हाफ़िज़ सईद, इंटरनेशनल टेररिस्ट। 26/11 मुंबई हमले का मास्टरमाइंड। आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा का फाउंडर और जमात-उद-दावा का लीडर।

जिसको पकड़ने के लिए अमेरिका तक लंबे टाइम से जद्दोजहत में लगा हुआ है। भारत और अमेरिका काफी वक़्त से मिल कर पाकिस्तान पर दवाब बना रहे है कि हाफ़िज़ सईद को गिरफ्तार कर लिया जाए। अब शायद पाकिस्तान पर दवाब ज्यादा हो गया था, जिसके चलते हाफ़िज़ सईद को गिरफ्तार कर लिया गया है। ऐसी ख़बर आई है। बताया जा रहा है कि पाकिस्तान के काउंटर टेररिज़्म डिपार्टमेन्ट ने हाफ़िज़ सईद को पकड़ कर न्यायिक हिरासत में भेज दिया है।

आतंकी हाफ़िज़ सईद, फोटो सोर्स- गूगल

पूरी ख़बर

बुधवार के दिन लाहौर से गुजरानवाला जाते हुए रास्ते में हाफ़िज़ सईद को पकड़ लिया गया। हाफ़िज़ सईद पर आतंकी संगठनों के लिए फंड जुटाने, 26/11 मुंबई हमले की प्लानिंग और कई आतंकी संगठनों के साथ मिल कर मुख्य भूमिका निभाने के ढेरों आरोप हैं। फिलहाल हाफ़िज़ सईद को साल 2009 में एक आतंकी गतिविधि में शामिल होने के आरोप में गिरफ्तार किया है। पर, साथ ही उस पर पहले से दर्ज़ 23 मुकदमों को लेकर भी कार्यवाही की जाएगी।
आतंकी संगठनों को फंडिंग करने के चलते हाफ़िज़ सईद को फाइनेंसियल एक्शन टास्क फोर्स ने जुलाई में दूसरी बार ग्रे लिस्ट में शामिल किया था। जिसके बाद उस पर नज़र रखी जाने लगी थी। साथ ही अंतर्राष्ट्रीय दवाबों के चलते पाकिस्तान ने हाफ़िज़ सईद के खिलाफ कार्रवाई करनी शुरू कर दी थी। कुछ समय पहले भारत ने पाकिस्तान को एक डोजियर सौंपा था जिसके बाद पाकिस्तान को मजबूरी में ये कदम उठाना पड़ा। हाफ़िज़ सईद के साथ जमात-उद-दावा के 12 अन्य नेताओं के खिलाफ भी मामले दर्ज़ किए गए हैं।

फरवरी में हुए पुलवामा हमले के बाद भारत ने पाकिस्तान को घेरना शुरू कर दिया था। पाकिस्तान में रह रहे आतंकियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के लिए भारत ने कई बार अन्य देशों के साथ मिलकर पाकिस्तान को फटकार लगाई है। जिसके बाद पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने इस पर कदम उठाने शुरू कर दिये।

भारत सरकार की तरफ से क्या कहा गया?

भारत सरकार फिलहाल इस ख़बर को सही मानने से इंकार कर रही है। भारत का कहना है कि इसके पहले भी पाकिस्तान हाफ़िज़ सईद जैसे आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई करके बाद में उन्हें छोड़ चुका है। इस बार पाकिस्तान का ये कदम केवल इमरान की छवि सुधारने के लिए उठाया गया है। इमरान खान कुछ दिन बाद पश्चिम देशों के दौरे पर निकलने वाले हैं। वहाँ उनसे आतंकवाद पर नियंत्रण और उसके खिलाफ खड़े होने के मामले मे पाकिस्तान की भूमिका को लेकर सवाल किए जाएंगे। जिनसे बचने के लिए उन्होंने सिर्फ दिखावे के लिए ये कार्रवाई की है।

ख़ैर.. जो भी है पर, फिलहाल पाकिस्तानी मीडिया से आई इस खबर पर भारत यकीन करके चल रहा है कि हाफ़िज़ सईद को गिरफ्तार कर लिया गया है। अब उस पर आगे क्या कार्रवाई की जाएगी इसकी जानकारी जब आएगी तब देखेंगे। फिलहाल हाफ़िज़ साइड को गिरफ्तार करने के लिए – वेल डन पाकिस्तान।