कांग्रेस पार्टी ने 2019 लोकसभा चुनाव के लिए मेनिफेस्टो जारी कर दिया है। इस मेनिफेस्टो को ‘जन आवाज’ नाम दिया गया है। मैनिफेस्टो की टैगलाइन ‘हम निभाएंगे’ दी गई है। घोषणा पत्र को जारी करते समय देश भर से कांग्रेस के सदस्य आये हुये थे। इस कार्यक्रम में मंच पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, सोनिया गांधी,पी. चिदंबरम, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और रणदीप सुरजेवाला थे। प्रियंका गांधी बाकी कांग्रेस महससचिव के साथ नीचे बैठी हुई थीं।

congress releases manifesto for 2019 lok sabha election, makes 19 big announcementमैनिफेस्टो जारी करने से पहले इसके बारे में कमेटी के सदस्य राजीव गौड़ा ने बताया कि कांग्रेस अध्यक्ष ने हमें साफ तौर पर दो निर्देश दिये थे। पहला, बंद कमरे में ये तैयार न हो। दूसरा, इस बार का मैनिफेस्टो ऐसा हो जो पार्टी के इतिहास से ही नहीं बल्कि देश में सबसे अलग हो। इसके लिए हमने एनआरआई नागरिकों से बात की, हर क्षेत्र के एक्सपर्ट से राय ली, सोशल मीडिया पर लोगों से राय मांगी। 1 लाख से अधिक लोगों ने विस्तार से अपनी बात रखी। उसके बाद इस मैनिफेस्टो को तैयार किया गया है।

मैनिफेस्टो में क्या है?

कांग्रेस पार्टी के मैनिफेस्टो में शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार, किसान और युवाओं को केन्द्र में रखा गया है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मैनिफेस्टो के बारे में बताते हुये कहा, आज देश में मुख्य मुद्दा किसानों और रोजगार का है। इसमें जीएसटी और न्याय योजना भी बहुत अहम है। राहुल गांधी ने कहा, इस बार के चुनाव का नैरेटिव सेट हो गया है। जो गरीबी और रोजगार का है।

Related image

क्या क्या है इस मैनीफेस्टो में:

  • शिक्षा के लिए राहुल गांधी ने अपने मैनिफेस्टो में बड़ी जगह दी है। राहुल गांधी ने कहा, हम 6 फीसदी से अधिक शिक्षा पर खर्च करेंगे।
  • राहुल गांधी ने स्वास्थ्य के बारे में कहा, हम प्राइवेट इंश्योरेंस पर भरोसा नहीं करते, गरीब व्यक्ति को भी हाई क्वालिटी अस्पताल का एक्सेस हो।
  • राहुल गांधी ने कहा कि जैसे रेल का बजट होता है। वैसे ही किसानों के लिए अलग से बजट लाएंगे।
  • राहुल गांधी ने कहा, अगर किसान कर्ज नहीं चुका पाता है। तो उसके खिलाफ केस अपराध की श्रेणी में नहीं, सिविल केस की कैटेगरी में रखा जायेगा।
  • राहुंल गांधी ने गरीबों के लिए हर साल 72 हजार देने की बात कही। इससे सीधे तौर पर अर्थव्यवस्था को फायदा होगा।
  • राहुल ने कहा, हिंदुस्तान के युवाओं को रोजगार शुरू के लिए किसी की परमिशन की जरुरत नहीं है।
  • रोजगार शुरू करने पर आपको शुरुआती तीन सालों में किसी की मदद की जरूरत नहीं होगी। हम 10 लाख युवाओं को सीधे ग्राम पंचायत के जरिए रोजगार देेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here