अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी और मायावती की बहुजन समाजवादी पार्टी ने गुरुवार को सीटों का डिस्ट्रिब्यूशन कर लिया है. सपा 37 सीटों पर और बसपा 38 सीटों पर लड़ेगी. तीन सीटें राष्ट्रीय लोकदल (आरएलडी) के खाते में गई हैं. अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी और मायावती की बहुजन समाजवादी पार्टी ने गुरुवार को आने वाले लोकसभा चुनावों में सीटों पर चुनाव लड़ने का फैसला किया.

सपा 37 सीटों पर और बसपा 38 सीटों पर लड़ेगी. अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी और मायावती की बहुजन समाजवादी पार्टी ने गुरुवार को आने वाले लोकसभा चुनावों में सीटों पर चुनाव लड़ने का फैसला किया. सपा 37 सीटों पर और बसपा 38 सीटों पर लड़ेगी. 80 लोकसभा सीटों वाला उत्तर प्रदेश देश का सबसे बड़ा सियासी राज्य है.

गठबंधन ने गांधी परिवार का गढ़ अमेठी-रायबरेली छोड़कर सभी सीटों पर चुनाव लड़ने का फैसला किया है. सीटों की घोषणा भले ही गुरुवार को हुई हो लेकिन कौन कितनी सीटों पर लड़ेगा इसका फ़ैसला 4 जनवरी को दिल्ली में ही हो गया था. मायावती और अखिलेश ने पहले ही यह ऐलान कर दिया है कि यह गठबंधन उनका सिर्फ 2019 लोक चुनाव भर तक के लिए नहीं है. इसके बाद का विधान सभा चुनाव भी वे दोनों साथ में ही लड़ेंगे.

सपा और बसपा का चुनावी चिह्न फोटो सोर्स गूगल

सपा कोटे की 37 सीटों में कैराना, मुरादाबाद, संभल, रामपुर, मैनपुरी, फिरोजाबाद, बदायूं, बरेली, लखनऊ, इटावा, कानपुर, कन्नौज, झांसी, बांदा, प्रयागराज, कौशाम्बी, फूलपुर, फैजाबाद, गोंडा, गोरखपुर, आजमगढ़, वाराणसी और मिर्जापुर शामिल है. वहीं बसपा सहारनपुर, बिजनौर, नगीना, अलीगढ़, आगरा, फतेहपुर सीकरी, धौरहरा, सीतापुर, सुल्तानपुर, प्रतापगढ़, कैसरगंज, बस्ती, सलेमपुर, जौनपुर, भदोही और देवरिया से चुनाव लड़ेगी.

मायावती और अखिलेश यादव फोटो सोर्स गूगल

सपा के पास बड़ी सीटें-    

  • प्रधानमंत्री की सीट वाराणसी
  • जनरल वी के सिंह कि सीट गाजियाबाद
  • मेनका गांधी की पीलीभीत                                                     
  • राजनाथ सिंह की लखनऊ
  • योगी आदित्यनाथ का गृह क्षेत्र गोरखपुर,एटा
  • मैनपुरी, कन्नौज और आजमगढ़ 

बसपा के पास मुख्य सीटें-

  • वरुण गढ़ी की सीट सुल्तानपुर
  • कलराज मिश्र की देवरिया
  • महेश शर्मा की गौतमबुद्ध नगर
  • मनोज सिन्हा की गाजीपुर
मुलायम सिंह यादव फोटो सोर्स गूगल

इस गठबंधन से मुलायम सिंह यादव ज़्यादा खुश नहीं दिख रहे है जो की कल हुए प्रेस कॉन्फ्रेंस में दिख रहा था. उन्होने यह भी सवाल किया की क्यों अखिलेश ने आधी सीट मायावती को दे दी? इस बार बीजेपी बनाम कॉंग्रेस बनाम गठबंधन होता दिख रहा है. हालकी सपा दबी ज़बान में कॉंग्रेस का समर्थन कर रही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here