इरफ़ान खान के जाने का गम तो अन्दर से तोड़ हीं रहा था. इसी बीच ऋषि कपूर के जाने की खबर ने झकझोर कर रख दिया. अमूमन दुनिया में रोज हीं ऐसी खबरें आती रहती हैं, दुःख होता है. लेकिन खबरों का इतना असर आजतक नहीं हुआ. जाने क्यों ये असर गहरा होता जा रहा है. मैं, आप या हम सभी हीं कहीं न कहीं इरफ़ान की हर वो फिल्म देख लेना चाह रहे जिसमे उनकी एक झलक भर हीं क्यों न हो. मैं इरफ़ान का फैन रहा हूँ. कौन नहीं था, कौन नहीं है?

लेकिन ऐसा क्यों है कि इरफान के जाने का दुःख बड़ा गहरा चोट कर रहा है?

जीवन-मृत्यु दोनों हीं बेहद खुबसूरत घटनाएं हैं, जो लगातार घटित होती रहती हैं. जन्म के बाद पहले सांस से लेकर मृत्यु के पहले आखिरी सांस तक जीवन और मृत्यु दोनों साथ हीं होते हैं. हर सांस के साथ, हर पल. इरफ़ान हों या ऋषि कपूर दोनों के जाने का दुःख बराबर हीं है. लेकिन इरफान की कमी चोट कर रही है. अमिताभ बच्चन ने इसी बारे में एक ट्वीट किया है. उन्होंने ट्वीट करके समझाया है कि ऐसा क्यों हो रहा है?

अमिताभ बच्चन ने कहा कि एक उम्रदराज एक्टर की मृत्यु से ज्यादा एक यंग एक्टर की मृत्यु सता रही है. यह इसलिए है क्योंकि आप इरफान के खोए हुए मौकों के बारे में सोच रहे हैं. ऐसे मौके जो शायद सोचे भी नहीं जा सकते.

अमिताभ बच्चन ने इससे पहले शूजित सरकार द्वारा ट्वीट किए गए एक गाने को इरफान के ट्रिब्यूट में शेयर किया था. फिल्म पीकू के इस गाने के जरिए शूजित सरकार और सिंगर सौमिक दत्ता, इरफान को श्रद्धांजलि दे रहे हैं. अमिताभ ने कहा कि ये गाना सुनकर आपका दिल भर आएगा.

फिल्म पिकू का यह गाना सच में आपका दिल भर देगा.