मिड डे मील, उत्तर प्रदेश की गले की फांस बन गया है. हाल ही में ये बात सामने आई थी कि मिड डे मील धांधली के मामले में उत्तर प्रदेश नंबर वन है. मिड डे मील में धांधली को लेकर सबसे पहले बात तब सामने आई थी. जब एक स्थानीय पत्रकार ने ये रिपोर्ट किया था कि यूपी के एक स्कूल में बच्चों को मिड डे मील के नाम पर नून-रोटी दिया जा रहा है. जिसके बाद स्कूल प्रशासन पर तो कोई कार्रवाही नहीं हुई. उल्टा पत्रकार पर ही FIR दर्ज की गई. उसे धमकाया गया. वहीं अब एक नया मामला सामने आया है.

मामला उत्तर प्रदेश के सोनभद्र का है. जहां एक स्कूल में बच्चों को पानी मिला दूध पिलाया गया. या यूं कहें कि दूध मिला पानी पिलाया गया. इस स्कूल का नाम सलाई बनवा प्राइमरी स्कूल है. दरअसल, एक लीटर दूध में एक बाल्टी पानी मिलाकर, 85 बच्चों को पिलाया गया है. यह बात तब सामने आई जब स्कूल के ही एक कर्मचारी ने रसोइये की इस करामात का वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर वॉयरल कर दिया.

सोनभद्र (UP) के एक स्कूल में एक लीटर दूध में एक बाल्टी मिलाकर, 85 बच्चों को पिलाया गया है, फोटो सोर्स: गूगल

सोनभद्र (UP) के एक स्कूल में एक लीटर दूध में एक बाल्टी मिलाकर, 85 बच्चों को पिलाया गया है, फोटो सोर्स: गूगल

स्कूल में खाना बनाने वाली का कहना है कि ये सब उसने शिक्षा मित्र के कहने पर किया है.

वहीं इसको लेकर शिक्षा अधिकारी का कहना है कि

स्कूल से यह गलती तो हुई कि एक लीटर दूध में एक बाल्टी पानी मिलाकर 85 बच्चों को पिला दिया गया लेकिन, इस गलती का अहसास होते ही स्कूल के लोगों ने पश्चाताप किया और ढाई घंटे बाद उन्हें दूध पिलाया.

लोकसभा में बीजेपी सांसद भारती प्रवीण के एक सवाल के जवाब में मानव संसाधन मंत्री (MHRD Minister) ने जवाब दिया था कि

तीन साल के दौरान देश भर में मिड डे मील भ्रष्टाचार की 52 शिकायतें मिली हैं. इनमें यूपी की 14, बिहार की 11, पश्चिम बंगाल की 6, महाराष्ट्र की 5, राजस्थान की 4, असम, दिल्ली, हरियाणा की 2-2 और छत्तीसगढ़, झारखंड, उड़ीसा, पंजाब, त्रिपुरा और उत्तराखंड की एक-एक शिकायतें हैं.

तमाम राजनीतिक पार्टियों ने इस पर तीखी प्रक्रिया दी है. प्रियंका गांधी ने ट्वीट किया है कि

MHRD की रिपोर्ट कह रही है कि मिड डे मील में भ्रष्टाचार के मामले में यूपी नंबर 1 पर है. उत्तर प्रदेश के मुखिया रोज़-रोज़ ढोल पीटते हैं कि यह एक्शन हुआ, वो एक्शन हुआ…लेकिन, असल में केवल दिखावा हो रहा है. सारा भ्रष्टाचार यूपी सरकार की नाक के नीचे हो रहा है.

उत्तर प्रदेश पहले से ही क्राइम कैपिटल था. अब मिड डे मील भ्रष्टाचार कैपिटल भी बन गया है. देखिए अब यूपी, और कौन-कौन से तमगे अपने नाम करता है. वैसे हो सकता है योगी जी भ्रष्टाचार का नाम बदल कर ईमानदारी कर दें.