संजीव गुप्ता, अगर आपने यह नाम नहीं सुना है तो सुन लीजिए और जान लीजिए। इनकी तारीफ में क्या लिखा जाए, शायद इनके जिम्मे जितने भी पूर्व क्रिकेटर हैं उनके खिलाफ शिकायत करने की जिम्मेदारी है और साहब अपनी इस जिम्मेदारी को वह बखुबी निभा रहे हैं। दरअसल, संजीव गुप्ता मध्य प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन के लाइफ टाइम मेंबर हैं। इन्हें लगता है कि राहुल द्रविड़ हितो के टकराव वाला काम किया है। और इसलिए उन्होंने इसकी शिकायत BCCI से कर दिया। इन्हीं के कहने पर बीसीसीआई के एथिक्स अधिकारी डीके जैन ने राहुल द्रविड़ को नोटिस जारी किया है। इस मामले में राहुल द्रविड़ को एक हफ्ते का समय दिया गया है ताकि वो अपनी सफाई पेश कर सके।

Image result for राहुल द्रविड़
राहुल द्रविड़, फोटो सोर्स: गूगल

हितो का टकराव एक ऐसा मामला है जिसमें कोई व्यक्ति एक समय में दो तरह के कार्य नहीं कर सकता है यानि अगर कोई व्यक्ति किसी संस्था या ऑर्गनाइजेशन के साथ जुड़ा है और कही दूसरे ऐसे जगह पर काम कर रहा है जिससे उसके पहले संस्था का नाम खराब हो रहा है तो उसके खिलाफ यह नोटिस जारी किया जा सकता है।   

क्या है पूरा मामले?  

मध्य प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन के लाइफ टाइम मेंबर संजीव गुप्ता ने राहुल द्रविड़ के खिलाफ शिकायत दर्ज की है जिसमें उन्होंने लिखा है कि

राहुल द्रविड़ नेशनल क्रिकेट एकेडमी के डायरेक्टर हैं, इंडिया अंडर-19 और इंडिया-A टीम के कोच भी है साथ ही साथ इंडिया सिमेंट्स में वाइस प्रेसिडेंट भी हैं जो कि आईपीएल में चेन्नई सुपर किंग के मालिक भी है। ऐसे में वो ‘हितों के टकराव’ वाला काम कर रहे हैं जो उन्हें नहीं करना चाहिए।

Image result for राहुल द्रविड़
राहुल द्रविड़ और सौरभ गांगुली, फोटो सोर्स: गूगल

इसी बात को लेकर पूर्व क्रिकेटर सौरव गांगुली के अलावा हरभजन सिंह भी बिफर पड़े लेकिन, इससे पहले डीके जैन ने इस मामले में जो कहा उसे जान लेते हैं। जब यह शिकायत की गई तो इस बारे में राहुल द्रविड़ को नोटिस जारि किया गया जिसमें उन्हें इस मामले में स्पष्टिकरण देने के लिए दो हफ्तों का समय दिया गया। अगर इन दो हफ्तों में राहुल द्रविड़ सफाई देते हैं तो उसी अधार पर तय किया जाएगा कि राहुल द्रविड़ पर कार्यवाई की जाएगी या नहीं।

सौरभ गांगुली ने इसी बात को लेकर ट्वीट किया है। गांगुली ने ट्वीट कर लिखा-

‘भारतीय क्रिकेट में यह नया फैशन है… हितों का टकराव… खबरों में रहने के लिए शानदार तरीका है… भगवान… भारतीय क्रिकेट की मदद करो… द्रविड़ को हितों के टकराव पर बीसीसीआई के एथिक्स ऑफिसर से नोटिस मिला है।’

गांगुली के इस ट्वीट के बाद हरभजन सिंह ने भी उनके ट्वीट पर रिट्वीट करते हुए लिखा-

‘सचमुच? मैं नहीं जानता यह कहां जा रहा है… आपको भारतीय क्रिकेट के लिए उनसे बेहतर व्यक्ति नहीं मिल सकता। इन लेजेंड्स को नोटिस देना उनकी बेइज्जती करने के जैसा है… क्रिकेट को उसकी बेहतरी के लिए उनकी सेवाओं की जरूरत है… हां भगवान भारतीय क्रिकेट को बचा लो।’ 

हरभजन सिंह और सौरभ गांगुली ने जो ट्वीट किया उसमें एक चीज कॉमन है। यानि एक लाइन जो दोनों ने कही है कि हे भगवान भारतीय क्रिकेट को बचा लो। यह लाइन पढ़ने में काफी आसान है लेकिन, इसकी गहराई को समझ पाना उतना ही मुश्किल। राहुल द्रविड़ इस समय भले ही भारतीय क्रिकेट टीम के सदस्य ना हो लेकिन भारतीय क्रिकेट का भविष्य और नींव दोनों की जिम्मेदारी उनके ही कंधों पर है।

राहुल द्रविड़ इस वक्त अंडर-19 से और भारत-ए से खिलाड़ियों को तरासते हैं और फिर वही खिलाड़ी भारतीय टीम में नवदीप सैनी, शुभमन गील और पृथ्वी शॉ जैसे सीतारे बन कर उभरते हैं। ऐसे में इतने बड़े लेजेन्ड के खिलाफ नोटिस भेजने से पहले डीके जैन को भी एक बार सोचना चाहिए। राहुल द्रविड़ की छवि जिस तरह से रही है चाहे द वॉल हो या फिर मिस्टर भरोसेमंद, आज भी उसमें कुछ बदलाव नहीं है। ऐसे में द्रविड़ में खिलाफ नोटिस जारी करना एक खिलाड़ी के अपमान करने के बराबर ही है।

Image result for राहुल द्रविड़
राहुल द्रविड़, फोटो सोर्स: गूगल

ये सारा फसाद एक ऐसे इंसान के कारण हो रहा है जो इसके पहले भी कई क्रिकेटरों के खिलाफ हितो का टकराव को लेकर शिकायत कर चुका है। चाहे वो सचिन तेंदुलकर हो या फिर सौरभ गांगुली या कपील देव सबलोग इस इंसान के भुक्तभोगी हैं। अब ऐसे में अगर उन्होंने राहुल द्रविड़ के खिलाफ शिकायत कर दी है तो कोई नया काम नहीं किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here