आज से 100 साल पहले शायद ही किसी ने सोचा होगा कि एक दृष्टिहीन लड़की जिसे सुनाई भी न देता हो वो भी पढ़-लिख कर अपना नाम दुनिया भर में रोशन कर सकती है। लेकिन ऐसा हुआ है. जिसे करने वाली लड़की आज ही के दिन यानि 27 जून 1880 को संयुक्त राज्य अमेरिका के अलाबामा में जन्मी थी। नाम था हेलेन केलर। हेलेन दुनिया की पहली दृष्टिहीन और बधिर (बहरी) ग्रेजुएट महिला बनी. हेलेन जब सिर्फ 19 महीने की थी जब उन्हें किसी अनजान बीमारी ने अपनी चपेट में ले लिया। जिसके चलते उनकी देखने और सुनने की  शक्ति ख़त्म हो गई. लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी और जो किया वो आगे चल कर इतिहास बन गया।

लेन केलर का जीवन और विरासत, फोटो सोर्स: गूगल
हेलेन केलर का जीवन और विरासत, फोटो सोर्स: गूगल

हेलेन केलर ने न केवल अपनी ग्रेजुएशन पूरी की बल्कि वह ऐसी महिला भी थी जो अपनी लिखने की विलक्षण प्रतिभा के कारण दुनिया भर में जानी गईं। हेलन केलर ने अपने एक प्रोफेसर के प्रोत्साहन पर लिखना शुरू किया और सात पुस्तकें लिखी, जिनमें उनकी आत्मकथा ‘The Story of My Life 1903’ भी है। इस पुस्तक को मूल रूप से ब्रेल भाषा में लिखा गया था जिसे बाद में 50 से अधिक अन्य भाषाओं में अनुवाद किया गया। इस पुस्तक में हेलेन केलर के बचपन से लेकर 21 वर्ष की उम्र में कॉलेज पहुंचने तक के सफर को लिखा गया है।

अपनी सफलता के प्रति अडिग रहने वाली हेलेन का मनना था कि ‘दृष्टिहीन होने से ज्यादा बुरा लक्ष्यहीन होना है’ हेलेन केलर को आज हम एक महान लेखिका, समाज सेविका, कुशल प्रवक्ता एवं राजनीतिज्ञ के रूप में याद करते हैं। लेकिन उनके जीवन से जुड़े कई किस्से है जिनसे लोग आज भी अछूते है। आज हेलेन केलर के जन्मदिन के मौके पर हम उन्हीं के कुछ अनसुने किस्सों में से कुछ आपको बताने वाले हैं।

हेलेन पर कई फिल्में बन चुकी है

हेलेन का जीवान था ही इतना अभूतपूर्व की उस पर देर-सवेर फिल्म बननी ही थी। उन्हीं में से कुछ फ़िल्में है जो आप देख सकते हैं या देख चुके होंगे। लेकिन आपको पता नहीं होगा कि वह फिल्म हेलेन की कहानी बयान करती है। 23 मई 1962 में आई फिल्म ‘द मिरेकल वर्कर’ पहली फिल्म थी जो हेलेन की आत्मकथा ‘द स्टोरी ऑफ़ माय लाइफ’ से प्रेरित होकर बनायी गई थी। जिसके लिए इस फिल्म को ऑस्कर भी मिला था। 2005 में संजय लीला भंसाली की फिल्म ब्लैक भी हेलेन केलर के जीवन से प्रेरित होकर बनाई गई थी। इस फिल्म में रानी मुखर्जी और अमिताभ बच्चन मुख्य किरदार में थे। इन सभी फिल्मों में हेलेन के शुरूआती जीवन के बारे बताया गया कि किस तरह उनके शिक्षक ने उनके जीवन को नई दिशा दी।

हेलेन की उपलब्धियां

सिक्कों से लेकर स्टाम्प तक हेलेन ही हेलेन नज़र आएंगी जब उनके सम्मान में किए गए कार्यों को याद किया जायेगा। 1999 से 2008 तक, संयुक्त राज्य के टकसाल ने स्मारक सिक्कों की एक श्रृंखला जारी की थी, जिसमें क्वाटर के रिवर्स के लिए अनोखें डिजाइनों पर 50 अमेरिकी राज्यों में से प्रत्येक को चित्रित किया गया था। यह 50 राज्य ‘क्वार्टर कार्यक्रम’ के नाम से जाना जाता है।

हेलेन की तस्वीर वाला सिक्का, फोटो सोर्स: गूगल
हेलेन की तस्वीर वाला सिक्का, फोटो सोर्स: गूगल

हेलेन केलर को सम्मानित करने के लिए अलबामा ने अपने राज्य के क्वार्टर में उनकी तस्वीर छापी थी। 1980 में, हेलेन केलर के जन्म की सौवीं वर्षगांठ को मनाने के लिए, संयुक्त राज्य डाक सेवा ने केलर, उनके शिक्षक और उनकी दोस्त ऐनी सुलिवन के नाम का एक स्टैम्प जारी कर उन्हें सम्मानित किया था। 1999 में, टाइम पत्रिका ने केलर को 20 वीं सदी के 100 सबसे प्रभावशाली लोगों की सूची में भी शामिल किया था। उन्हें 1971 में अलबामा महिला हॉल ऑफ फेम में भी शामिल किया गया था।

हेलेन को भी प्यार हुआ था

हेलेन केलर के बारे में बहुत ही कम लोग जानते हैं कि उनके जीवन में भी एक ऐसा समय आया था जब वह किसी पुरुष के प्यार में पड़ीं गई थी। यह 1916 की बात है जब हेलेन 36 साल की थी। उस समय उनकी दोस्त सुलिवन के बीमार पड़ने के कारण उन्हें अस्थायी सचिव रखना पड़ा था।

हेलेन अपने ही सचिव से करती थी प्यार, फोटो सोर्स: गूगल
हेलेन अपने ही सचिव से करती थी प्यार, फोटो सोर्स: गूगल

यह सचिव था पीटर फ़गन जिसके साथ जल्द ही बिना किसी को बताये उन्होंने सगाई भी कर ली थी लेकिन परिवार के विरोध के कारण वह उनसे शादी नहीं कर सकी। वह उनके साथ रहना चाहती थी, लेकिन उनके परिवार को ऐसा लगता था की एक अपंग लड़की को अपनी शादी नहीं करनी चाहिए। इस विषय पर उन्होंने अफसोस जताते हुए कहा था कि, ‘अगर मैं देख सकूँ तो, मैं सबसे पहले शादी करुँगी।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here