भेड़चाल समझते हो आप? इसका मतलब होता है कि जब आगे चलती एक भेड़ किसी दिशा में आगे बढ़ती है तो उसके पीछे-पीछे सभी भेड़ें ठुमकते हुए उसके साथ हो लेती हैं। चाहे वो भेड़ गड्ढे में जाये या फिर खाई में कूदे।

ये हम ऐसा क्यों कह रहे हैं? भेड़चाल का मतलब आपको क्यों समझा रहे हैं? क्योंकि हमारे देश भारत में भेड़चाल का चलन है। अभी एक मुद्दा ताजा-ताजा सोशल मीडिया वीरों के लिए काफी चर्चा का विषय बना हुआ है। मुद्दा है एक वाशिंग पाउडर कंपनी सर्फ एक्सेल के एक ऐड का जिसको लव ज़िहाद का एंगल देकर बवाल काटा जा रहा है। खलिहरपंती और धर्म के की-बोर्ड रक्षकों ने इस मुद्दे को हाथों-हाथ उठाया है और हर कोई इस पर अपने-अपने तरीके से धर्म की रक्षा में जुटा हुआ है। भेड़चाल!

कहा जाता है कि धर्म में दिमाग नहीं लगाया जाता है, यह सर्फ सिर्फ आस्था का विषय है। हम भी ऐसा ही मानते हैं क्योंकि जिस दिन आप धर्म में दिमाग लगाने लगेंगे आप का मन उससे उचटता चला जाएगा। पर हम यह भी मानते हैं कि जब किसी चीज का आप विरोध करें तब बिल्कुल दिमाग लगाइये।

अब सर्फ एक्सेल वाले मुद्दे पर सर्फ एक्सेल को बॉयकॉट करने की बात को चलो एक मिनट के लिए जायज ठहरा भी दिया जाए (ऐसा हमारा कोई उद्देश्य नहीं है, इसे सिर्फ ‘माना कि’ की तरह समझा जाए) क्योंकि हर वर्ग को अपनी आवाज़ उठाने का हक़ है और जो भी चीज किसी को बुरी लगेगी उसका विरोध करने का सभी के पास पूरा अधिकार है। पर सर्फ एक्सेल के नाम पर अब माइक्रोसॉफ्ट एक्सेल का काटा जा रहा है। हम बवाल कह रहे हैं, आप क्या समझ रहे हैं? आप जानिए. 😉

दरअसल सर्फ एक्सेल के विरोध करने वाले अब प्ले स्टोर का रुख कर चुके हैं और वहाँ पर माइक्रोसॉफ्ट एक्सेल की रेटिंग को डाउन करने में जुट गए हैं। अभी यह कोशिश छोटे स्तर पर हुई है। पर, इनकी संख्या धीरे-धीरे बढ़ रही है। अभी ताजा-ताजा जो कमेन्ट प्ले स्टोर पर माइक्रोसॉफ्ट एक्सेल के लिए लिखा गया है, उसका हिन्दी अनुवाद कुछ ऐसा है : –

मैं इस एप को पसंद करता था जब तक कि इन लोगों ने एक सर्फ की कंपनी के साथ भागीदारी कर के एक धर्म विरोधी ऐड नहीं बनाया था। अब मैं जहां-जहां भी एक्सेल शब्द सुनता हूँ मुझे उसमें एंटी-हिन्दू प्रोपेगेंडा झलकता है। तुम लोगों को यह सब करते हुए शर्म आनी चाहिए।

इसके अलावा एक भाईसाहब ने कुछ ऐसा कमेन्ट किया है :

इसी तरह से एक कमेन्ट कुछ ऐसा है :

എടാ രാജ്യദ്രോഹികളെ, ഞങൾ സംഘം ഒന്ന് മനസ്സുവെച്ചാൽ നിന്റെയൊക്കെ സർഫെക്‌സൽ കച്ചവടവും പൂട്ടി കണ്ടം വഴി ഓടേണ്ടി വെരും നീയൊക്കെ. നിനക്കൊന്നും സംഘ പ്രവർത്തകരെ അറിയില്ല. ജയ് ഗോമാതാ..”

इसका मतलब हमें समझ में नहीं आया लेकिन जब हमने इसको ट्रांसलेट किया तो वह कुछ ऐसा था :

तुम सर्फ एक्सेल के बिज़नेस में फंसने वाले हो। संघ के कार्यकर्ताओं को तुम नहीं जानते। जय गोमाता ।

अब यह काफी ही समझने वाला मामला है कि क्या सच में हिन्दुत्व का मोर्चा थामें की-बोर्ड वीरों का यह कारनामा है या फिर किसी ने इन वीरों को ट्रोल करने के लिए ऐसे कमेंट्स पोस्ट किए हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि जय गौमाता जैसे स्लोगन थोड़ा बहुत इशारा यही करते हैं कि इसे बस मौज लेने के मकसद से पोस्ट किया गया है।

खैर यह कोई पहली बार नहीं है कि हम नाम में कन्फूजियाये हैं। इससे पहले साल 2017 में स्नैपचैट के सीईओ के भारत के लिए दिये गए नकारात्मक बयान को लेकर भी स्नैपडील नाम की कंपनी के रेटिंग को लोगों ने प्लेस्टोर पर डाउन कर दिया था। इतनी बुद्धिमानी पहले भी दिखाये जाने की वज़ह से हमें पता नहीं क्यों ऐसा यकीन करने का मन कर रहा है कि ये सब मज़े लेने के लिए नहीं किया गया है। ऐसा हो सकता है।

हो सकता है कि किसी ने वन स्टेप फॉरवर्ड जाने की सोच रख कर सर्फ एक्सेल को सबक सिखाने की ठानी हो जिसके चक्कर में माइक्रोसॉफ्ट वाले लपेटे में आ गए हैं।

यह लेख हफ़्फ़िंग्टन पोस्ट में छपी ख़बर पर आधारित है.

Facebook Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here