वकील खान झारखंड के पलामू जिले के रहने वाले थे। हां, आपने सही समझा वकील खान अब जिंदा नहीं हैं। अपनी बहन को छेड़ रहे शोहदों को समझाने के बदले वकील खान को भीड़ द्वारा पीट-पीट कर मार डाला गया।

वकील खान मुस्लिम समुदाय से थे। ऐसे में संभव है कि वकील खान के घर में रक्षा बंधन का पर्व नहीं मनाया जाता होगा। इस वजह से वकील खान की बहन ने अपने भाई के कलाई में राखी नहीं बांधी होगी। लेकिन एक भाई अपनी बहन को संकट में घिरा देख भला कैसे बचाने नहीं जाएगा।

पलामू जिले के खरदीहा गांव में रहने वाले वकील खान की बहन के साथ छेड़खानी हुई थी। अपनी जवान बहन के साथ हो रही छेड़-छाड़ को वकील खान बर्दाश्त नहीं कर पाए। इसके बाद किसी आम भाई के तरह वकील खान ने अपनी बहन के साथ हो रहे छेड़-छाड़ का विरोध किया। विरोध किए जाने के बाद सड़क छाप मनचले वहां से चले गए। वकील को लगा कि उसने अपनी बहन को जाहिलों से बचा लिया। परंतु ऐसा करके वकील ने भले ही बहन की इज्जत बचा ली हो लेकिन उसे इसके बदले अपनी जान से हाथ धोना पड़ा।

दरअसल, वकील की बहन दसवीं कक्षा में पढ़ती है। वकील की बहन अपनी एक दोस्त के साथ परीक्षा देने स्कूल जाती थी। इस दौरान कुछ लड़के उन दोनों को रोज रास्ते में रोककर छेड़ते थे और गंदे-गंदे कमेंट किया करते थे। 12 मार्च को जब वकील की बहन ट्यूशन से लौट रही थी, तो सड़क छाप इन लड़कों ने उसे छेड़ना शुरू कर दिया। उसने लड़की को यह भी कहा कि कुल्हाड़ी से काट देंगे। इसके बाद ये बात लड़की के भाई वकील तक पहुंची।

इसके बाद वकील अपने चचेरे भाई और दो-तीन लोगों के साथ बात करने के लिए उन लड़कों के घर गए। इसके बाद लड़कों ने करीब 8 से 9 लोगों के साथ वकील के साथ मारपीट करना शुरू कर दिया। इस दौरान वकील और उसके दोस्तों को जमकर पीटा गया। पीटाई की वजह से मौके पर वकील ने दम तोड़ दिया।

मृतक के भाई से बात करती पुलिस (photo creadit: google)

इस घटना में वकील के साथ उसके चचेरे भाई दानिश भी उन लड़कों को समझाने के लिए गए थे। दानिश ने बताया कि हमलोग तो समझाने गए थे कि भाई हमारी बहनों के साथ छेड़-छाड़ करना बंद कर दो। लेकिन वो लोग तो लाठी डंडा से हमें पीटने लगे।

यह आश्चर्य की बात है कि एक लड़की के साथ कुछ लोग अभद्र बर्ताव करते हैं। उसे छेड़ते हैं, धमकी देते हैं और डराते भी हैं। लेकिन जब लड़की का भाई समझाने के लिए जाता है तो इस घटना को सांप्रदायिक रंग देकर लड़के को भीड़ द्वारा पीटकर मार दिया जाता है।

यह कैसे हो सकता है कि हमारे समाज के लोग किसी की बहन और बेटी की इज्जत को तार-तार करने वाले लोगों के साथ हो लेते हैं। वकील ने कभी सोचा भी नहीं होगा कि अपनी बहन के साथ हो रहे छेड़छाड़ को रोकने पर उसे जान गवानी पड़ेगी।

प्रभात खबर के रिपोर्ट के मुताबिक पलामू के एसपी इंद्रजीत माहथा के मुताबिक, खरडीहा गांव में छेड़खानी को लेकर दो गुटों के बीच झड़प हो गयी थी। यह झड़प बाद में मारपीट में तब्दील हो गयी। इस घटना में कुड़वा खुर्द के वकील खान की मौत हो गयी।  घटना में शामिल एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है।

अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए छापामारी की जा रही है।  एसपी श्री माहथा ने बताया कि पुलिस को छेड़खानी से संबंधित घटना की जानकारी नही दी गयी थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here