एक एक्ट्रेस अचानक सुर्खियों में आ गई है. एक्ट्रेस भोजपुरी फिल्मों की सुपर स्टार है. नाम है काजल राघवानी. चिंता मत कीजिए इसकी वजह कोई स्कैंडल नहीं है. तो वजह क्या है? दरअसल, वह एक बीमारी की वजह से इन दिनो ख़बरो में हैं. इस बीमारी के चलते वह पिछले डेढ़ साल से परेशान हैं. इस बीमारी को पॉलिसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (PCOS) कहते हैं.

जितना खतरनाक इसका नाम है. उतने ही खतरनाक इससे होने वाली दिक्कतें हैं. इस बीमारी के शिकार व्यक्ति को दर्जन भर से ज्यादा दिक्कतों का सामना करना पड़ता है. डिप्रेशन, डाइबीटीज, हाइ बल्डप्रेशर, ओवरी कैंसर Etc.

भोजपुरी अभिनेत्री काजल राघवानी,फोटो सोर्स: गूगल
भोजपुरी अभिनेत्री काजल राघवानी,फोटो सोर्स:गूगल

काजल ने इसके बारे में अपने इंस्टाग्राम पर बताया है. वो कहती हैं, इससे वो पिछले डेढ़ साल से पीड़ित हैं और इसमें शर्माने या छिपाने जैसा कुछ भी नहीं है.

https://www.instagram.com/p/B2J6PybhbZJ/?utm_source=ig_web_copy_link

काजल पहली अभिनेत्री नहीं है

काजल से पहले ये बीमारी केदारनाथ की हीरोइन सारा अली खान को भी हो चुकी है. इसके बारे में उन्होंने खुद एक शो के दौरान बताया था. PCOS के कारण उनके लिए फिल्म के दौरान वजन कम करना कितना मुश्किल हो गया था.

महिलाओं को होती है इससे परेशानी

Poly Cystic Ovary Syndrome महिलाओं के हार्मोंस को इम्बेलेंस करता है. यह एक मेटाबॉलिक डिसऑर्डर है. इसके चलते महिलाओं के असमय पीरियडस आने की समस्या से जूझना पड़ता है. उनके अंदर एंड्रोजन नाम के हार्मोन की मात्रा बढ़ जाती है.

ये हार्मोन आमतौर में पुरुषो में पाया जाता है. इस बीमारी के चलते ओवरी मेंपानी से भरी कई छोटी-छोटी ग्रंथियां बनने लगती हैं, जिसे पॉलिसिस्टिक ओवरी कहते हैं.

इसके लक्षण क्या हैं?

इस बीमारी के तकरीबन दस लक्षण होते हैं. वजह बढ़ना, थकान, तेजी से बाल झड़ना, बाल पतले होना, बांझपन, मुहांसे, सिर दर्द Etc.

इसके बचने के उपाय भी हैं

Poly Cystic Ovary Syndrome को नियंत्रित करने के लिए, क्विंट हिंदी के अनुसार वजन कंट्रोल करना बेहद जरूरी है. लांसेट जर्नल में 2017 में पब्लिश एक रिसर्च का हवाला दिया है. इसमें बताया गया है कि वजन कम करके PCOS के सभी लक्षणों में सुधार किया जा सकता है.

मैक्स सुपर स्पेशिएलिटी की महिला रोग विशेषज्ञ डॉक्टर मंजू खेमानी ने भी कहा है कि –

लाइफस्टाइल में बेहतर बदलाव और खानपान का ख्याल रख कर PCOS से बचा जा सकता है. साथ ही इससे होने वाली समस्या को कम किया जा सकता है.

इनके अलावा मैक्स हेल्थकेयर में कंसल्टेंट और न्यूट्रिशनिस्ट मंजरी चंद्रा के मुताबिक

PCOS इंसुलिन की कमी से होने वाला हार्मोनल असंतुलन है. डाइट कार्बोहाइड्रेट और शुगर इनटेक को कंट्रोल या कम करके और फाइबर व एंटीऑक्सीडेंट बढ़ा कर इसे बेहतर तरीके से कंट्रोल किया जा सकता है.

फोटो सोर्स: गूगल
फोटो सोर्स: गूगल

क्या खाए खाने में?

  • खाने में हाई फाइबर वाली चीजें शामिल करें. जौसे- ब्रोकली, फूलगोभी, पालक.
  • बादाम, अखरोट, ओमेगा और फैटी एसिड से भरपूर चीजें खाएं.
  • तीन बार अधिक भोजन करने की बजाए कम मात्रा में पांच बार खाना खाएं. इससे मेटाबॉलिज्म ठीक रहेगा.
  • वजन पर नियंत्रण रखें.
  • हफ्ते में 5 दिन रोज करीब आधे घंटे तक एक्सरसाइज करें.
  • धूम्रपान से बचें.

आज की भागती-दौड़ती ज़िंदगी में हर कोई किसी न किसी बीमारी से ग्रस्त है. कोई इसे छिपा कर डिप्रेशन में जा रहा है. तो कई काजल जैसे लोग भी हैं जो इसको ले कर अवेयरनेस फैला रहे हैं. ताकि लोग इनसे प्रेरणा लेकर इस तरह की बीमारी से बाहर निकल सके. वैसे, बीमारी से जुड़े सुझावों को अपना कर कोई भी महिला इससे सकती है.