पहाड़ों के बारे में सोचता हूं तो एक सुकून छाने लगता है, मानो पहाड़ कह रहा हो कि मैं ही तुम्हारी जिंदगी हूँ। मैं हमेशा से बेफ्रिक घूमना चाहता था। ऐसे ही निकल पड़ो और कदमों से जहाँ नापते रहो। उसी बेफ्रिकी में मैं टिहरी नाप रहा था। टिहरी को मैं जानता था क्योंकि यहां एक डैम है जो एशिया का सबसे बड़ा डैम है। लेकिन यहां आया तो मुझे कुछ और ही मिल गया। पहाड़ों की गोद में बहती एक स्वर्ग की धारा। एक ठहरा हुआ दृश्य था जिसे देखकर मेरे बोल नहीं फूट रहे थे, आंखें चकाचौंध हो रही थी और मैं आकर्षण से अवाक था। मुझे मोहित किया था दूर तलक फैली टिहरी झील ने।

टिहरी डैम

टिहरी शहर को पैदल नाप लेने के बाद, रात का पहर और सुबह की लालिमा देखने के बाद हम 10 मार्च 2018 को टिहरी झील के लिये निकल पड़े। ये कोई टूरिस्ट प्लेस नहीं था सो यहां मंसूरी, नैनीताल और हरिद्वार जैसी लुटाई नहीं थी। हमारे पास ज्यादा सामान नहीं था सो आराम से बस में जाकर सीट से चिपक गये। बस घनसाली जा रही थी जो कि टिहरी डैम को पार करते हुए जाता है। टिहरी शहर से टिहरी झील की दूरी लगभग 18 किलोमीटर है। लेकिन मेरा दावा है कि उस 18 किलोमीटर के रास्ते में आप बोर नहीं हो सकते हैं।

इस बस के रास्ते में पहाड़ थे और पहाड़ पर मुझे नलों के पाइप नजर आ रहे थे। मुझे समझ नहीं आया कि ऐसा क्यों है? इस यात्रा का साथी मेरे दोस्त ने बताया कि गढ़वाल क्षेत्र में पानी की कमी है और टिहरी झील से पानी गांवों तक पहुंचाया जा रहा है।

पहाड़ों के रास्ते में आपको नहरे मिलती हैं जो सभी सूखी हुई सी थी। जिससे हम अंदाजा लगा रहे थे कि यहां पानी की कितनी कमी है। पहाड़ हमेशा ही अच्छे लगते हैं लेकिन यहां रास्तों मे आने वाले पहाड़ उजाड़ लग रहे थे। पहाड़ पर कुछ चिन्ह् दिख रहे थे जो पानी के गिरने से बन गये थे, जिसे पहाड़ी लोग गदेरों कहते हैं। मुझे इन पहाड़ों से ज्यादा गांव और खेत खूबसूरत लग रहे थे। सर्दियां थी इसलिये छोटे-छोटे बच्चे भी गर्म कपड़ों में नजर आ रहे थे। हम इन घुमावदार रास्तों से नीचे की ओर चले जा रहे थे। अब पहाड़ चोटीनुमा हो गये थे और हम बौने। यहां नीचे पेड़ ज्यादा थे जो रास्ते में छांव देने का काम कर रहे थे। लेकिन दिमाग में एक हीं बात चल रही थी की टिहरी डैम अभी और कितनी दूर?

Related image

टिहरी झील

कुछ ही देर बाद बस वाले ने हमें डैम के बिल्कुल गेट पर उतार दिया। हमारे एक तरफ पहाड़ थे तो दूसरी तरफ चमकदार झील जिसे हम अभी आंखों में नहीं उतार रहे थे, हम डैम को देखना चाहते थे। हमारे सामने दो गार्ड खड़े थे। हमने उनसे अंदर जाने की बात की तो उन्होंने हमसे इसका अनुमति लेटर मांगा। हमें इसके बारे में जानकारी नहीं थी। उन्होंने हमें टिहरी जाकर जिला प्रशासन से अनुमति लेकर आने को कहा। मैं दुखी हो गया और मेरा दोस्त भी।

टिहरी झील जिसे हम अभी तक बड़ी दीवार के कारण नहीं देख पाये थे जब वापस लौटे तो मेरे सामने एक नदी थी। नदी क्या अथाह सागर था। नदी अक्सर नीले रंग की होती है लेकिन टिहरी झील को देखकर लग रहा था कि किसी ने चटख हरा रंग मिला दिया है जिससे पूरी झील हरी होकर चमक रही है।

Image result for tehri lake rasta

मैं उस झील को चलते हुये देखते जा रहा था। वो सीन बिल्कुल फिल्म की तरह था। पहाड़ के पीछ़े पहाड़ और उसके पीछे भी पहाड़ और उनके बीच में एक नदी। ऐसा दृश्य दूर तलक था। मुझे निहारने में एक अलग सा सुकून आ रहा था। मैं केदारनाथ जरूर नहीं गया था लेकिन उससे भी सुंदर नजारे को मैं देख रहा था। मैंने आज तक इतना सुंदर नजारा कभी नहीं देखा था। मैं कवि होता तो झील को एक कविता में बदल देता।

झील के चारों तरफ पहाड़ थे और पहाड़ पर बसे कुछ घर दिख रहे थे। मैं उन लोगों को बड़ा खुशनसीब कह रहा था कि वे जन्नत जैसी जगह में रहते हैं।

कुछ देर वहां बिताने के बाद हम वापस पैदल चलने लगे। चलते-चलते हम एक तिराहे पर पहुंचे। जहां लिखा था टिहरी परियोजना क्षेत्र में आपका स्वागत है। हम उसके सामने वाले रास्ते पर चलने लगे। हम टिहरी झील का कोना पकड़कर चलने लगे। हमें हर मोड़ एक नई सुंदरता दे रही थी। ठीक वैसे ही जैसे किसी छोटे से पौधे से नई कपोल निकलती है।

टिहरी व्यू प्वाइंट

हमें टिहरी डैम देखना था लेकिन हमें अंदर जाने की अनुमति नहीं मिली। हमें वहीं एक व्यक्ति ने बताया कि आपको डैम व्यू प्वाइंट से दिखेगा। हमें उसके बारे में नहीं पता था लेकिन बस वाले को पता था हमने उससे कह दिया और उसने हमें पहुंचा दिया। यहां एक जालीदार दीवार थी। उस जालीदार दीवार में कुछ छेद थे और छेद से हम देख भी सकते थे और सहेज भी सकते थे।

हम व्यू प्वाइंट से टिहरी डैम को तो नहीं देख पा रहे थे लेकिन उस डैम का रास्ता दिख रहा था। यहां से सब कुछ छोटा दिख रहा था। मुझे न व्यू प्वाइंट में दिलचस्पी थी और न ही डैम में। मुझे तो पहाड़ और झील देखनी थी। जो मैं सामने से देख रहा था, वही अब पहाड़ के बराबर खड़े होकर देख रहा था। दृश्य वाकई सुंदर था। सौंदर्य की पराकाष्ठाओं को पार करता हुआ। यहां पहाड़ से लेकर, झील सब चमक रहे थे। उस चमक से मेरे चेहरे पर भी चमक आ गई थी।

टिहरी का यह घुमावदार सफर मुझे पसंद आ रहा था। सब तो था यहां सुंदरता, खुश करने के लिये प्रकृति और झील तो मानो कह रही हो, राही तेरा यही है ठिकाना। ये ठिकाना सबको पसंद आयेगा, है ही इतना खूबसूरत। लोग प्रकृति देखने मसूरी और नैनीताल जाते हैं और पाते हैं भीड़। उन लोगों को टिहरी आना चाहिये और मेरी तरह यहां खुद को खोते हुए पायेंगे।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here