जेबिन चार्ल्स तमिलनाडु के कन्याकुमारी जिले में रहते हैं. इन्होंने सोशल मीडिया पर मोदी जी की एक फोटो पोस्ट की. फोटो में कुछ बदलाव किए गए थे. ये पोस्ट की हुई फोटो दिखी भाजपा नेता नानाजिल राजा को. उन्होंने इसकी शिकायत वडेसरी (तमिलनाडु) पुलिस थाने में दर्ज कराई. जिसके बाद ये मामला कोर्ट पहुंच गया.

दरअसल, मोदी जी की फोटो को मॉर्फ्ड किया गया था. यानि फोटो के साथ छेड़-छाड़ की गई थी. कुछ बदलाव किए गए थे संभवतः मज़ाकिया या आपत्तिजनक. पर इस बात को लेकर हम पुष्टि नहीं कर रहे हैं कि फोटो के साथ किस तरह की छेड़-छाड़ की गई थी? क्योंकि जेबिन चार्ल्स ने इस फोटो को ब्लॉक कर दिया है.

सोशल मीडिया
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, फोटो सोर्स: गूगल
पर पोस्ट डिलीट करने से पहले ये मामला कोर्ट पहुंच गया. सोमवार को जेबिन चार्ल्स ने मद्रास हाईकोर्ट की मदुरै पीठ में हलफनामा दिया है. जिसके बाद उन्हें अग्रिम जमानत दी गई है. उन्होंने अपने हलफनामें में लिखा है कि,

मैंने उस फोटो को ब्लॉक कर दिया है क्योंकि, मुझे अहसास हुआ कि किसी भी नागरिक के पास प्रधानमंत्री का अपमान करने का अधिकार नहीं है. उन्होंने कहा कि वह आपत्तिजनक फोटो को लेकर स्थानीय अखबार में माफीनामा जारी करने के लिए तैयार हैं. IPC की धारा 505 (2) और आईटी एक्ट 2000 की धारा 67बी के तहत जेबिन चार्ल्स पर मुकदमा दर्ज किया गया है.

हालांकि, जमानत के साथ-साथ जस्टिस जीआर ने चार्लस को सजा भी सुनाई है. सजा में कहा गया है कि,

यदि वह (जेबिन चार्ल्स) इस एक साल में सोशल मीडिया इस्तेमाल करते हुए पाए गए तो अभियोजन पक्ष (शिकायतकर्ता) उनकी जमानत रद्द कराने के लिए अदालत का रुख कर सकता है. जस्टिस स्वामीनाथन ने निर्देश दिया कि उन्हें न्यायिक न्यायालय में एक माफीनामा जमा करना होगा.

लेकिन, सवाल ये उठता है कि अगर पीएम मोदी की जगह चार्ल्स ने किसी और नेता की फोटो के साथ ऐसा कुछ किया होता, तब भी उन पर इसी तरह की कार्रवाई की जाती? क्योंकि बीते कुछ सालों से देखा जा रहा कि देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू से लेकर इंदिरा, राजीव, सोनिया और राहुल गांधी जैसे तमाम बड़े कांग्रेसी नेताओं तक की मॉर्फ्ड फोटो धड़ल्ले से वायरल हो रही है. कई बार ये फोटोज इतनी भद्दी होती हैं कि, जिसे देख कर किसी भी सभ्य आदमी को शर्म आ जाए. वो अलग बात है कि इस अभद्र समाज में अब कोई सभ्य बचा नहीं है. लोग कहते हैं कि बीजेपी वालों के पास तो मॉर्फ्ड फोटो बनाने वालों की पूरी ट्रोल आर्मी है. यकीन नो हो तो कांग्रेसी नेताओं से पूछ सकते हैं. आई रिपीट ऐसा ‘लोग’ कहते हैं.

ये भी पढ़ें: फेसबुक से लड़कियों की फोटो चुरा कर पोर्न साइट्स पर डालता था, पुलिस ने धर लिया