आज पूरा देश ईद मना रहा है लेकिन, शायद जम्मू कश्मीर में पिछले कुछ दिनों से जिस तरह से आतंकी गतिविधियां शुुरु हुई है, उसे देखते हुए अभी हालात ठीक है, ऐसा कहना बिल्कुल भी गलत होगा। क्योंकि कल यानि 24 मई को ही चार आतंकी पकड़े गए थे। जम्मू-कश्मीर में बडगाम पुलिस और इंडियन आर्मी की 53आरआर ने संयुक्त रूप से एक शीर्ष लश्कर आतंकी वसीम गनी समेत 4 आतंकियों को गिरफ्तार किया। अभी उसको लेकर खबरें चल ही रही थी कि आज यानि 25 तारीख को भी एक मुठभेड़ हो गया।

जम्मू-कश्मीर आतंकियों और सेना के बीच जो मुठभेड़ हुआ, इस बार जगह बडगाम की जगह कुलगाम था। यहां हुए एक मुठभेड़ में सुरक्षकर्मियों ने इस्लामिक स्टेट से प्रेरित आतंकवादी संगठन आईएसजेके (इस्लामिक स्टेट ऑफ जम्मू एंड कश्मीर) के दो आतंकवादियों को मार गिराया है।

सेना की तरफ से मिली जानकारी के अनुसार आतंकियों की पहचान आदिल अहमद वानी उर्भ अबु इब्राहिम और शाहहीन बाशिर थोकेर के रूप में हुई है। दोनों आतंकवादी आईएसजेके से जुड़े हुए थे। बताया जा रहा है कि दोनों कश्मीर के शोपियां जिले के रहने वाले थे। वानी 12 सितंबर 2017 से एक्टिव था तो थोकेर पिछले साल 15 अगस्त को आतंकी संगठन में शामिल हुआ था। थोके लश्कर ए तैयबा को छोड़कर आईएसजेके में शामिल हुआ था।

जानकारी के अनुसार, आज सुबह ही जिले के खुर हाजीपोरा गांव में आतंकवादियों की मौजूदगी की खुफिया सूचना के आधार पर राष्ट्रीय राइफल्स, केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल और जम्मू कश्मीर पुलिस के विशेष अभियान समूह ने अभियान शुरू किया। इसी दौरान आतंकवादियों ने सुरक्षा बलों पर गोलीबारी शुरू कर दी। सुरक्षा बलों ने भी जवाबी कार्रवाई में गोलियां चलाईं। दोनों पक्षों के बीच चली इस मुठभेड़ में दो आतंकवादी मारे गए।

सेना की तरफ से किसी भी अनहोनी की खबर नहीं है। बताया जा रहा है कि जिस तरह का माहौल बना हुआ है और खासकर आज के लिए अतिरिक्त सुरक्षा बलों को आसपास के इलाकों में तैनात किया गया है। ताकि किसी भी प्रकार का धरना प्रदर्शन न हो। अतिरिक्त सुरक्षा की जरुरत इसलिए भी पड़ी क्योंकि जहां इस घटना को अजाम दिया गया उस साइड ग्रामिणों को जाने से रोकने पर खासकर युवकों की उस समय सुरक्षा बलों से झड़प हो गई।  ऐसे में शांति का माहौल बना रहे, इसके लिए अतिरिक्त सेना की जरुरत है।

आपको बता दे कि आज ईद है लेकिन, हर साल की तरह इस साल ईद की तस्वीर काफी बदली हुई है। यह देश के लिए ही नहीं बल्कि हमारे और आपके लिए भी जरुरी है। द कच्चा चिट्ठा भी आप सभी से अपिल करता है कि आप हर साल तो गले मिलते ही हैं, इस साल सिर्फ दिल मिलाइए। शायद आप घर पर रहकर ही अपने खास लोगों को इस बार की सबसे बड़ी ईदी दे सकते हैं। फिर ईद आएगा और फिर हम गले भी मिलेंगे और एक दूसरे के घर जाकर सेवईया भी खाएंगे तब तक के लिए घर पर रहे सुरक्षित रहे।