हर्शल हरमन गिब्स, वो क्रिकेटर जो अपनी टीम के लिए वीरेन्द्र सहवाग के जैसे था। जा मैदान पर रहता तो रन बरसाता रहता। कुछ मैचों में तो गिब्स ने पूरे पागलपन की तरह बल्लेबाजी की। उनका वही पागलपन टीम के लिये काम आया और कई बड़े मैच जिताये। गिब्स जो बल्ले के साथ जितने अच्छे थे, उतने ही फील्डिंग में भी बेहतर थे। उनको बैकवर्ड प्वाइंट का दूसरा जोंटी रोड्स कहा जाता था। आज उसी प्लेयर का बड्डे है। आज वो प्लेयर 45 साल का हो गया है।

Related imageगिब्स को कई मैचों के लिये याद किया जा सकता है। जब उन्होंने स्टीव वाॅ का लिया हुआ कैच छोड़ दिया। जब उन्होंने वो खतरनाक पारी खेली, जिसने वर्ल्ड चैंपियन टीम को गड्ढे में धकेल दिया और आखिर में वो पारी भी तो है जब वे वनडे में 6 गेंदों में 6 छक्के लगाने वाले पहले बल्लेबाज बने।

वो धमाका

12 मार्च 2006 को ऑस्ट्रेलिया और साउथ अफ्रीका के बीच सीरीज का आखिरी वनडे था। अब तक सीरीज बराबर थी, जो ये मैच जीतता सीरीज भी वही जीतने वाला था। तब ऑस्ट्रेलियाई टीम ने वो किया जो उससे पहले कभी नहीं हुआ था। ऑस्ट्रेलिया ने 50 ओवर में 434 रन बनाये। वनडे में ऐसा पहली बार हुआ था कि किसी टीम ने 400 रनों का स्कोर बनाया था। रिकी पोंटिंग ने 105 गेंदों में 164 रनों की पारी खेली थी। स्कोर इतना बड़ा था जिसे देखकर लग रहा था कि अब तो ऑस्ट्रेलिया की जीत पक्की है।

Related imageफिर साउथ अफ्रीका खेलने आई और गदर मचा दिया। सबसे ज्यादा गदर मचाया था, हर्शल गिब्स ने। गिब्स ने 111 गेंदों में 175 रनों की पारी खेली। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एक मैच में सबसे जयादा स्कोर बनाने वाले बल्लेबाज बन गये। जिसे बाद में उनके ही साथी मार्क बाउचर ने तोड़ दिया। हर्शल गिब्स की पारी से साउथ अफ्रीका वो मैच भी जीती और सीरीज भी। साउथ अफ्रीका सबसे ज्यादा रनों को चेस करने वाली टीम बन गई। हर्शल गिब्स ने बाद में एक इंटरव्यू में कहा था कि उन्होंने वो पारी नशे के हालत में खेली थी।

छक्के पर छक्के

एक मैच और है जिसके लिये गिब्स को याद रखा जाता है। 12 मार्च 2007 को वर्ल्ड कप में साउथ अफ्रीका का मैच नीदरलैंड से था। उस मैच में जैक कैलिस ने अच्छी बल्लेबाजी की लेकिन रिकाॅर्ड बना गये हर्शल गिब्स। चौथे नंबर पर खेलने आये हर्शल गिब्स ने डान वान बुंजे की 6 गेंदों पर 6 छक्के लगाये। वनडे और विश्व कप में ऐेसा करने वाले वे पहले बल्लेबाज बन गए। उसी साल युवराज सिंह ने टी-20 वर्ल्ड कप में यही कारनाम इंग्लैंड के खिलाफ किया।

वो कैच

गिब्स को एक कैच के लिये भी याद किया जाता है। 1999 का वर्ल्ड कप, साउथ अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया के बीच मैच हुआ था। स्टीव वाॅ का आसान कैच गिब्स ने खुशी में छूते ही उछाल दिया। जिसके कारण स्टीव वाॅ को आउट नहीं दिया। उस मैच में स्टीव वाॅ ने शतक लगाया और ऑस्ट्रेलिया जीत गई।

कहा जाता था कि उस कैच के बाद स्टीव वाॅ ने गिब्स से कहा था, ‘तुमने कैच नहीं, वर्ल्ड कप छोड़ा है।’ लेकिन बाद मे स्टीव वाॅ ने अपनी आत्मकथा- ‘आउट ऑफ माई कंफर्ट जोन’ में इस वाक्ये को नकार दिया था। उन्होंने हर्शल गिब्स से ऐसा कुछ भी नहीं कहा था। गिब्स विश्व के उन तीन बल्लेबाजों में से एक हैं। जिन्होंने वनडे में लगातार तीन मैचों में शतक बनाया है। गिब्स के अलावा ये कारनामा सईद अनवर और जहीर अब्बास ने किया है।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here