न्यूज़ीलैंड के क्राइस्टचर्च इलाके की दो मस्जिदों में आतंकी हमला हुआ है। आतंकियों की अभी तक पहचान नहीं हो पायी है। खबर आ रही है कि पहला हमला अल नूर मस्जिद पर हुआ। क्राइस्टचर्च के एक इलाके लिनवुड में भी फायरिंग की खबरें हैं। इस हमले में अभी तक मरने वालों का कोई आधिकारिक आंकड़ा नहीं मिल पाया है पर विभिन्न मीडिया हाउस की मानें तो यह आंकड़ा 40 लोगों तक का है।

यह भी कहा जा रहा है कि हमले के वक़्त बंगलादेशी क्रिकेट टीम भी घटनास्थल पर मौजूद थी। हालांकि सभी बंगलादेशी खिलाड़ी अभी सुरक्षित हैं। सभी को पास के पार्क के साथ वाले रास्ते से वापस ओवल मैदान की तरफ लाया गया। आपको बताते चलें कि बांग्लादेश अभी न्यूज़ीलेंड दौरे पर है। आने वाले शनिवार को इन दोनो टीम के बीच तीसरा टेस्ट मैच खेला जाना था जिसे अब रद्द कर दिया गया है। इस बात की जानकारी खुद न्यूज़ीलेंड क्रिकेट टीम ने ट्वीट कर के दी है। उन्होने लिखा है,

हमारी संवेदनाएं क्राइस्टचर्च में हुए चौंकाने वाले हादसे में प्रभावित लोगों के परिवारों और दोस्तों के साथ हैं। न्यूज़ीलेंड क्रिकेट बोर्ड और बंगलादेश क्रिकेट बोर्ड ने आपसी सहमति से हेगली टेस्ट को रद्द करने का फैसला लिया है। टीम और सहयोगी स्टाफ दोनों सुरक्षित हैं। 

आपको बता दें कि तीसरा मैच क्राइस्टचर्च में ही होना था। हमले के बाद तमीम इकबाल ने सभी खिलाड़ियों के सुरक्षित होने की खबर ट्वीट कर के दी है।

 


इस गोलीबारी के मामले में अभी तक चार लोगों को हिरासत में लिया जा चुका है। वहाँ मौजूद प्रत्यक्षदर्शियों की मानें तो हमलावर ने काले कपड़े पहने हुए थे और उन्होने सर पर हेलमेट पहना हुआ था। उनके पास ऑटोमैटिक हथियार थे जिससे वो लगातार फायरिंग कर रहे थे। चूंकि जुमे का दिन था इसलिए मस्जिद में काफी भीड़ थी।

न्यूज़ीलेंड की पीएम जैसिंडा ऑर्डर्न ने इसे न्यूज़ीलेंड के इतिहास का सबसे बुरा दिन बताया है। उन्होने कहा है कि हिंसा का न्यूज़ीलेंड में कोई स्थान नहीं है। सभी नागरिकों को उन्होने सुरक्षित रहने का आग्रह भी किया है और बताया है कि हमलावर अभी भी सक्रिय हैं।

हमले का तरीका ठीक वैसा ही है जैसा 26/11 के वक़्त भारत पर हुआ था। जैसे भारत में अचानक से ही भीड़ पर गोलियां बरसाई गयी थी वैसे ही न्यूज़ीलेंड में भी हुआ है।