फरवरी का ये महीना हमारे लिये नासूर बना कर आया है। पहले 14 फरवरी को आतंकी हमले में 44 जवान शहीद हो गये। जिसके बाद देश का माहौल शोक और गुस्से में बदल गया। शहीद जवानों के घर मातम पसरा हुआ है तो वहीं पाकिस्तान से बदला लेने की बात भी कही जा रही है। हम उस हमले से उबरे नहीं थे कि 16 फरवरी को एलओसी पर बम डिफ्यूज करते वक्त 1 मेजर शहीद हो गये। 18 फरवरी को पुलवामा से फिर बुरी खबर आई है। पुलवामा में चार जवान शहीद हो गये हैं।

Pulwama Encounter: एक मेजर सहित 4 जवान शहीद, जैश के दो आतंकी घेरे मेंपुलवामा हमले के बाद पूरी घाटी में सेना के जवान आतंकियों को खोज रहे हैं। कई लोगों को पूछताछ के लिये भी पकड़ा गया था।

सेना को आज पुलवामा में कुछ आतंकियों के छिपे होने की खबर मिली जिसके बाद 55 नेशनल राइफल्स, सीआरपीएफ और एसओजी ने एक साथ उन आतंकियों को पकड़ने की योजना बनाई। सर्च ऑपरेशन के दौरान आतंकियों ने सुरक्षा बलों पर हमला कर दिया। इसके बाद दोनों तरफ से जवाबी हमले होने लगे। इसी मुठभेड़ में 4 जवान शहीद हो गये।

 


 

मेजर डी.एस. डोंडियाल, हेड कान्सटेबल सेवराम, सिपाही अजय कुमार और हरि सिंह मुठभेड़ में शहीद हो गये। खबरों के अनुसार एक सिपाही और एक आम नागरिक भी घायल हुआ है जिनका आर्मी हाॅस्पिटल में इलाज चल रहा है। पूरे इलाके को सेना ने चारों तरफ से घेर लिया है। पूरे क्षेत्र की इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई हैं।

बताया जा रहा है कि 14 फरवरी को हुये हमले से इन आतंकवादियों का संबंध है। पूरे क्षेत्र को घेर लिया गया है। करीब 15 गांवों में सेना के जवान फैल चुके हैं। सेना के जवानों ने पूरी तरह से शिकंजा कस हुआ हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here