अलवर ज़िले में पुलिस की आँखों में नींद इतनी भरी हुई है कि वह ड्यूटी करते-करते सो जा रहे हैं. इतने इत्मीनान से वह अपनी नींद पूरी करने में लगे हैं कि उनके खुद के थाने से गुंडे अपराधियों को लेकर फरार हो जा रहे हैं. जिस वक़्त यह घटना घटी उस वक़्त पुलिस अपनी ड्यूटी करने के बजाय अन्य सभी कामों में व्यस्त थी जैसे की नींद पूरी करना, नहाना, शिफ्ट चेंज करना आदि. जब पुलिस अपनी व्यस्तता में व्यस्त थी तभी कुछ गुंडे एके-47 लेकर थाने में घुस गए और फायरिंग शुरू कर दी इसके साथ ही अपने एक साथी को भी थाने से भगा ले गए. भागा हुआ अपराधी हरियाणा का मोस्ट वांटेड क्रिमिनल विक्रम गुर्जर है.

इस मामले के बाद दो हेड कांस्टेबल रामअवतार और विजयपाल को टर्मिनेट कर दिया गया है जबकि एक डिप्टी SP जनेश तनवर, SHO शुगन सिंह और दो पुलिस ऑफिसर को सस्पेंड कर दिया गया है. इन सब के बाद जो बाकी पुलिस स्टाफ बचा था उनको पुलिस लाइन भेज दिया गया. फिल्मों की तरह तीन गाड़ियां आई जिसमें से 15 से 20 लोग बाहर उतरे और फायरिंग करना शुरू कर दिया. अपराधियों ने लगभग 40 राउंड फायरिंग की. पुलिस इस घटना को समझ पाती तब तक अपराधी पुलिस स्टेशन के अंदर घुसे और साथी अपराधी विक्रम गुर्जर को अपने साथ ले गए. पुलिस वालों के हिसाब से हमले से पहले रेकी की गयी थी.

विक्रम गुर्जर/फोटो सोर्स गूगल

जब अपराधी अपनी कार लेकर भागने लगे तब कुछ दूर जाकर उनकी कार ख़राब हो गयी. सोया हुआ क़ानून शायद काफी गहरी नींद में था इसी वजह से उठने में थोड़ा लेट हो गया .इसी बीच अपराधियों ने अपनी खराब कार को छोड़ दिया और वहां खड़े पिकअप वैन में सवार होकर आराम से भाग खड़े हुए. कुछ दूर जाकर पिकअप वैन भी खराब हो गयी तब उनहोंने गन पॉइंट पर एक स्कॉर्पियो लूटी और हरियाणा की तरफ भाग खड़े हुए. इसको पुलिस की नाकामी से ज्यादा उनका आलस बोलेंगे. जब हाथ में इनके डंडे होते हैं और सामने लाचार आम आदमी खड़ा होता है तब इनके हाथ की फुर्ती देखनी चाहिए पर यहाँ एके-47 के सामने इन्होंने चूं तक नहीं की.

इस घटना से एक दिन पहले ही पुलिस ने अपराधी को गिरफ्तार किया था और एक दिन के अंदर ही उसके साथी उसे जेल से भगा ले गए. पुलिस ने उसके पास से 31.90 रूपए कैश बरामद किया है. विक्रम गुर्जर पर 5 लाख रूपए का इनाम था. वैसे आपको बता दें कि पुलिस ने बहुत कोशिश की उन अपराधियों को पकड़ने के लिए पर वह पकड़ नहीं पाए. अगर पुलिस वालों ने कोशिश खुद को जगाने की कि होती तो शायद आज इनामी बदमाश भी पुलिस के चंगुल में होता और उसकी पल्टन भी.           

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here