भाजपा के नेता अपने काम की वजह से कम लेकिन अपनी हरकतों की वजह से ज्यादा फेमस हो रहे हैं. कोई अधिकारी को बैट मारता है, तो कोई शराब के नशे में तमंचे पर डिसको करता है. वहीं भाजपा कर्रवाई के नाम पर सब को निलंबित करती रहती है. और पार्टी पर कोई सवाल न उठे, इसके लिए पार्टी आरोपी नेता का निजी मामला बताकर पल्ला झाड़ लेती है।

ताजा मामला ये है कि उत्तराखंड के खानपुर से भाजपा विधायक कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन का यूट्यूब पर एक वीडियो वायरल हो रहा है. वीडियो में विधायक सहाब डांस कर रहे हैं. पर विवाद डांस पर नहीं है. बल्कि डांस करने के तरीके को लेकर है. वो शराब के नशे में नाच रहें हैं. इसके अलावा वो कभी बंदूक तो कभी पिस्टल हवा में लहरा रहे हैं. इतना ही नहीं सभ्य पार्टी के ये असभ्य नेता अपने राज्य उत्तराखंड के लिए अभद्र भाषा का भी इस्तेमाल कर रहे हैं. जिसको लेकर भाजपा की चारो तरफ थू-थू हो रही है.

Image result for भाजपा विधायक तमंचे पे डांस

भाजपा विधायक, कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन, तमंचा लेकर नाचते हुए,फोटो सोर्स: गूगल

भाजपा का क्या कहना है?

भाजपा के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी अनिल बलूनी का कहना है कि, उन्हें पहले ही पत्रकारों को धमकाने के मामले में निलंबित कर दिया गया था. पुलिस का कहना है कि इस मामले में जांच कर कार्रवाई की जाएगी. वहीं भाजपा अध्यक्ष अजय भट्ट का कहना है कि पार्टी इसके लिए विधायक चैंपियन को नोटिस भेजेगी. उन्होंने तो यहां तक कह दिया कि हो सकता है कि उन्हें पार्टी से बाहर कर दिया जाए.

विधायक कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन की चैंपियन बातें?

कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन ने कहा है कि किसी ने उनके खिलाफ साजिश की है. वे सभी बंदूक लाइसेंसी थे और भरे नहीं थे. मैंने किसी पर बंदूक नहीं तानी या किसी को धमकाने की कोशिश नहीं कर रहा था. उन्होंने सवाल किया है कि, क्या शराब पीना और लाइसेंसधारी बंदूक रखना गुनाह है?

Image result for भाजपा विधायक चैंपियन

भाजपा विधायक, कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन, फोटो सोर्स: गूगल

अब उनको कौन बताए शराब पीना या लाइसेंसी बंदूक रखना गुनाह नहीं है. लेकिन क्या एक सभ्य पार्टी के विधायक को असभ्य हरकत करना शोभा देता है? खासकर इस सोशल मीडिया के दौर में जहां एक छोटी सी बात आग की तरह फैलती है. बस यहीं वो फंस गए. सत्ता का नशा आदमी को कैसे अंधा कर देता है विधायक साहब इसके जीते-जागते मिसाल हैं.

पिछले काफी समय से बीजेपी के लिए फ़जीहत का कारण बने विधायक चैंपियन को पार्टी ने अनुशासनहीनता के आरोप में पिछले महीने तीन माह के लिए निलंबित कर दिया था. लेकिन अब जिस तरह का कांड वो किए हैं लगता है कि बीजेपी की नईया डूबा कर ही दम लेने वाले हैं। राजनीति में आकर नेता की चोला पहनने के बाद जिस तरह का काम कुछ नेता लोग कर रहे हैं, ऐसा लग रहा है कि इन्हें ना ही कानून का डर है और ना ही पुलिस का भय। अब करे भी तो क्या करे  लोगोंं का मानना है कि कानून और पुलिस को तो राजनेताओं के इशारों पर ही काम कर रही है।