पुलवामा हमले के बाद पूरा देश गुस्से में है। जाहिर है आतंकवाद के खिलाफ ये गुस्सा पाकिस्तान के लिये ही निकालेगा। सोशल मीडिया से लेकर सड़कों तक लोग पाकिस्तान की जमकर आलोचना कर रहे हैं। उसी गुस्से में क्रिकेट क्लबों ने भी अपना नाम जोड़ दिया है। पहले क्लब क्रिकेट ऑफ इंडिया ने अपने हेड ऑफिस मुंबई से इमरान खान की तस्वीरें हटा दीं और अब मोहाली क्रिकेट स्टेडियम से पाकिस्तानी क्रिकेटरों की फोटो हटा दी गई हैं।

मुंबई के सीसीआई दफ्तर में महान क्रिकेटरों के फोटो लगी हुई हैं। यहां पर पाकिस्तान के पूर्व कप्तान इमरान खान की भी फोटो लगी है। जो इस समय पाकिस्तान के वजीर-ए-आजम हैं। पुलवामा के आतंकी हमले पर उनकी प्रतिक्रिया न आने के बाद उनकी तस्वीर पर पर्दा डाल दिया गया है। 1989 में उनकी कप्तानी में पाकिस्तान ने इसी मैदान पर ऑस्ट्रेलिया को हराया था। जिसके बाद से उनकी फोटो यहां लगी हुई थी। जो अब ढ़क दी गई है।

इस विरोध की लिस्ट में मोहाली क्रिकेट स्टेडियम का भी नाम जुड़ गया है। मोहाली के आईएस बिंद्रा पीएस स्टेडियम से पाकिस्तानी क्रिकेटरों की फोटो हटा दी गई हैं। इस स्टेडियम में शाहिद अफरीदी, वसीम अकरम और जावेद मियादांद सहित 15 क्रिकेटरों की फोटो लगी हुई है। इस स्टेडियम में 7 वनडे, एक टेस्ट और दो टी-20 मैच पाकिस्तान की मेजबानी की है।

Pulwama Attack: अब मोहाली क्रिकेट स्‍टेडियम से हटाए गए पाकिस्‍तानी क्रिकेटर्स की फोटोइस स्टेडियम में 1994 से लेकर अब तक हुये मैचों की फोटो लगी हुई हैं। अधिकारियों ने मीटिंग करके ये फैसला किया और तस्वीरों को हटा दिया गया। अधिकारयों ने बताया है कि अगर पाकिस्तान के साथ संबंध अच्छे होते हैं तभी ये तस्वीरें लगाई जायेंगी।

क्लब क्रिकेट ऑफ इंडिया के सेक्रेटरी सुरेश बफाना ने कहा- इमरान खान अब सिर्फ एक दिग्गज खिलाड़ी नही हैं, वे पाकिस्तान के प्रधानमंत्री हैं। प्रधानमंत्री बनते ही उन्होंने भारत से दोस्ती की बात कही थी और इस हमले के बाद उनके मुंह से बोल नहीं फूट रहे।

क्रिकेट क्लब द्वारा पाकिस्तान के इस विरोध के तरीके की हम भी सराहना करते हैं। पाकिस्तान को सबक सिखाने का इससे बेहतर तरीका और क्या ही हो सकता है कि उसे दुनिया में अलग-थलग कर दिया जाये। बजाय इसके कि हम पाकिस्तान से युद्ध कर अपने सैनिकों की जान जोखिम में डालें, उससे बेहतर है कि पाकिस्तान का नाम इतिहास से मिटा दें। इसकी शुरुआत क्रिकेट क्लब ने कर दी है।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here