पूरे दो महीने बंद रहने के बाद ठीक ईद वाले दिन जब घरेलू उड़ानें शुरू हुई तो रांची के रहने वाले मोहम्मद इमरान के लिए यह खबर ईदी जितनी ही मिठास लेकर आई। दो महीनों से दिल्ली में फंसे इमरान ईद के मौके पर वापस रांची लौटने को लेकर बेहद उत्साहित थे, लेकिन दिल्ली एयरपोर्ट पर पहुंचते ही उनका यह उत्साह हताशा में बदल गया।

आज कई लोग काफी खुश हैं क्योंकि घरेलू विमान सेवाओं को आज से शुरू कर दिया गया है। कई लोग जो देश के अलग-अलग हिस्सों में फंसे हुए थे, उन्हें इस बात की उम्मीद थी कि शायद आज वो अपने घर को पहुंच जाएंगे। खुशी इतनी कि आज सुबह फ्लाइट्स थी तो कल रात को ही सभी एयरपोर्ट पहुंचे गए थे। लेकिन, जो यात्री दिल्ली एयरपोर्ट पर पहुंचे थे, उन्हें निराशा हाथ लगी है। उनका कहना है कि आखिरी वक्त में उन्हें बताया गया कि आपकी फ्लाइट कैंसिंल हो गई है।

रांची के रहने वाले इमरान दिल्ली एयरपोर्ट पर पहुंचे थे। जहां उन्हें आखिरी वक्त में स्टाफ से पता चला कि उनकी फ्लाइट कैंसिल हो गई है। इसके बाद इमरान की सारी खुशी गायब हो गई। इमरान का कहना है कि

‘मेरी सुबह सात बजे की फ्लाइट थी। मैं दो घंटे पहले ही एयरपोर्ट पहुंच चुका था लेकिन यहां आकर पता चला कि फ्लाइट कैंसिल हो गई है। इस बारे में एयर इंडिया ने पहले कोई खबर नहीं दी। न कोई एसएमएस आया और न ही कोई फोन, बल्कि ऑनलाइन चेक करने पर अभी वो फ्लाइट कैंसिल नहीं दिखा रहा। जबकि मुझे एयर इंडिया स्टाफ बोल चुका है कि फ्लाइट कैंसिल हो चुकी है।’

ऐसा नहीं है कि सभी उड़ाने कैंसिल हुई है। लेकिन, कई एयरपोर्ट पर कुछ फ्लाइट्स कैंसिल होने के कारण उस से यात्रा करने वाले यात्री काफी परेशान हो गए। दिल्ली से पोर्ट ब्लेअर, कोलकाता, हैदराबाद, मुंबई, इंदौर की सुबह की फ्लाइट कैंसिल हो गई। उधर, मुंबई में भी ऐसा ही आलम था। गुवाहाटी की फ्लाइट कैंसिल होने की सूचना हुई तो यात्री मायूस हो उठे।

दिल्ली एयरपोर्ट पर 82 उड़ानों को रद्द कर दिया गया है। पहले नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने 190 टेक आफ और 190 लैंडिंग का अनुमान जताया था, लेकिन अब 118 विमानें लैंडिंग और 125 टेक आफ करेंगी। 82 विमानों को रद्द कर दिया गया है। कैंसिलेशन के पीछे राज्यों की ओर से कम विमानों की आवाजाही की इजाजत वजह बताई जा रही है। यही नहीं कई फ्लाइट कैंसिल कर दी गई हैं और कई अन्य फ़्लाइट्स का टाइम दस-बारह घंटे तक पीछे किया जा चुका है।

वैसे इस मामले में एक अधिकारी का कहना है कि वो सभी फ्लाइट्स रोक दी गई, जिनमें जाने वालों की संख्या काफी कम है। या तो टिकट ही बुक नहीं हुए या फिर लोग एयरपोर्ट तक नहीं पहुंचे। अधिकतर फ्लाइट्स इसी कारण लेट हुई हैं। हैदराबाद से लेकर मुंबई तक, सभी जगह जाने वालों की संख्या काफी कम है इसलिए फ्लाइट्स को कम्बाइन किया जा रहा है। जिन यात्रियों के फ्लाइट कैंसिल हुई है, उनका कहना है कि इस बारे में हमें कोई जानकारी नहीं दी गई थी। कम से कम एक एसएमएस या फोन कॉल कर इसकी जानकारी दे दिया जाता तो, शायद इतनी परेशानी नहीं उठानी पड़ती।

वैसे सबके दिमाग में यही चल रहा था कि आखिर इस कोरोना जैसी महामारी में घरेलू विमाने शुरु हो रही हैं तो सरकार की तैयारियां कैसी होगी? आपको बता दें कि एयरपोर्ट पर आम दिनों से ज्‍यादा सुरक्षा दिखी और कर्मचारी भी यात्रियों को बाकायदा गाइड करने के लिए तैनात हैं। अंदर जाने से पहले ही यात्रियों का लगेज सैनिटाइज किए जा रहे हैं, ऑटोमैटिक सैनिटाइजर डिस्‍पेंसर लगे हैं और लोगों को दूरी बनाकर रखने के लिए बार-बार लाउडस्‍पीकर से अनाउंसमेंट भी हो रहे हैं। एयरपोर्ट पर शुरुआती माहौल सहज और सामान्य दिखा, पीपीई, ग्लव्स, मास्क से मुस्तैद यात्री बाकायदा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए बारी-बारी से एयरपोर्ट में प्रवेश करने के लिए लाइनों में लगे थे।