दिल्ली में चुनाव प्रचार के दौरान एक ऐसी घटना सामने आई है जिससे पूरी दिल्ली में हंगामा खड़ा हो गया है। चुनावों में विपक्षी उम्मीदवार/प्रत्याशी पर आरोप-प्रत्यारोप का दौर कोई नई बात नहीं है। उसी की एक झलक फिलहाल इन दिनों दिल्ली में देखने को मिल रही है। आम आदमी पार्टी की प्रत्याशी आतिशी मार्लेना का आरोप है कि गौतम गंभीर ने उनके नाम पर एक पर्चा बंटवाया है जिसमें काफी अभद्र शब्दों का प्रयोग किया गया है। पर्चे में शब्दों का स्तर कितना घटिया और गिरा हुआ है उसका अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते है कि आतिशी खुद प्रेंस कॉफ्रेस में पर्चे को पढ़ते वक्त रो पड़ी थी।

प्रेंस कॉफ्रेंस के दौरान रो पड़ी आतिशी मार्लोना, फोटो सोर्स: गूगल
प्रेंस कॉफ्रेंस के दौरान रो पड़ी आतिशी मार्लेना, फोटो सोर्स: गूगल

इस पर्चे की सच्चाई क्या है यह तो जांच होने पर ही पता लगेगा पर अगर ऐसा हुआ है तो ये काफी शर्मनाक है। किसी महिला प्रत्याशी के ऊपर इस तरह के आरोप लगाए जा रहे हैं जो उसके सम्मान को ठेस पहुंचा रहे हैं तो, इसे राजनीति का सबसे निचला स्तर कहा जाना चाहिए।

क्या लिखा है पर्चे में?

वायरल हुए पर्चे में आतिशी के लिए भद्दी टिप्पणी की गई है।

आतिशी एक मिली जुली नस्ल की पैदाइश हैं। उन्होंने आंध्र प्रदेश के एक क्रिश्चियन से शादी की है, जो बीफ खाता है।  आतिशी आंध्र प्रदेश के एक सुदूर गांव के स्कूल में पढ़ाती थीं, जहां उन्हें स्कूल के एक दूसरे टीचर के साथ शारीरिक सम्बन्ध बनाते हुए पकड़ा गया था। पर्चे में ये भी लिखा गया है कि दबाव के कारण उस आदमी को आतिशी से शादी करनी पड़ी। जब आतिशी ने सिर्फ एक प्राइमरी स्कूल में पढ़ाया है, तो वो दिल्ली कि एजुकेशन पॉलिसी कैसे ड्राफ्ट कर सकती हैं। पर्चे में उन्हें वेश्या कहा गया है।

मनीष सिसोदिया की रखैल कहा गया है। कहा गया है कि वो अपने पति के साथ इसलिए नहीं रहतीं क्योंकि मनीष सिसोदिया उनकी सभी जरूरतों को पूरा करते हैं। एक शादीशुदा औरत की ज़रूरतें भी। सिसोदिया को अनुसूचित जाति का बताया गया है। ये भी कहा गया है कि उनकी मां के अवैध सम्बन्ध का वो नतीजा हैं। ये भी कहा गया है कि अतिशी भी उनके ही बच्चे को जन्म देंगी।

अगर ऊपर लिखी लाइनों पर विश्वास नहीं हो रहा है तो एक बार मनीष सिसोदिया का यह ट्वीट भी देख लीजिए। शायद आपकी आंखे खुल जाए और दिमाग काम करना शुरु कर दे।

अतिशी मार्लेना का आरोप है कि यह पर्चा गौतम गंभीर और उनकी पार्टी ने बटवाएं है। हालांकि इस बात का अभी कोई पुख्ता सबूत नहीं मिला जिससे इस बात की पुष्टि हो सके। इस पर्चे को लेकर आम आदमी पार्टी ने सभी ओर से गौतम गंभीर और बीजेपी को घेरना शुरु कर दिया है। मनिष सीसोदिया ने ट्वीटर पर गंभीर के उपर ही आरोप लगाते हुए कहा कि गंभीर आपको शर्म आनी चाहिए, जो आपने यह शर्मनाक काम को अंजाम दिया है। ईस्ट दिल्ली के लोग हमे और आतिशी को अच्छी तरह से जानते हैं। आपने इस तरह का काम करके खुद का कैरेक्टर बता दिया है।

केजरीवाल ने भी इस मामले को काफी शर्मनाक बताया। केजरीवाल ने अपने ट्वीटर पर लिखा-

कभी उम्मीद नहीं थी कि गौतम गंभीर इस स्तर तक गिर सकते हैं। आप लोग अगर ऐसे लोगों को वोट देंगे तो फिर महिलाएं कैसे सुरक्षित रह सकती हैं? आतिशी आप स्ट्रांग रहो। मैं समझ सकता हूं कि आपके उपर क्या बीत रही होगी लेकिन हमें इन्हीं ताकतो के खिलाफ लड़ना है।

लंबे वाद विवाद के बाद गौतम गंभीर ने भी इसका जवाब दे दिया है। गौतम गंभीर ने दो-दो ट्वीट किया है। ट्वीट में चैलेंज नम्बर एक और चैलेंज नम्बर दो करके लिखा है। अपने पहले ट्वीट में गौतम गंभीर ने लिखा-

मैं केजरीवाल और आतिशी को चुनौती देता हूं कि अगर दोनों यह साबित कर दें कि यह पर्चा बांटने का काम मेरा है तो मै अपनी उम्मीदवारी वापस ले लुंगा लेकिन अगर आप यह साबित नहीं कर पाएँ तो आपलोगों को राजनीति छोड़ देनी चाहिए। केजरीवाल जैसे लोगों के मुख्यमंत्री होने को लेकर मै काफी शर्मिंदा हूं।

अपने दूसरे ट्वीट में गौतम गंभीर ने कहा कि-

जिस तरह की गंदी सोच आम आदमी पार्टी की है। अब समय आ गया है कि पहले उनके ही झाड़ू से उनकी सोच को ही साफ किया जाए।

इस पूरी घटना के बाद आतिशी मार्लोना ने भी गंभीर से कुछ सवालों के जवाब जानने की कोशिश की हैं। आतिशी मार्लोना ने एक प्रेस वार्ता किया जिसमें उन्होंने उस पर्चे को दिखाया। जिस पर्चे को लेकर यह सब फासाद शुरु हुआ है। मार्लोना ने कहा कि मुझे इस बात का अफसोस है कि गौतम गंभीर जैसे लोग इतने निचले स्तर की राजनीति कर रहे हैं। जब गंभीर राजनीति में आए थे तो मैने हीं उनका स्वागत किया था कि चलो अब अच्छे लोग भी राजनीति में आने लगे हैं जिससे भारतीय राजनीति की तस्वीर अच्छी होगी। लेकिन मुझे नहीं पता था कि गंभीर का खुद का स्तर इतना नीचे गिर जाएगा। प्रेंस कॉफ्रेंस में उस पर्चे को पढ़ते वक्त मार्लोना रोने लगीं। एक बार आप भी यह वीडियो देख लीजिए-

मार्लोना के इस वीडियो के बाद सोशल मीडिया पर तरह-तरह की प्रतिक्रियाएँ आनी शुरु हो गईं। बीजेपी के कपिल मिश्रा ने ट्वीट कर यह भी कह दिया कि इस पूरे मामले में शायद मीडिया कुल 10 सवालों का जवाब पूछना भुल गई है। इसलिए हम उन्हें याद दिला देते है। इस बयान के बाद उन्होंने ट्वीटर पर एक पोस्ट डाला जिसमें कुल 10 सवाल पूछे गए हैं। आइए पहले उनके ट्वीट को ही देख लेते हैं।

कपिल मिश्रा ने आम आदमी पार्टी के उपर ही सवाल खड़े कर दिए। कपिल मिश्रा ने यह भी कहा कि यह पर्चा चाहे जिसने भी लिखा हो लेकिन उसकी सोच कितनी घटिया और निचले स्तर की है, आप खुद सोच सकते हैं। उसकी सोच और उसके मन में आतिशी को लेकर कितनी गंदी भावना छिपी होगी।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here