भारत में गूगल पर प्रियंका चोपड़ा से ज़्यादा हरियाणा की एक लड़की को सर्च किया जाता है. इस लड़की के स्टेज पर आते ही लोगों के कान खड़े हो जाते हैं. ये लड़की आज के दौर की यूट्यूब सेंसेशन बन चुकी है. इस लड़की का नाम है सपना चौधरी. जिसके स्टेज पर आते ही एक अलग माहौल बन जाता है. जिसके गाने आने के बाद लोकगीत कब शहरों के डीजे में बजने लगते हैं, पता ही नहीं चलता. सपना सिर्फ डांसर नहीं हैं, हरियाणा के समाज और महिलाओं के लिए एक क्रांति हैं।

फोटो सोर्स – गूगल

महिलाओं की यात्रा कभी भी और कहीं भी आसान नहीं थी मगर हरियाणा जैसे राज्य में तो बहुत ही मुश्किल है. सपना ने 2009 में रागिनी की दुनिया में कदम रखा. पुरुषों के मनोंरंजन के लिए रागिनी का आयोजन किया जाता है. इस प्रोग्राम में लड़कियों से व़ल्गर गानों पर डांस करवाया जाता है. वल्गर गानों और वल्गर डांस की वजह से महिलाएं रागिनी की दुनिया से दूर रहती हैं. जो लड़कियां इन रागिनियों में डांस करती हैं वो ज़्यादातर गरीबी के कारण इस प्रोफेशन में आती हैं. सपना ने भी माना कि उन्होंने भी गरीबी की वज़ह से स्टेज पर डांस शुरू किया. हरियाणा अपनी गायिकाओं और डांसर्स को मारने के लिए जाना जाता रहा है. मगर अपनी हिम्मत और लगन की वजह से सपना ने अपना अलग मुकाम बनाया है।

फोटो सोर्स- गूगल

समय के साथ-साथ लोगों की एक नाचने वाली लड़की के लिए आम धारणाएं बदलने लगीं और उनको एक कलाकार के तौर पर भी देखा जाने लगा. इससे पहले रागिनी गाने वाली और डांस करने वाली औरतों को ‘वस्तु’ की तरह ही देखा जाता रहा है. सपना इस नई क्रांति की स्टार बनकर उभरीं।

बचपन में ही सपना के सर से पिता का साया उठ गया उसके बाद पूरे घर की ज़िम्मेदारी उनके ऊपर आ गई. घर के हालातों ने सपना को रागिनी की दुनिया में आने को मज़बूर कर दिया. स्टेज पर डांस करके सपना पैसे कमाने लगीं. उनके भाई और माँ ने हमेशा उनका साथ दिया. दुनिया वालों ने लाख सपना की बुराई की मगर सपना की मां और भाई ने इस डांस को प्रोफेशन के तौर पर ही लिया. सपना जहां-जहां डांस करने जातीं, उनकी मां उनके साथ रहतीं. कई वीडियोज़ में उनकी मां को स्टेज पर स्वेटर बुनते देखा जा सकता है।

फोटो सोर्स – गूगल

सपना का ‘सॉलिड बॉडी’ गाना सुपर-डुपर हिट रहा. इस गाने के बाद सपना को काफी नाम और शौहरत मिली, लेकिन सपना पर हरियाणवी संस्कृति खराब करने के आरोप लगाए जाने लगे. हालांकि किसी ने साफ तौर पर यह नहीं बताया कि आखिर वो क्या चीज़ है जो हरियाणा के कल्चर को खराब कर रही है. मगर सपना के इस गाने का क्रेज इतना था कि लोग बोलते थे ‘भई सपना आवैगी तो ही आपां भी आवांगे.’

सपना को औरत होने की सज़ा मिली. उन्हें चारित्रिक हनन का सामना करना पड़ा. एक प्रोपेगेंडा के तहत सोशल मीडिया पर सपना के झूठे वीडियोज़, एमएमएस और गालियां तैरने लगीं. रागिनी गाने वाली सपना पर ही रागिनियाँ बनने लगी, उनको 2 टके की लड़की, इसकी-उसकी डार्लिंग टाइप की लड़की कहा जाने लगा. क्योंकि किसी औरत को टार्गेट करने के लिए सबसे बड़ा हथियार उसके चरित्र पर सवाल खड़े कर देना है. गलती न होने के बावजूद भी सपना ने माफी मांगी मगर ये सिलसिला नहीं थमा।

ऐसे ही किसी एक दिन सपना की मां बाहर गई हुईं थीं और सपना घर पर अकेली थीं. वो अपने बारे में सोशल मीडिया पर फैलाई गई अफवाहों से परेशान हो चुकी थी और इतनी परेशान हुईं थी कि ज़हर खाकर उन्होंने अपनी जान लेने की कोशिश की. इस बार मेनस्ट्रीम मीडिया का ध्यान सपना पर गया. तब मीडिया ने ‘हरियाणा की एक लोकल सिंगर/डांसर और उनके हाई प्रोफाइल लोगों के साथ जुड़े होने’ की खबर दिखा कर टीआरपी बटोरने का भरसक प्रयास किया।

फोटो सोर्स- गूगल

नंवबर, 2016 में प्रधानमंत्री मोदी ने नोटबंदी की घोषणा कर दी थी. लोग पैसे निकालने के लिए कतारों में लगे थे. कुछ लोगों की मौत तक हुई मगर इसका ठीक उल्टा हो रहा था हरियाणा में. नोटबंदी के दौरान भी लोग सपना के डांस पर पैसे उड़ा रहे थे. पैसे की बंदी के समय तब सपना का एक गाना रीलीज़ हुआ. सपना ने भी अपनी कला की दम पर इस गाने में जान भर दी. वो इस गाने पर 1 प्रोग्राम में 5-5 बार नाचती. आगे चलकर ये गाना लोगों की जुबान पर चढ़ गया. ये गाना हर पार्टी में बजाया जाने लगा. ये गाना था- ‘तेरी आंख्यां का यो काजल।’

फोटो सोर्स- गूगल

सपना ने इस परफार्मेंस में लाल और काले रंग का सूट पहना था. इस वीडियो में अस्पताल के पिंपल वाले चेहरे की जगह आत्मविश्वास से भरा एक चमकता चेहरा था. तेरी आंख्यां का यो काजल गाने को 36 करोड़ लोगों ने देखा।

इसके बाद सपना हर जगह छा गईं. पंजाब से लेकर मध्य प्रदेश, उत्तर भारत के हर जगह वो परफॉर्म कर रही थीं. सपना के हर वीडियो पर लाखों-करोड़ों व्यूज़ आने लगे. लोगों ने सपना के नाम से अपने यू-ट्यूब चैनल्स के सबस्क्राइबर्स बढ़ाए. सपना के नाम से कोई भी वीडियो हिट होने लगा।

फोटो सोर्स- गूगल

सपना दर्शकों की आंखों में देखती हैं. वो अपने दर्शकों के साथ बिना बोले भी इंटरैक्ट करने में माहिर हैं. भीड़ में खड़े हर दर्शक को लगता है मानों सपना सिर्फ उसके लिए ही परफॉर्म कर रही है. एक ‘यौन कुंठित’ समाज में सपना शेक्सपीयर की हीरोइन क्लियोपैट्रा की तरह उभर कर सामने आने लगी।

साल 2017 में वेस्ट इंडीज़ के हरफनमौला क्रिकेटर क्रिस गेल ने उनके गाने ‘आंख्यां का यो काजल’ पर डांस भी किया था. उसी साल वो बिग बॉस भी गईं. शो से निकलने के बाद सपना ने बॉलीवुड में कई गाने भी किए. अभी थोड़े दिन पहले उनकी फिल्म ‘दोस्ती के साइड इफेक्ट्स’ भी रिलीज़ हुई, जिसमें उनका किरदार एक आईपीएस अफसर का था. उनके किरदार को काफी सराहना भी मिली. अब वो वेब सीरीज़ की दुनिया में कदम रखने जा रही हैं. मां पर बनी एक वेब सीरीज़ में उनका किरदार एक मां का है जोकि अन्य मुख्य किरदारों में से एक होगा।

ये थी एक ऐसी लड़की की कहानी जिसने पुरुष प्रधान समाज में अपनी पहचान बनाई. ग्रामीण भारत की लड़कियों के लिए सपना मिसाल है जिसने जो चाहा अपनी मेहनत से वो पाया. बाकी गुरु ये दुनिया है इसका तो काम ही है बात बनाना. वो गाना है ना- कुछ तो लोग कहेंगे लोगों का काम है कहना।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here