भारत की राजनीति में अगर किसी को सबसे ज्यादा नुकसान होता है तो वह है किसान वर्ग। लेकिन किसान वर्ग के ही आसपास भारत की राजनीति चलती रहती है। हमेशा से किसानों को राजनीतिक फायदे के लिए यूज किया जाता है। चुनाव हो या फिर किसी तरह का राजनीति फायदा हर बार किसान को ही मोहरा बनाया जाता है। लेकिन भारत के किसानों के बारे में एक अनोखी बात सामने आई है और वो भी अमेरिका से।

इंटरनैशनल फूड पॉलिसी रिसर्च इंस्टिट्यूट, फोटो सोर्स: गूगल
इंटरनैशनल फूड पॉलिसी रिसर्च इंस्टिट्यूट, फोटो सोर्स: गूगल

बात दरअसल ये है – 

अमेरिका के वाशिंगटन में स्थित इंटरनेशनल फूड पॉलिसी रिसर्च इंस्टिट्यूट (IFPRI) एक संस्था है जो खेती कर रहे किसानों पर नज़र रखती है। यह संस्था आज कल यूपी में बेहतर हो रही किसानी के बारे में स्टडी कर रही है। यह पहली बार हुआ है जब अमेरिकी संस्था के सदस्य उत्तर प्रदेश में चल रहे ‘द मिलियन फार्मर्स स्कूल’ में खेती की तकनीक को समझने के लिए आए हैं।

‘द मिलियन फार्मर्स स्कूल’, फोटो सोर्स: गूगल
‘द मिलियन फार्मर्स स्कूल’, फोटो सोर्स: गूगल

दरअसल, उत्तर प्रदेश में किसानों को प्रशिक्षित करने के लिए एक कार्यक्रम चलाया जा रहा है। इस कार्यक्रम में कृषि विभाग के अधिकारी और वैज्ञानिक जाते हैं और कृषि विभाग से संबंधित वैकल्पिक खेती से लेकर नई तकनीक के माध्यम से होने वाली खेती की जानकारी देते हैं।  कृषि विभाग के मुताबिक अगले कुछ सालों में अमेरिकी संस्था की स्टडी में जो सुझाव आएंगे, उसको न सिर्फ यूपी बल्कि अमेरिका समेत दुनिया के कई देशों में लागू किया जाएगा।

शुक्रवार को कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने इस बात की जानकारी देते हुए कहा कि बेहतर खेती के लिए प्रदेश में शुरु की गई इस योजना को दुनिया के बड़े प्लेटफॉर्म पर पहचान मिल रही है। अब तक ‘द मिलियन फॉर्मर्स स्कूल’ के माध्यम से 30 लाख किसानों को इस तरह से प्रशिक्षित किया जा चुका है।

कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही, फोटो सोर्स: गूगल
कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही, फोटो सोर्स: गूगल

कृषि निदेशक सोराज सिंह ने कहा कि पिछले दो सालों से किसान पाठशाला के माध्यम से प्रदेश के तीस लाख किसानों को चिह्नित कर उनको प्रशिक्षित किया गया। कृषि विभाग की स्टडी में सामने आया है कि इस स्कूल से मिली जानकारी के बाद ही किसानों ने पिछले साल 23 लाख टन ज्यादा खरीफ की फसल की पैदावार की। इसके अलावा तिलहन का उत्पादन भी पिछले सालों की तुलना में बहुत ज्यादा हुआ है। यही वजह है कि सरकार इस स्कूल के अब अगले सेशन को शुरू करने जा रही है।

योगी आदित्यनाथ करेंगे अगले सेशन का शुभारंभ

रविवार को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यानाथ किसान पाठशाला की शुरुआत करेंगे। शुक्रवार को प्रेस कॉफ्रेंस के दौरान सूर्य प्रताप शाही ने बताया कि पाठशाला के चौथे चरण में किसानों को चार दिन बुआई सिंचाई, कीट रोग नियंत्रक समेत पशुपालन, मछली पालन, गन्ने की बेहतर खेती के साथ बहुत कुछ बताया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here