हरिवंश राय बच्चन हिन्दी भाषा के एक कवि और लेखक थे। जिन्हें आज के समय में हम सभी भली-भांति जानते हैं। इलाहाबाद के प्रवर्तक बच्चन हिन्दी कविता के उत्तर छायावाद काल के प्रमुख कवियों मे से एक हैं। उनकी सबसे प्रसिद्ध कृति मधुशाला है। जिसके बाद उन्हें अपनी एक बड़ी पहचान मिली।

जब हरिवंश राय बच्चन छोटे थे, तब इन्हें ‘बच्चन’ कहा जाता था, जिसका शाब्दिक अर्थ ‘बच्चा’ या ‘संतान’ होता है। बाद में बच्चन साहब इसी नाम से मशहूर हुए। इन्होंने कायस्थ पाठशाला में पहले उर्दू की शिक्षा ली, जो उस समय कानून की डिग्री के लिए पहला कदम माना जाता था। उन्होंने प्रयाग विश्वविद्यालय से अंग्रेजी में एम.ए. और कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय से अंग्रेजी साहित्य के विख्यात कवि डब्लू.बी. यीट्स की कविताओं पर शोध कर पीएचडी पूरी की थी।

हरिवंश राय बच्चन , फोटो सोर्स- गूगल
हरिवंश राय बच्चन , फोटो सोर्स- गूगल

चलिये आज की कविता में आज आपको पढ़ाते हैं हरिवंश राय बच्चन की मशहूर रचना,

‘रीढ़ की हड्डी’

मैं हूँ उनके साथ, खड़ी जो सीधी रखते अपनी रीढ़

कभी नहीं जो तज सकते हैं, अपना न्यायोचित अधिकार
कभी नहीं जो सह सकते हैं, शीश नवाकर अत्याचार
एक अकेले हों, या उनके साथ खड़ी हो भारी भीड़
मैं हूँ उनके साथ, खड़ी जो सीधी रखते अपनी रीढ़

निर्भय होकर घोषित करते, जो अपने उदगार विचार
जिनकी जिह्वा पर होता है, उनके अंतर का अंगार
नहीं जिन्हें, चुप कर सकती है, आतताइयों की शमशीर
मैं हूँ उनके साथ, खड़ी जो सीधी रखते अपनी रीढ़

नहीं झुका करते जो दुनिया से करने को समझौता
ऊँचे से ऊँचे सपनों को देते रहते जो न्यौता
दूर देखती जिनकी पैनी आँख, भविष्यत का तम चीर
मैं हूँ उनके साथ, खड़ी जो सीधी रखते अपनी रीढ़

जो अपने कन्धों से पर्वत से बढ़ टक्कर लेते हैं
पथ की बाधाओं को जिनके पाँव चुनौती देते हैं
जिनको बाँध नही सकती है, लोहे की बेड़ी जंजीर
मैं हूँ उनके साथ, खड़ी जो सीधी रखते अपनी रीढ़

जो चलते हैं अपने छप्पर के ऊपर लूका धर कर
हर जीत का सौदा करते जो प्राणों की बाजी पर
कूद उदधि में नहीं पलट कर, जो फिर ताका करते तीर
मैं हूँ उनके साथ, खड़ी जो सीधी रखते अपनी रीढ़

जिनको यह अवकाश नहीं है, देखें कब तारे अनुकूल
जिनको यह परवाह नहीं है कब तक भद्रा, कब दिक्शूल
जिनके हाथों की चाबुक से चलती हें उनकी तकदीर
मैं हूँ उनके साथ, खड़ी जो सीधी रखते अपनी रीढ़

तुम हो कौन, कहो जो मुझसे सही ग़लत पथ लो तो जान
सोच-सोच कर, पूछ-पूछ कर बोलो, कब चलता तूफ़ान
सत्पथ वह है, जिस पर अपनी छाती ताने जाते वीर
मैं हूँ उनके साथ, खड़ी जो सीधी रखते अपनी रीढ़


ये भी पढ़ें- आज की कविता में पढ़िये ‘उदय प्रकाश’ की प्रसिद्ध रचना ‘कुछ बन जाते हैं’