संजय मांजरेकर, भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व बल्लेबाज हैं. वर्तमान में कमेंट्री करते हैं. अभी तक उनकी यही पहचान थी. पर लगता है उन्हें यह पहचान रास नहीं आ रही है. अब वह खिलाड़ियों को ट्विटर पर ज्ञान देने में लगे हैं. शुरूआत उन्होंने महेंद्र सिंह धोनी और लोकेश राहुल से की थी. इंग्लैंड के खिलाफ भारत की हार के बाद, अपनी राय देते हुए उन्होंने कहा था कि –

‘बात-बात पर धोनी पर सवाल उठाना बंद कर देना चाहिए. अब वक्त आ गया है कि लोकेश राहुल जैसे युवा खिलाड़ियों को अधिक जवाब देह ठहराना चाहिए.’

अगर आप सोच रहे हैं कि उपर लिखी गई लाइन में संजय मांजरेकर धोनी की तारीफ कर रहे हैं तो आप बिल्कुल गलत है. मांजरेकर ने सीधे तौर पर धोनी की बढ़ती उम्र को निशाना बनाया था. धोनी के बाद भारत-बंग्लादेश के बीच हुए मैच के बाद उन्होंने रविन्द्र जडेजा को भी नहीं छोड़ा. जडेजा के बारे में उन्होंने यहां तक कह दिया कि वो ऐसे खिलाड़ियों को प्लेइंग इलेवन में नहीं देखना चाहते हैं जो टुकड़ों में परफॉर्म करते हो. जैसे कि आज कल जडेजा वनडे में परफॉर्म कर रहे हैं. मांजरेकर ने रविन्द्र जडेजा को किश्तों में परफ़ॉर्म करने वाला खिलाड़ी बताया था.

जिसके बाद रविंद्र जडेजा ने संजय मांजरेकर को जम कर खरी-खोटी सुनाई है. जडेजा ने संजय मांजरेकर को टैग करते हुए ट्वीट किया,

‘मैं आप से दोगुने मैच खेल चुका हूं. ऐसे लोगों का सम्मान करना सीखें, जिन्होंने कुछ हासिल किया है. मैंने आपके बड़बोलेपन के बारे में बहुत सुना है.’

रविन्द्र जडेजा ने ऐसा क्यों कहा, इस बात को भी जानना ज़रुरी है. आखिर अचानक से जडेजा मांजरेकर के बड़बोलेपन के बारे में कैसे बात करने लगे? रविन्द्र जडेजा को मांजरेकर के पुराने किस्से तो नहीं याद आ गए? वैसे मांजरेकर के लिए इस तरह की बातें सुनना शायद पुरानी आदत है. इसके पहले भी साल 2017 के आईपीएल के दौरान पोलार्ड ने इनको खरी-खोटी सुनाई थी. उस वक्त मांजरेकर ने पोलार्ड के बैटिंग ऑर्डर को लेकर कमेंट्री के दौरान कहा था कि पोलार्ड को नंबर तीन पर बल्लेबाजी करनी चाहिए. उन्हें पहले स्थान पर बल्लेबाजी करने की समझ नहीं है. जिसके बाद पोलार्ड ने अपने ट्वीटर हैंडल से मांजरेकर को खूब लताड़ा था. पोलार्ड ने कहा था कि

‘तुम बोलने की बीमारी से ग्रस्त हो क्योंकि, तुम्हें बोलने के पैसे मिलते हैं इसलिए तुम्हे लगता है जो तुम बोलते हो वही सही है, तुम अपना बड़बोलापन ऐसे ही जारी रख सकते हो’.

इसके बाद साल 2013 में भारत और आस्ट्रेलिया की द्विपक्षीय सीरीज के दौरान अपनी कमेंट्री की वजह से संजय मांजरेकर को पैनल से हटा दिया गया था. जिसके बाद मांजरेकर ने अपनी भड़ास सोशल मीडिया पर निकाली थी.

मांजरेकर ने एक बार सचिन से भी पंगा लिया था. मांजरेकर ने अपनी एक पुरानी तस्वीर ट्विटर पर शेयर करते हुए, कैप्शन लिखा था कि सचिन की बल्लेबाजी उनकी फोटोग्राफी से ज्यादा अच्छी थी. दरअसल मांजरेकर इस कमेंट के जरिए सचिन का मजाक उड़ा रहे थे. लेकिन उल्टा फैन ने इनके मजे ले लिए.

मांजरेकर और हर्षा भोगले के विवाद ने भी काफी सुर्खियां बटोरी थी. जब आईपीएल 9 में हर्षा भोगले को कमेंट्री पैनल से हटा दिया गया था. जिसके बाद एक फैन ने लिखा था कि, हर्षा के बिना कमेंट्री ऐसी ही है ‘जैसे टॉपिंगस के बिना पिज्जा.’ इस ट्वीट को हर्षा भोगले ने रीट्वीट किया था. जिसका मजाक उड़ाते हुए संजय मांजरेकर ने ट्वीट किया कि ‘वह क्या बात है कि हर्षा ने इस ट्वीट को रीट्वीट किया है.’ जिसके बाद हर्षा के फैंस ने संजय मांजरेकर की बैंड बजा दी थी.

संजय मांजरेकर केवल क्रिकेटर और कमेंटेटर पर ही कमेंट नहीं करते हैं. उन्होंने एक बार सानिया मिर्जा के ट्वीट पर भी कमेंट किया था. जिसके बाद सानिया ने उनके कॉमन सेंस पर ही सवाल उठा दिया था.

दरअसल सानिया मिर्जा ने जब डबल्स में नंबर 1 होने के 80 हफ्ते पूरे होने के बाद द्वीट किया तो, संजय मांजरेकर ने सानिया की चुटकी लेते हुए लिखा कि, ‘अपका मतलब है नंबर एक डबल्स प्लेयर मुबारक हो’. जिसके बाद सानिया इस पर काफी भड़क गई थी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here