मैथलीशरण गुप्त को हिंदी साहित्य का अनमोल रतन समझा जाता है. इन्होने घर पर रहकर ही बांग्ला, संस्कृत, मराठी और हिंदी सीखी. उत्तरप्रदेश के झांसी में जन्में मैथलीशरण गुप्त लोकसंग्रही कवि थे. इन्होने जन की संवेदनाओं को अपने काव्य में जगह दी.
आज की कविता में पढ़िए मैथलीशरण गुप्त की ये कविताः

भारत का झण्डा फहरै।
छोर मुक्ति-पट का क्षोणी पर,
छाया काके छहरै॥
मुक्त गगन में, मुक्त पवन में,
इसको ऊँचा उड़ने दो।
पुण्य-भूमि के गत गौरव का,
जुड़ने दो, जी जुड़ने दो।
मान-मानसर का शतदल यह,
लहर लहर का लहरै।
भारत का झण्डा फहरै॥
रक्तपात पर अड़ा नहीं यह,
दया-दण्ड में जड़ा हुआ।
खड़ा नहीं पशु-बल के ऊपर,
आत्म-शक्ति से बड़ा हुआ।
इसको छोड़ कहाँ वह सच्ची,
विजय-वीरता ठहरै।
भारत का झण्डा फहरै॥
इसके नीचे अखिल जगत का,
होता है अद्भुत आह्वान!
कब है स्वार्थ मूल में इसके ?
है बस, त्याग और बलिदान॥
ईर्षा, द्वेष, दम्भ; हिंसा का,
हदय हार कर हहरै।
भारत का झण्डा फहरै॥
पूज्य पुनीत मातृ-मन्दिर का,
झण्डा क्या झुक सकता है?
क्या मिथ्या भय देख सामने,
सत्याग्रह रुक सकता है?
घहरै दिग-दिगन्त में अपनी
विजय दुन्दभी घहरै।
भारत का झण्डा फहरै॥

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here