आए थे। मामला था इंडियन एयर फोर्स के लिए कॉन्टैक्ट में कथित रुप से शामिल होना था। लेकिन कांग्रेस की सरकार होने की वजह कहें या रॉबर्ट वाड्रा से संबंध, भंडारी के उपर जांच कमिटी नहीं बैठाई गई। इस बात का खुलासा उस वक्त हुआ जब संजय भंडारी का नाम रॉबर्ट वाड्रा के साथ जोड़ा गया। लेकिन 2014 में एनडीए की सरकार आने के बाद संजय भंडारी के बारे में एक एक कर कई सारी बातें सामने आई जिसके बाद ED ने इन्हें जांच के घेरे में लिया।

ऐसा पहली बार हुआ जब कालेधन मामले में ED ने किसी की सम्पत्ति को जब्त किया हो। संजय पर आरोप है कि रॉबर्ट वाड्रा ने इनसे एयर टिकट लेने के साथ साथ लंदन स्थित अपने मकान को डिज़ाइन करवाने में संजय भंडारी की मदद मांगी थी। ED संजय भंडारी को आर्थिक भगौड़ा इसलिए घोषित कर रही है क्योंकि भंडारी वाड्रा के लिए विदेशों में प्रोपेर्टीज़ खरीदा करते थे। ये प्रोपेर्टीज़ भंडारी ने डीफेंस और पैट्रोलियम डील में मिली रिश्वत के पैसों से खरीदी थी।

रोबर्ट वाड्रा। फोटो सोर्स: गूगल

ED को शक है कि संजय भंडारी के पास 500 करोड़ से ज्यादा की ब्लैक मनी है। ED ने FEMA कानून के तहत संजय भंडारी की 26.61 करोड़ के एसेट्स जब्त कर लिए हैं। हालांकि वाड्रा ने ED से पूछताछ के दौरान संजय भंडारी से किसी भी तरह के संबंध होने से इंकार कर दिया था।

भाजपा का कॉंग्रेस पर हमला

इस मामले के बाद भाजपा ने कांग्रेस को सवालों के घेरे में लिया है। स्मृति इरानी ने कांग्रेस पर सवाला उठाते हुए कहा है कि आखिर अब तक कांग्रेस की सरकार कर क्या रही है। पहले रॉबर्ट वाड्रा मामले में चुप बैठी थी और अब संजय भंडारी के मामले में भी चुप बैठना तर्कसंगत नहीं है।

ED के छापेमारी के बाद बीजेपी का दावा है कि संजय भंडारी के घर से राफेल विमान सौदे को लेकर भी कई तरह के दस्तावेज बरामद किए गए हैं। इस मामले में कांग्रेस का कहना है कि मोदी सरकार पिछले 41 महीनों से सत्ता में है और उसे जिस तरह से समझ आता हो, जांच कर सकती है।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here