सिनेमा। सिनेमा में भी बॉलीवुड वाला सिनेमा। बॉलीवुड में भी महंगे सितारों वाला सिनेमा। महंगे सितारों वाले सिनेमा में भी इतिहास पर आधारित सिनेमा। ये जो इतिहास पर आधारित सिनेमा होता है न, इसको पैकेज के रूप में सिर्फ़ विवाद मिलता है। चाहे वो पद्मावत हो या फिर जोधा-अकबर

अब इतिहास पर ही बेस्ड एक और फिल्म आ रही है। नाम है ‘तानाजी- द अनसंग वॉरियर’। ट्रेलर आ गया है, फिल्म का। काफी नामी-गिरामी सितारे हैं। सिंघम वाले अजय देवगन, डीडीएलजे वाली काजोल और ओमकारा वाले सैफ अली खान, फिल्म के खासम-खास चेहरे हैं।

किसकी कहानी पर आधारित है?

फिल्म बेसिकली तानाजी मालुसरे पर बेस्ड है। विकीपीडिया के अनुसार तानाजी मालुसरे, छत्रपति शिवाजी महाराज के घनिष्ठ मित्र और वीर निष्ठावान मराठा सरदार थे। तानाजी ने कोंढाणा किले को मुगलों से आजाद करवाया था। उनकी वीरता की गाथा को बताते हुए कहा जाता है कि जब तानाजी की युद्ध के समय ढाल टूट गयी थी तब उन्होंने अपने हाथ पर कपड़ा बांधा था और उस पर तलवार के वार सह कर वो युद्ध लड़ते रहे। उन्होंने इस युद्ध में उदयभान राठौड़ को मार गिराया था।

फिल्म में तानाजी का किरदार अजय देवगन और उदयभान राठौड़ का किरदार सैफ अली खान निभा रहे हैं।

विवाद किस बात पर हो गया है?

ट्रेलर के आने के बाद राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी के विधायक जीतेंद्र अव्हाड ने फिल्म के डायरेक्टर और प्रोड्यूसर्स के लिए एक ट्वीट किया है। ट्वीट फिल्म के डायरेक्टर ओम राऊत के नाम है। पहले ट्वीट देख लीजिये:

ट्वीट मराठी में है इसलिए हम इसका हिन्दी संस्करण आपको बता देते हैं। इस ट्वीट में लिखा है,

ओम राउत, मैंने आपकी ‘तान्हाजी’ फिल्म का ट्रेलर देखा। फिल्म के कुछ प्रसंगों में आपने जो अनैतिहासिक और गलत बातें ठूंस दी हैं, उन्हें जल्द से जल्द बदलें वरना इस मुद्दे पर मुझे अपने तरीके से ध्यान देना पड़ेगा। आप इसे धमकी भी समझ सकते हैं।

सीधी सी भाषा में ये समझिए कि जीतेंद्र अव्हाड का कहना है कि फिल्म में इतिहास के साथ छेड़-छाड़ किया गया है। डायरेक्टर और प्रोड्यूसर इसे समय रहते बदल लें वरना जीतेंद्र साहब उनके साथ कुछ न कुछ बहुत ‘बुरा’ कर देंगे। यह पहली बार हुआ है कि किसी नेता ने किसी फिल्म को लेकर धमकी दी है। इससे पहले संजय लीला भंसाली की ‘पद्मावत’ को लेकर हुए विवाद में करणी सेना ने बवाल मचाया था। करणी सेना कोई राजनीतिक पार्टी नहीं है बल्कि, एक चरमपंथी संगठन है। यही वजह है कि इस फिल्म का विवाद काफी इंटरेस्टिंग लग रहा है।

वैसे आपको जानकारी के लिए बता दें कि ये फिल्म इतिहास पर आधारित होने के साथ विवादों का भी इतिहास साथ में लेकर चल रही है। माने कि फिल्म पहले से ही पचड़े में फँसती रही है। ‘तान्हाजी- द अनसंग वॉरियर’ को लेकर चरमपंथी संगठन ‘संभाजी ब्रिगेड महाराष्ट्र’ ने भी मोर्चा खोल रखा है। संगठन का आरोप है कि इस फिल्म में छत्रपति शिवाजी महाराज की गलत छवि पेश की गई है।

संभाजी ब्रिगेड ने आरोप लगाया है कि फिल्म में शिवाजी की धर्मनिरपेक्ष छवि को बिगाड़ने की कोशिश की गयी है। संगठन का कहना है कि फिल्म के ट्रेलर में जो भगवा झण्डा दिखाया गया है उसमें ‘ॐ’ लिखा हुआ है, जोकि सही नहीं है।

तान्हाजी फ़िल्म का सीन, फोटो सोर्स- यूट्यूब

तान्हाजी फ़िल्म का सीन, फोटो सोर्स- यूट्यूब

अभी तक फिलहाल फिल्म के डायरेक्टर और प्रोड्यूसर का इस विवाद पर कोई बयान नहीं आया है। जैसे ही वो कुछ इस मामले पर बोलेंगे, हम आपको बता देंगे। तब तक सब्र रखिए और फिल्म का ट्रेलर देख लीजिये। लिंक दे दिये हैं:

ये भी पढ़ें- कौन है मोदी जी पर बन रही फिल्म ‘मन बैरागी’ में उनका किरदार निभाने वाला एक्टर?

[/fusion_text][/fusion_builder_column][/fusion_builder_row][/fusion_builder_container]