विश्व कप का 34वां मैच, एक तरफ वेस्टइंडीज जिसके पास खोने के लिए कुछ नहीं और दूसरी तरफ श्रीलंका जिसके लिए यह मैच बड़े अंतर से जीतना बहुत जरुरी था। डरहम के चेस्टर ली स्ट्रीट के मैदान पर जब टॉस वेस्टइंडीज ने जीता तो पहले फिल्डिंग करने का फैसला किया। श्रीलंका पहले बैटिंग करते हुए 50 ओवर में कुल 339 रन बना डाले। और वेस्टइंडीज यह मैच 23 रन  से हार गई। इस तरह श्रीलंका का इस विश्व कप में यह तीसरी जीत है। लेकिन उसके सेमीफाइनल में जाने की उम्मीद खत्म हो गई है।

अविष्का फर्नांडों ने अपने करियर का लगाया पहला शतक

श्रीलंका के कप्तान दिमुथ करुणारत्ने और कुसल परेरा ने टीम को अच्छी शुरुआत दी और पहले पावर प्ले खत्म होने तक श्रीलंका 49 रन बना चुका था। श्रीलंका का पहला विकेट 93 रन पर गिरा।

अपने वनडे करियर का पहला शतक लगाने के बाद अविष्का फर्नांडो, फोटो सोर्स: गूगल
अपने वनडे करियर का पहला शतक लगाने के बाद अविष्का फर्नांडो, फोटो सोर्स: गूगल

थिरुमाने 32 रन बनाकर आउट हो गए। इसके बाद परेरा 51 गेंदों पर 64 रन बनाकर ब्रैथवेट के हाथों रन आउट हो गए। इसके बाद अविष्का फर्नांडों ने श्रीलंका की तरफ से इस वर्ल्ड कप में पहला शतक ठोका। फर्नांडों 104 रन के निजी स्कोर पर आउट हुए। लेकिन तब तक वह श्रीलंका को एक मजबूत स्थिति में पहुंचा चुके थे।

निकोलस का शतक नहीं आया काम

श्रीलंका ने वेस्टइंडीज को जीत के लिए 340 रनों का लक्ष्य दिया। लेकिन वेस्टइंडीज की शुरुआत काफी खराब रही। उसका पहला विकेट 12 रन के कुल स्कोर पर गिर गया। सुनील एंब्रिस 5 रन ही बना सके। उनका विकेट लसीथ मलिंगा ने लिया। लसीथ मलिंगा ने इसके बाद  साई होप को बोल्ड कर श्रीलंका को दूसरी सफलता दिलाई। इसके बाद क्रिस गेल भी आउट हो गए। क्रिस गेल 48 गेंदों में 35 रन बनाकर आउट हुए। इसके बाद फैबियन एलेन 30 गेंदों में अपना अर्द्धशतक पूरा किया। लेकिन इसके तुरंत बाद वो रन आउट हो गए।

निकोलस पुरन, फोटो सोर्स: गूगल
निकोलस पुरन, फोटो सोर्स: गूगल

वेस्टइंडीज एक समय लग रहा था कि 340 का लक्ष्य आसानी से हासिल कर लेगा लेकिन, लगातार दो रन आउट ने श्रीलंका को मैच में वापसी करा दी। एक तरफ से निकोलस पुरन ने एक छोर संभाले रखा। निकोलस ने अपने वनडे करियर का पहला शतक पूरा किया। 92 गेंदो में अपना शतक पूरा करने के बाद 103 गेंदों में 118 रन बनाकर आठवें विकेट के रुप में आउट हुए।

प्रतीकात्मक तस्वीर, फोटो सोर्स: गूगल
प्रतीकात्मक तस्वीर, फोटो सोर्स: गूगल

श्रीलंका के इस जीत के बाद विश्व कप के प्वाइंट टेबल में कोई बदलाव नहीं हुआ है। सेमीफाइनल में श्रीलंका को पहुंचने के लिए यह मैच बड़े अंतर से जीतना था लेकिन ऐसा हुआ नहीं। वर्ष 1996 की चैंपियन श्रीलंका की इस विश्व कप में आठ मैचों में यह तीसरी जीत है और उसके अब आठ अंक हो गए हैं। वहीं, दो बार की विश्व विजेता वेस्टइंडीज को आठ मैचों में छठी हार का सामना करना पड़ा है। हालांकि दोनों टीमें सेमीफाइनल की होड़ से पहले ही बाहर हो चुकी है। इस मैच में अपने करियर का पहला शतक लगाने वाले अविष्का फर्नांडो को मैन ऑफ द मैच दिया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here