ये बॉलीवुड भी इतना बेरहम है कि, यहाँ उगते हुए सूरज को सलाम किया जाता है, बाद में बड़े से बड़े स्टार तक को भुला दिया जाता है। जिस दौर में एक्ट्रेस फेमस हो जाती हैं उसके बाद न तो कोई उनके बारे में बात करता हैं और न ही उनसे किसी तरह का संबंध रखता है। ऐसे कई उदाहरण देखे गए हैं जहां इस तरह की बातें सुनने और देखने को मिली हैं। इन्हीं में एक बड़ा नाम है ‘मुमताज’ का। जिन पर हर कोई अपने दिल के साथ-साथ खुद को भी न्यौछावर कर देता था।

मुमताज़ ने जिस दौर में अपने एक्टिंग करियर की शुरुआत की थी उस समय सिर्फ शांत, शर्मीली किरदार की एक्ट्रेसेज़ हुआ करती थीं। लेकिन जब मुमताज़ ने अपने करियर की शुरुआत की तब वो पहली ऐसी अदाकारा बनी जिसने बेहद चुलबुले, नटखट और हंसमुख मिजाज़ के साथ एक्टिंग की शुरुआत की। जिस जमाने में मुमताज़ ने बॉलीवुड में कदम रखा, उसके बाद से ही हर कोई उनकी अदाकारी का कायल हो गया था।

मुमताज़, फोटो सोर्स- गूगल

यहाँ इन सभी बातों को बताने की वज़ह ये है कि, आज के ही दिन यानी 31 जुलाई 1947 को मुमताज़ का जन्म हुआ था। उनकी मां नाज और चाची नीलोफर पहले से ही अभिनय की दुनिया में थीं लेकिन, वह दोनों सिर्फ जूनियर आर्टिस्ट के तौर पर ही काम करती थीं। मुमताज़ को भी शुरू में छोटे-मोटे रोल ही मिला करते थे।

मुमताज़ की ज़िंदगी में बहुत से किस्से और कहानियाँ रही है जिसके बारे में बहुत ही कम लोग जानते होंगे। आज हम उन्हीं में से कुछ किस्से और कहानियों को आप सब से साझा करेंगे।

क्यों दारा सिंह के साथ कोई भी हीरोइन काम नहीं करना चाहती थी?

दारा सिंह इंडस्ट्री के एक ऐसे एक्टर थे जिसने पूरी इंडस्ट्री में भौकाल मचा रखा था। उनकी लंबी-चौड़ी पर्सनैलिटी और उनका औरा ऐसा था कि, उनके आगे किसी और एक्टर-एक्ट्रेस को ज्यादा भाव नहीं मिलता था। ऐसे में तब कोई भी हीरोइन उनके साथ काम करने से कतराती थी। लेकिन जब मुमताज़ ने उनके साथ काम करने का फैसला लिया तो, ये उनकी ज़िंदगी का एक बेहतरीन फैसला भी रहा। दारा सिंह और मुमताज़ की जोड़ी बॉक्स ऑफिस पर सबसे ज़्यादा पसंद की ही गयी, साथ में उनकी जोड़ी को सबसे हिट जोड़ी कहा जाता था। ये जोड़ी अपने समय की सबसे हिट जोड़ी बन कर निकली।

मुमताज़ और दारा सिंह, फोटो सोर्स- गूगल

जब कोई हीरोइन दारा सिंह के साथ काम नहीं करना चाहती थी तब उस समय मुमताज़ ने इस मौके को न गंवाते हुए, दारा सिंह के साथ काम करने की सोची और यहीं से उन्हें अपनी ज़िंदगी का पहला ब्रेक भी मिला। इसके बाद मुमताज़ ने पीछे मुड़ कर नहीं देखा। इसका नतीजा ये निकला कि, मुमताज़ और दारा सिंह ने मिल कर कुल 16 फिल्मों में काम किया और उनमें से 10 फिल्में सुपरहिट भी साबित हुई।

जब शाहरुख खान दिल दे बैठे थे

मुमताज़ की फिल्मों को देख कर ही शाहरुख खान बड़े हुए थे। वे एक ऐसी एक्ट्रेस थीं जो स्क्रीन पर आती तो शाहरुख की आंखें ठिठक उठती थी। जब शाहरुख फिल्मी पर्दे पर छा चुके थे तब उन्होंने मुमताज़ के ऊपर अपने क्रश के बारे में पूरी दुनिया को बताया था।

मुमताज और शाहरुख.
फोटो सोर्स- गूगल

जब मुमताज़ को इस बारे में पता चला तो, वो खुद भी सरप्राइज़ हो गई थीं। एक इवेंट में जब मुमताज़ को ‘लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड’ देने के लिए शाहरुख खान गए थे। उस मौके पर उन्होंने अपनी दिल की बात कह डाली और कहा कि,

वे उनके बहुत बड़े दीवाने हैं और गौरी के अलावा अगर उन्हें किसी पर क्रश हुआ है तो वो सिर्फ मुमताज़ हैं, जिनसे वे बहुत प्यार करते हैं।

जब इस बात के बारे में मुमताज़ को पता चला तो उन्होंने कहा कि,

जिन शाहरुख खान को पूरी दुनिया प्यार करती है उनका मेरे लिए ये बोलना बहुत बड़ी प्रशंसा की बात है।

मुमताज ने अपने 15 साल के फिल्मी करियर में 108 फिल्मों में अपनी अदाकारी दिखा चुकी हैं। लेकिन बाद में फिल्म आंधियां के फ्लॉप हो जाने के बाद मुमताज़ ने अभिनय की दुनिया आगे बढ़ाने से बेहतर उसे छोड़ देने में विश्वास किया।

फोटो सोर्स- गूगल

लेकिन दुःख की बात ये है कि, किसी बेहतरीन अभिनेत्री के लिए समय के साथ उसकी पहचान को भुला देना किसी दुःखद घटना से कम नहीं है। इसकी मुमताज़ जीती-जागती उदाहरण भी बनी। चाहे दुनिया उन्हें याद करे न करे मगर मुमताज़ की फिल्में उनकी एक बेहतरीन अदाकारा होने की मिसाल बन कर हमेशा हमारे बीच रहेंगी।