कल राजकोट में किसका दिन था। भारत का या फिर रोहित शर्मा का। अगर रोहित शर्मा का दिन था तो, भारत का दिन भी कह सकते हैं। क्योंकि जिस दिन रोहित शर्मा का बल्ला चलता है, उस दिन और किसी बल्लेबाज को खेलने की जरुरत नहीं होती है। हुआ भी वही। बाग्लादेश के खिलाफ दूसरे टी-20 मैच में पहले टॉस जीता भारत ने और फिर गेंदबाजी करने का फैसला किया। इसकी पहले से ही उम्मीद थी लेकिन, फिल्डिंग करते वक्त एक बार फिर सवाल के रडार में पकड़े गए ऋषभ पंत।

बांग्लादेश की पारी का 6वां ओवर चल रहा था। गेंदबाजी कर रहे थे यजुवेंद्र चहल। बांग्लादेश के बल्लेबाज लीटन दास बल्लेबाजी कर रहे थे। तभी ओवर की तीसरी बॉल पर लीटन दास आगे निकल कर कवर के ऊपर से चौका मारने के लिए बढ़े। पीछे खड़े ऋषभ पंत ने बॉल कलेक्ट किया और स्टंम्प आउट कर दिया। पूरी टीम जश्न मनाने लगी। लेकिन, थर्ड अंंपायर ने पाया कि पंत ने जो बॉल कलेक्ट किया था, वो स्टंम्प के आगे से ही कलेक्ट कर लिया है। इसलिए लीटन दास को नॉट आउट करार दिया गया।

https://twitter.com/CricketVideos15/status/1192449889046675457?ref_src=twsrc%5Etfw%7Ctwcamp%5Etweetembed%7Ctwterm%5E1192449889046675457&ref_url=https%3A%2F%2Fwww.amarujala.com%2Fphoto-gallery%2Fcricket%2Fcricket-news%2Find-v-ban-rishabh-pant-misses-chance-of-liton-das-stumping-collected-ball-in-front-of-the-stumps

पंत के ऊपर रोहित शर्मा का गुस्सा साफ देखा जा सकता था। वैसे रोहित शर्मा के बारे में कहा जाता है कि वह फील्ड में हमेशा शांत दिखते हैं लेकिन, कल का सीन कुछ अलग था। क्योंकि बांग्लादेश के ओपनर्स ने आते ही धागे खोलना शुरु कर दिए थे। बांग्लादेश की टीम देखते ही देखते 7 ओवर्स में 60 रन बना चुकी थी। ऐसे में पहला विकेट जब गिरा, तब जाकर सिचुएशन थोड़ी नॉर्मल हुई।

अभी ये सब चल ही रहा था कि बांग्लादेश की पारी का 13वां ओवर आया। गेंद एक बार यजुवेंद्र चहल के ही हाथों में थी। सौम्य सरकार थे, बल्लेबाज। चहल ने अपने ओवर की अंतिम गेंद फेंकी। सौम्य सरकार आगे बढ़ कर गेंद को मारने की कोशिश में मिस कर गए और बाकी कसर विकेटकीपर ने पूरा कर दी। पंत ने सौम्य सरकार को स्टंम्प आउट कर दिया, जो साफ-साफ बड़े स्क्रीन पर दिखाई दे रहा था। थर्ड अंपायर ने गलती से नॉट आउट वाला बटन दबा दिया। इसके बाद ही रोहित शर्मा बड़े स्क्रीन की तरफ इशारा करके कुछ बोलने लगे। उनके बोलने से ऐसा बिल्कुल लग रहा था कि वो गाली दे रहे हैं। हालांकि, बाद में थर्ड अंपायर ने सौम्य सरकार को आउट करार दे दिया।

इतना सब होने के बाद रोहित शर्मा जब बैटिंग करने आए तो, मैदान पर आते ही उन्होंने अपना इरादा बता दिया था। रोहित शर्मा का गुस्सा बांग्लादेश के गेंदबाजों पर पूरी तरह दिखाई दिया। एक या दो ओवर को छोड़ दिया जाए तो ऐसा शायद ही कोई ओवर था, जिसमें बाउंड्री न आई हो। रोहित शर्मा ने मैदान के चारों तरफ रन बटोरे। उनका वश चलता तो 154 रनों का लक्ष्य केवल 12 ओवर में ही पूरा हो जाता। लेकिन, जब रोहित शर्मा 83 रन पर पहुंचे तो, एक कमजोर सा शॉट खेल कर लॉन्ग ऑन पर कैच कर दे बैठे।

बांग्लादेश के खिलाफ खेले गए अर्धशतकीय पारी के दौरान रोहित शर्मा और शिखर धवन, फोटो सोर्स: गूगल
बांग्लादेश के खिलाफ खेले गए अर्धशतकीय पारी के दौरान रोहित शर्मा और शिखर धवन, फोटो सोर्स: गूगल

अपना 100वां टी-20 मैच खेल रहे रोहित शर्मा को मैन ऑफ द मैच दिया गया। लेकिन, पूरे मैच में एक पछतावा जरुर रहा कि एक ओवर के शुरुआती 3 गेंदों पर छक्के लगाने के बाद बाकी के तीन गेंद को खेलने में वो चूक गए। रोहित शर्मा ने जिस अंदाज में उस ओवर की शुरुआत की थी, ऐसा लग रहा था कि युवराज सिंह के एक ओवर में बनाए गए 6 छक्कों के रिकॉर्ड का कैलकुलेशन कर रहे थे। भारत ने यह मैच बांग्लादेश से 8 विकेट से जीत लिया और सीरीज 1-1 से बराबरी कर ली।