पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के तौर पर जब इमरान खान ने शपथ ली थी. तब दोनों तरफ के लोगों ने ये उम्मीद की थी कि अब रिश्ते बेहतर होंगे. पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों (minorities) पर हो रहे हमलों में कमी आएगी. पाकिस्तान से हिन्दुओं के पलायन पर कोई सख्त कदम उठाया जाएगा. उन्हें सुरक्षा मुहैया कराई जाएगी. इमरान खान ने प्रधानमंत्री बनते ही सबसे पहले पीएम मोदी को फोन किया था. इसे द्विपक्षीय रिश्ते सुधारने की शुरूआत के तौर पर देखा जाने लगा.

इसके अलावा करतारपुर कॉरिडोर को खोले जाने के फैसले को इस बात की गारंटी माना जाने लगा कि सालों से चली आ रही दुश्मनी अब खत्म हो सकती है. हालांकि, कश्मीर मसले ने इस पूरी कवायद पर पानी फेर दिया. पाकिस्तान फिर से अपनी हरकतों पर उतर आया. सीमा पर घुसपैठ बढ़ गया. सीज़ फायर उल्लंघन में पहले के मामले ज्यादा तेजी आ गई

इतना ही नहीं पाकिस्तान में अल्पसंख्यक हिन्दुओं और सिखों के साथ, अत्याचारों की घटनाएं भी बढ़ गईं. हिंदू डॉक्टरों, विधायकों समेत आम जनता को निशाना बनाया जाने लगा. किसी का धर्म बदला जा रहा, जबरन शादियां कराई जा रही हैं और धमकाया जा रहा है. वहीं अब खबर आ रही है कि पाकिस्तान के हिंदू विधायक, पाकिस्तान छोड़ कर भारत आ गए हैं.

पाकिस्तान के पूर्व विधायक रहे बलदेव कुमार सिंह अपने परिवार के साथ, फोटो सोर्स: गूगल
पाकिस्तान के पूर्व विधायक रहे बलदेव कुमार सिंह अपने परिवार के साथ, फोटो सोर्स: गूगल

पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों पर हमले लगातार बढ़ रहे हैं. इस बार इसका शिकार विधायक बलदेव कुमार सिंह हुए हैं. बलदेव प्रधानमंत्री इमरान खान की पार्टी तहरीक़-ए-इंसाफ (PTI) से विधायक रहे हैं. वो अपने पूरे परिवार के साथ भारत आ गए हैं. उन्होंने भारत सरकार से राजनीतिक शरण मांगी है. बलदेव पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वा विधानसभा में बारीकोट आरक्षित सीट से विधायक थे.

हालांकि, पाकिस्तान में लगातार स्थिति खराब होने के चलते बलदेव पिछले महीने खन्ना (पंजाब) आ गये थे. इसके कुछ महीने पहले उन्होंने अपने परिवार को पहले ही भारत भेज दिया था. बलदेव अब वापस नहीं लौटना चाहते. वह भारत में शरण के लिए जल्द ही आवेदन करेंगे.

उन्होंने बताया कि

अल्पसंख्यकों पर पाकिस्तान में अत्याचार हो रहे हैं. हिंदू और सिख नेताओं की हत्याएं की जा रही हैं.

सोर्स- ANI ट्विटर अकाउंट
सोर्स- ANI ट्विटर अकाउंट

इमरान खान पर साधा निशाना

बलदेव कुमार सिंह ने अपनी पार्टी के मुखिया और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा है कि

इमरान खान अपने वादों पर खरे नहीं उतरे हैं, मैं वहां सुरक्षित नहीं था. सिर्फ मुझ पर ही नहीं बल्कि सभी हिंदू और सिखों पर भी वहां खतरा बना हुआ है. जब मेरे ऊपर अत्याचार बढ़ने लगा तो मैं वापस भारत आ गया.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, फोटो सोर्स: गूगल
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, फोटो सोर्स: गूगल

भारत को पैकेज की घोषणा करनी चाहिए

बलदेव कुमार सिंह कहते हैं

भारत सरकार को एक पैकेज की घोषणा करनी चाहिए ताकि जो सिख और हिंदू परिवार वहां रह रहे हैं वो भारत आएं. मैं चाहता हूं कि मोदी सरकार कुछ करे, अल्पसंख्यकों को वहां प्रताड़ित किया जा रहा है

साल 2016 में बलदेव कुमार सिंह पर झूठे आरोप लगाए गए थे. उन पर उनके विधानसभा क्षेत्र के तत्कालीन विधायक कि हत्या का आरोप लगा था. उन्हें इस मामले में दो साल की जेल की सजा हुई. वह 2018 में ही इससे मुक्त हुए हैं.

अब सवाल ये उठता है. जब इमरान खान अपनी ही पार्टी के अल्पसंख्यक विधायक की रक्षा नही कर पा रहे हैं तो देश के अल्पसंख्यकों का क्या ही ख़याल रखते होंगे. इसलिए हर बार उन्हें एक ही नसीहत दी जाती है, पहले अपना घर संभाल लें फिर दूसरों के मामलों में दख़ल दिया करें. अब तो हमें शरम आ गई है, उन्हें ये सब कहते-कहते. मगर मजाल है, इमरान खान के कानों पर जू रेंग जाए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here