भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान में जाकर आतंकी संगठनों पर तगड़ी कार्रवाई की है। हमले के बारे में हर तरफ से कुछ न कुछ बयान आ रहे हैं। पाकिस्तानी संसद में भी जवाबी कार्रवाई की बात की जा रही है। इस हमले में मसूद अजहर का भतीजा युसूफ अजहर भी मारा गया है। उसके अलावा 200-300 आतंकियों के मारे जाने की खबर है। हमले कितना खतरनाक था उसके बारे में कुछ चश्मदीद गवाहों ने बताया है।

Image result for airstrike on pakistanलगा जैसे जलजला आ गया हो!

हमला बालाकोट, चिकोठ और मुजफ्फराबाद में हुआ है। बालाकोट में हुये हमले के बारे में लोगों ने बताया कि हमला बहुत खौफनाक था। हमले की आवाज से हम सबकी नींद टूट गई थी।

लगभग सुबह तीन बजे होंगे। हम सब सो रहे थे कि अचानक एक बहुत तेज आवाज आई। उससे हमारी नींद खुल गई, बाद में पता चला कि वो आवाजें धमाके की थीं। बहुत देर तक ऐसे ही धमाके होते रहे और फिर कुछ देर बाद आवाज आना बंद हो गई।

#Balakot: बालाकोट के प्रत्यक्षदर्शियों ने कहा, "ऐसा लगा जैसे जलजला आ गया हो"

धमाका और खामोशी

बालाकोट के रहने वाले मोहम्मद आदिल ने बताया कि धमाके बहुत तेज थे। हमें देखकर लगा कि जैसे कोई जलजला आ गया हो। सुबह हम उस जगह पर गये, जहां धमाका हुआ था। वहां कई जगह पर गड्ढे थे और मकान भी टूट गये थे। वहीं पास में एक आदमी भी जख्मी हालत में था।

बालाकोट के ही रहने वाले वाजिद शाह ने बताया कि मैंने भी आवाज सुनी थी। ऐसा लग रहा था कि रायफर से फायरिंग हो रही है। तीन बार धमाके की आवाज सुनाई दी, फिर सब शांत हो गया। इस हमले के बारे में विदेश सचिव ने जानकारी दी है कि हमले में कोई भी निर्दोष नहीं मारा गया। बालाकोट के ये कैंप घनी आबादी से दूर जंगलों मे थे। हमने लोगों की सुरक्षा को देखते हुये ये जगह चुनी थी।

इस खबर के इनपुट्स बीबीसी से लिए गए हैं।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here