5 अगस्त को धारा 370 हटाये जाने के बाद कश्मीर से लेकर अंतर्राष्ट्रीय सीमा तक तनाव का माहौल बना हुआ है. पिछले 35 दिनों से घाटी में सन्नटा पसरा हुआ हैं. किसी अनहोनी की आशंका के चलते अभी भी कश्मीर के चप्पे-चप्पे पर सुरक्षाबल तैनात है. हालांकि कुछ इलाको में पाबंदियों में काफी हद तक ढील दी जा रही है. हालात समान्य हो रहे है लेकिन, सरकार अभी भी कश्मीर को लेकर कोई जोख़िम लेने के मूड में नहीं है.

घाटी की सड़कों पर सुरक्षाबलों का कड़ा पहरा, फोटो सोर्स - गूगल
घाटी की सड़कों पर सुरक्षाबलों का कड़ा पहरा, फोटो सोर्स – गूगल

इसलिए सेना समेत इंटेलिजेंस एजेंसियों को हाई अलर्ट मूड पर रखा हुआ है. जो LOC के दोनों तरफ देश विरोधी ताकतों की हर हरकत पर पैनी नज़र बनाए हुए हैं. क्योंकि पाकिस्तान कश्मीर की शांति भंग करने के लिए लगातार LOC से आतंकियों की घुसपैठ कराने की कोशिशों में लगा हुआ है.

अब ख़बर ये है कि खुफिया विभाग ने अलर्ट जारी किया है कि घाटी में 200 से ज्यादा आतंकी घुसपैठ करने में कामयाब हो चुके हैं. जो मुहर्रम के मौके पर निकालने वाले ताजिया जुलूसों को निशाना बना सकते हैं. 

प्रतीकात्मक तस्वीर, फोटो सोर्स - गूगल
प्रतीकात्मक तस्वीर, फोटो सोर्स – गूगल

खुफिया एजेंसी की इस चेतावनी पर एतिहाद बरतते हुए जम्मू कश्मीर पुलिस ने घाटी में मोहर्रम पर निकलने वाले ताज़ियों पर रोक लगा दी है. मोहर्रम के मौके पर जम्मू कश्मीर की सुरक्षा के लिए कड़े इंतजाम किए जा रहे है, जिसके लिए अतिरिक्त सुरक्षाबलों की तैनाती की गयी है.

मोहर्रम के दिन श्रीनगर की चाक चौबन्द सुरक्षा व्यवस्था , फोटो सोर्स - गूगल
मोहर्रम के दिन श्रीनगर की चाक चौबन्द सुरक्षा व्यवस्था , फोटो सोर्स – गूगल

सेना सूत्रों के अनुसार, मोहर्रम के दिन कश्मीर में आतंकियों और उनके पनाहगारों ने घाटी में हिंसा फैलाने की साजिश रची है. जिसके कारण इस बार भी मुहर्रम के दिन श्रीनगर की सड़कों पर मुहर्रम का जुलूस और ताजिया नहीं निकाला जाएगा.

प्रतीकात्मक तस्वीर , फोटो सोर्स - गूगल
प्रतीकात्मक तस्वीर , फोटो सोर्स – गूगल

सरकार के एक बड़े अधिकारी ने बताया कि प्रशासन सुरक्षा व्यवस्था को देखते हुए जुलूस निकालने की इजाजत नहीं देगी. जिससे कोई असामाजिक तत्व उपद्रव न फैला सके. इसके साथ ही पाक परस्त ताकते लोगों का इस्तेमाल सुरक्षा बलों के साथ झड़प करने तथा उनके खिलाफ भड़काने ले लिए ना कर सकें.

प्रदर्शनों की प्रतीकात्मक तस्वीर , फोटो सोर्स - गूगल
प्रदर्शनों की प्रतीकात्मक तस्वीर , फोटो सोर्स – गूगल

उन्होंने बताया कि शिया समुदाय के सभी सम्मानित सदस्यों को सूचित कर दिया गया था कि, मुहर्रम के सभी अपने सभी रीति-रिवाज संबंधित कार्यक्रम इमामबाड़ों में अंदर ही करें.

आज के दिन पूरे देश मुहर्रम का त्योंहार मनाया जा रहा है. आज पूरे देश में मुस्लिम समाज के लोग आपने-अपने इलाकों में ताजिये के जुलूस निकला रहे हैं. हालांकि जुलूस निकलने से पहले लोगों को प्रशासनिक मंजूरी लेनी होती है. अगर इलाके में किसी वजह से पहले से ही तनाव हो या ताजिये के दौरान हिंसा व उपद्रव की आशंकाएं होती है, तब ऐसी परिस्तिथियों में प्रशासन ताजिये निकालने पर रोक लगा देती है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here