महिलाएं खेलों में जब देश का नाम रोशन करती हैं तो यह बहुत ही गर्व की बात बन जाती हैं सिर्फ इसलिए नहीं कि उन्होंने खेल जीता होता है बल्कि उन्होंने अपनी पहचान बनाने में बेहद संघर्ष के दिन जिये होते हैं। तभी आज वो हर क्षेत्र में ऊंचाइयाँ छू पा रही हैं। महिलाओं ने सिर्फ खेल में ही नाम रोशन नहीं किया बल्कि, विज्ञान के क्षेत्र में, मीडिया के क्षेत्र में या फिर कोई भी जगह रही हो, महिलाएं हर तरफ बुलंदियों को छू रही हैं।

कल जब हम सब भारतीय वर्ल्ड कप देखने में बिज़ी थे तब इटली में भी वर्ल्ड यूनिवर्सियार्ड चैंपियनशिप चल रहा था जहां भारतीय महिला एथलीट ‘दुती चंद’ ने भारत को गोल्ड मेडल जिताया।

शुरू से जानते हैं

दुती चंद पहली भारतीय महिला गोल्ड मेडलिस्ट बनी। दुती चंद वर्ल्ड युनिवर्सिटी स्पोर्ट्स के दौरान 100 मीटर रेस में गोल्ड मेडल जीत कर इस चैंपियनशिप में जीतने वाली पहली भारतीय महिला बन गई हैं। उनकी इस जीत से पूरा देश बहुत खुश है साथ ही देश के प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति ने भी उनकी इस जीत के लिए बधाई दी। दुती सिर्फ 23 साल की हैं और उन्होंने 11.32 सेकंड के रिकॉर्ड के साथ इस रेस को जीता। वहीं स्विट्जरलैंड की डेल पोंटे 11.33 सेकेंड के साथ दूसरे स्थान पर रही।

दुती की इस जीत से देश तो खुश है ही लेकिन कुछ टाइम पहले जब दुती ने अपने समलैंगिक होने की बात कही थी तब उनका हर तरह से विरोध किया गया था। उनके अपनों ने भी इस फैसले का विरोध किया और उन्हें कई तरह से परेशान भी किया गया। वह समय उनके लिए बेहद चुनौती भरा रहा था लेकिन उन्होंने अपने इस चैंपियनशिप में बिना कुछ सोचे सिर्फ खेल पर फोकस किया और उनकी इस पॉज़िटिव सोच ने उन्हें गोल्ड मेडल भी जिताया। अपनी इस जीत की खुशी को ज़ाहिर करते हुए उन्होंने ट्वीट भी किया

दुती से पहले 2015 में इंदरजीत सिंह ने शॉटपुट में गोल्ड जीता था। ओडिशा की दुती चंद इंटरनेशनल कॉम्प्टिशन में गोल्ड मेडल जीतने वाली हिमा दास के बाद दूसरी भारतीय ऐथलीट बनी हैं। हिमा ने पिछले साल वर्ल्ड जूनियर एथलेटिक्स चैम्पियनशिप में 400 मीटर रेस में गोल्ड जीता था। दुती ने एशियाई खेल 2018 में 100 और 200 मीटर में सिल्वर मेडल जीता था। इस बार भी दुती चंद युनिवर्सिटी खेलों में गोल्ड मेडल जीतने वाली दूसरी भारतीय खिलाड़ी बन गई। दुती की इस सुनहरी जीत पर देश के राष्ट्रपति ने उन्हें बधाई दी और कहा –

‘युनिवर्सिटी खेलों में 100 मीटर स्प्रिंट रेस जीतने पर दुती को बधाई। यह भारत का इन खेलों में पहला गोल्ड मेडल है और हम काफी गौरवान्वित हैं। इस प्रदर्शन को ओलिंपिक में बरकरार रखें।’

खेल मंत्री किरण रिजिजू ने भी दुती को बधाई देते हुये कहा,

‘मैं बचपन से इन खेलों को फॉलो कर रहा हूँ। आखिरकार भारत को स्वर्ण पदक मिला। दुती चंद को विश्व युनिवर्सिटी खेलों में स्वर्ण जीतने पर बधाई।’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी दुती को बधाई देते हुये ट्वीट किया और कहा –

दुती की इस शानदार जीत से सब बहुत खुश हैं और कहीं-न-कहीं सब इस बात से भी खुद को तसल्ली दे रहे हैं कि क्रिकेट में भले ही इंडिया वर्ल्ड कप न जीत पायी लेकिन दुती ने ऐसे खेल में भारत को गोल्ड जीता दिया जो आज से पहले कोई महिला नहीं जीत सकी थी।