भारत में इस वक्त अगर कोई गेंदबाज है जो किसी भी परिस्थिति में भारत को विकेट दिला सकता है तो वो, आर अश्विन हैं। ऐसे में आर अश्विन ने साउथ अफ्रीका के खिलाफ खेले गए पहले टेस्ट में भी 8 विकेट लेकर यह बताया कि अभी भी उनके जैसा कोई नहीं है। लेकिन पिछले कुछ महीनों में उनको लेकर कई सारे सवाल खड़े हुए हैं। सवाल इसलिए नहीं कि वह अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पा रहे थे बल्कि, सवाल ये था कि लगातार अच्छे प्रदर्शन करने के बाद भी उन्हें टीम से बाहर क्यों रखा जाता है।

टीम से अश्विन को बाहर करने से सुनील गावस्कर नाराज हैं

स्टार स्पोर्ट पर कमेंट्री करते वक्त सुनील गावस्कर ने कहा था कि आर अश्विन के साथ टीम इंडिया अच्छा नहीं कर रही है। बीते कुछ सालों से BCCI ने जिस तरह से उनके साथ व्यवहार किया था वह कही से भी सही नहीं है। जब आपका साथ देने के लिए टीम में कोई नहीं होता है और आपके साथ गलत व्यवहार किया जाता है तो, इसका सीधा असर आपके खेल और मनोबल पर पड़ता है। अश्विन के साथ भी वही हुआ है।

विकेट लेने के बाद अश्विन, फोटो सोर्स: गूगल
विकेट लेने के बाद अश्विन, फोटो सोर्स: गूगल

साउथ अफ्रीका के साथ खेले गए पहले टेस्ट में अश्विन ने 8 विकेट लेकर एक बार फिर अपने आप को बताया कि वह क्यों भारतीय टीम के लिए महत्वपूर्ण हैं। अश्विन 8वां विकेट लेने के साथ ही श्रीलंका के सबसे सफल स्पिनर मुथैया मुरलीधरन की बराबरी कर ली। मुरधीरन ने 66 मैचों में 350 विकेट पूरे किए थे।

अश्विन ने मुरलीधरन की रिकॉर्ड की बराबरी की

मुरलीधरन ने साल 2001 में बंग्लादेश के खिलाफ यह कारनामा किया था। अश्विन भी अपना 66वां टेस्ट मैच खेल रहे थे। अश्विन ने कई दिग्गजों को पछाड़ कर यह कारनामा किया है। अश्विन से पहले 350 विकेट लेने वालों में श्रीलंका के मुथैया मुरलीधरन (66 मैच), न्यूजीलैंड के रिचर्ड हेडली (69 मैच), साउथ अफ्रीका के गेंदबाज डेल स्टेन (69 मैच), डेनिस लिली (70 मैच), ग्लेन मैक्ग्रा (74 मैच) का नाम शामिल हैं।

आर अश्विन, फोटो सोर्स: गूगल
आर अश्विन, फोटो सोर्स: गूगल

अश्विन अब नहीं देखते टीवी पर क्रिकेट

एक समय था जब अश्विन क्रिकेट को ही अलविदा कहने वाले थे। अश्विन साउथ अफ्रीका के खिलाफ खत्म हुए टेस्ट मैच के पहले दिन खेल खत्म होने के बाद इंटरव्यू दे रहे थे। उसमें एक सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने कहा था कि मेरे दो छोटे बच्चे हैं। रात को वो दोनों जल्दी नहीं सोते। लेकिन, सच बताऊं तो अब मैं टीवी पर क्रिकेट मैच नहीं देखता। इसका कारण है कि मैं क्रिकेट खेलना चाहता हूं और फिलहाल टीम से बाहर हूं इसलिए मैं दूसरी चीजों पर ध्यान देता हूं। अब क्रिकेट देखने से किताबें पढ़ना और आर्कियोलॉजो का काम करना ज्यादा अच्छा लगता था। इससे ध्यान भटका रहता था।

टीम से अंदर-बाहर होते रहे हैं अश्विन

आर अश्विन ऐसा स्टेटमेंट क्यों दे रहे थे इस पर एक नज़र दौड़ाए तो पता चलेगा कि अश्विन ने अपना पिछला टेस्ट मैच 10 महीने पहले यानि जनवरी में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेला था। वेस्टइंडीज दौरे पर भी अश्विन को मौका नहीं मिला था। अब वन डे और टी-20 में अश्विन को जगह नहीं मिलती और विदेशों में होने वाले टेस्ट मैचों में रविन्द्र जडेजा और अन्य स्पिनर्स को अश्विन से पहले वरीयता दी जाती है।

आर अश्विन और उनकी पत्नि, फोटो सोर्स: गूगल
आर अश्विन और उनकी पत्नि, फोटो सोर्स: गूगल

भारत की ओर से अश्विन सबसे तेज 350 विकेट लेने वाले पहले गेंदबाज बन गए हैं। अश्विन से पहले यह कारनामा कपिल देव (100 मैच), अनिल कुंबले (77 मैच) और हरभजन सिंह (83 मैच) 350 से ज्यादा विकेट ले चुके हैं।

दाएं हाथ के ऑफ ब्रेक बॉलर अश्विन, विश्व के पहले ऐसे  खिलाड़ी हैं जिन्होंने सबसे तेज 250 विकेट और 300 विकेट लेने का रिकॉर्ड बनाया है। अगस्त 2017 के बाद ऐसा पहला मौका है जब अश्विन ने किसी टेस्ट में 5 या उससे अधिक विकेट लिया हो लेकिन, अश्विन ने अभी तक 27 बार पांच या उससे अधिक विकेट अपने नाम किया हैं।

ये भी पढ़े:- 25 साल पुराना रिकॉर्ड तोड़, टेस्ट के भी नए ‘सिक्सर किंग’ बन गए रोहित शर्मा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here