तब की बात

व्हाट्सएप और फेसबुकिया ग्रुप पढ़ कर अगर नेहरू को गयासुद्दीन ग़ाज़ी समझने लगे हो, तो मालिक सही जगह पधारे हो। नेहरू-गाँधी की कुंडली के साथ-साथ पूरे इतिहास का पोथी-पन्ना यहीं मिलेगा।

टाइम मशीन होती तो आपको पीछे ही ले जाते। चूँकि वो तो है नहीं, इसलिए इतिहासकारों की किताबों का हवाला देते हुए करेंगे ‘तब की बात’।

  • जब सोनिया गांधी ने कहा था कि वो भीख मांग लेंगी लेकिन राजनीति में कदम नहीं रखेंगी

जब सोनिया गांधी ने कहा था कि वो भीख मांग लेंगी लेकिन राजनीति में कदम नहीं रखेंगी

साोनिया गांधी, जिन्हें आज भारतीय राजनीति का पुरोधा माना जाता है। आज भी वह राजनीति में उतनी

  • कहानी देश के पहले एनकाउंटर की जिसने पूरे देश को हिला कर रख दिया था

कहानी देश के पहले एनकाउंटर की जिसने पूरे देश को हिला कर रख दिया था

साल 1982, तारीख थी 11 जनवरी। जगह, बडाला का अंबेडकर कॉलेज। छह पुलिसवालों की टीम में से

  • रानी लक्ष्मीबाई के जन्मदिन पर उनकी रानी से मदार्नी बनने की कहानी

रानी लक्ष्मीबाई के जन्मदिन पर उनकी रानी से मदार्नी बनने की कहानी

हम सबने अपने बचपन में सुभद्रा कुमारी चौहान की एक कविता जरूर पढ़ी होगी। ‘खूब लड़ी

  • इंदिरा गांधी के फैसले पर बवाल मच गया था

इंदिरा गांधी का वो फैसला जिसका विरोध खुद उनकी पार्टी कांग्रेस ने किया था

इंदिरा गांधी ने 24 जनवरी 1966  को प्रधानमंत्री पद की शपथ ली। कांग्रेस अध्यक्ष के.कामराज से एक

  • Rani Laxmibai

रानी लक्ष्मीबाई ने लड़ते-लड़ते जान दे दी, पर अंग्रेजों के हाथ नहीं लगीं

हम सबने अपने बचपन में सुभद्रा कुमारी चौहान की एक कविता जरूर पढ़ी होगी। 'खूब लड़ी मर्दानी

2019-11-18T18:07:24+05:30November 18th, 2019|तब की बात|0 Comments