एक अच्छी खबर आई है. तो हमने सोचा कि ये खुशी आपके साथ भी बांटी जाये. 

कश्मीर घाटी में तैनात सीआरपीएफ और अन्य अर्धसैनिक बलों के जवान अब ड्यूटी ज्वाइन करने के लिए कमर्शियल फ्लाइट का इस्तेमाल करेंगे. गृह मंत्रालय ने एक आदेश जारी करते हुए कहा है की दिल्ली से श्रीनगर, श्रीनगर से दिल्ली, जम्मू से श्रीनगर और श्रीनगर से जम्मू सेक्टर पर जो भी सुरक्षा बल तैनात हैं उनसभी का आना जाना अब हवाई यात्रा के माध्यम से ही होगा. इस निर्णय से कांस्टेबल, हेड कांस्टेबल और सहायक उप-निरीक्षक के रैंक के लगभग 7.8 लाख अर्धसैनिक कर्मियों को लाभ मिलेगा.

प्रतिकात्मक तस्वीर फोटो सोर्स गूगल

चाहे वो ड्यूटी जॉइन करने जा रहा सैनिक हो या फिर छुट्टी पर घर जा रहा कोई सैनिक, सभी इस सेवा का लाभ उठा पाएंगे. पहले सीआरपीएफ के लिए कूरियर जैसी सर्विस में ही विमान का उपयोग किया जाता था. पर अब सैनिक भी विमान के जरिये ही आना जाना करेंगे.

सीआरपीएफ के काफिले पर हमले के बाद गृह मंत्री श्रीनगर गए थे वहीं से उन्होने इस बात की घोषणा की. इसके साथ ही उन्होने ने यह भी कहा की-

 “सीआरपीएफ़ क़ाफ़िले पर जिस तरह से फ़िदायीन हमला हुआ है उसे देखते हुए यह फ़ैसला हुआ है कि बड़े क़ाफ़िले के जाने के दौरान आम लोगों का ट्रैफ़िक थोड़े समय के लिए रोका जाएगा. आम लोगों को थोड़ी देर के लिए असुविधा हो सकती है, उसके लिए हम माफ़ी चाहेंगे.” 

आपको बता दें कि 14 फरवरी को सेना की एक टुकड़ी पर फिदायनी हमला हुआ था जिसमे 42 जवान शहीद हो गए थे. इस घटना के बाद यह फैसला लिया गया है.

वैसे सेना पर ज़्यादातर हमले तभी हुये हैं जब सैनिक टुकड़ियों में छुट्टी पर जा रहे होते थे या छुट्टी से वापस आ रहे होते थे. अगर यह कदम सरकार ने पहले उठा लिया होता तो शायद पुलवामा का हमला न होता और हमें अपने इतने सारे जवान नहीं खोने पड़ते। शायद आज औरंगज़ेब जैसे सैनिक भी ज़िंदा होते जिसे कश्मीर में मार दिया गया था. इस फैसले को सरकार की ओर से सराहनीय कदम बताया जा सकता है. फैसला थोड़े देर से आया लेकिन खुशी की बात यह है कि सैनिकों के सुरक्षा के बारे में सोचा जरूर गया. वो कहते हैं न कि देर आए दुरुस्त आए.

Facebook Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here