जब शिवसेना के प्रमुख बाला साहब ठाकरे थे. तब एक बार वो रजत शर्मा की आपकी अदालत प्रोग्राम में आए थे. रजत शर्मा ने उनसे एक सवाल पूछा था. सवाल था..लोग आपसे डरते हैं? उनका जवाब था…डरना ही चाहिए. अब बाला साहब ठाकरे इस दुनिया में नहीं हैं पर, उनका डर आज भी है. वजह है उनके बेटे उद्धव ठाकरे का शिवसेना प्रमुख होना. जब रजत शर्मा ने बाला साहब ठाकरे से ये सवाल किया था तब, उनके दिमाग में महाराष्ट्र की सियासत और वहां के लोग होंगे.

पर अब कमान उद्धव ठाकरे के हाथों में आ गई है. यही वजह कि उन्होंने अब इस सियासत को महाराष्ट्र में ही नहीं, दूसरे राज्यों में भी बढ़ाने का मन बना लिया है. शुरूआत हरियाणा चुनाव से कर रहे हैं.

हरियाणा चुनाव के लिए शिवसेना के उम्मीदवार नवीन दलाल, फोटो सोर्स: गूगल
हरियाणा चुनाव के लिए शिवसेना के उम्मीदवार नवीन दलाल, फोटो सोर्स: गूगल

पूरा मामला जान लीजिए

हरियाणा में 21 अक्टूबर को विधानसभा चुनाव होने वाले हैं. इस चुनाव में सभी पार्टियों ने तकरीबन अपने सभी उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है. शिवसेना भी इन्हीं पार्टियों में शामिल है. पर शिवसेना के लिए हरियाणा चुनाव गले की फांस बन गया है.

वजह है, नवीन दलाल. इसे शिव सेना ने हरियाणा के बहादुरगढ़ से टिकट दिया है. पर इन भाई साहब का ट्रैक रिकॉर्ड बेहद खराब है. इन्होंने ही अगस्त 2018 में दरवेश शाहपुर के साथ मिलकर उमर खालिद पर गोली चलाई था. यह हमला तब हुआ था, जब खालिद कॉन्स्टिट्यूशन क्लब में भाषण देने आए थे. इस हमले में खालिद बाल-बाल बच गए थे.

Image result for शिव सेना
फोटो सोर्स: गूगल

शिवसेना ने इस पर सफाई दी है

टिकट देने को लेकर हुए विवाद में शिवसेना ने अपना बचाव करते हुए कहा है कि,

नवीन, हमेशा ही गौरक्षा के मुद्दे उठाते रहते हैं और जो लोग देश विरोधी नारे लगाते हैं उनके खिलाफ भी आवाज उठाते हैं. इसलिए पार्टी ने उनको चुना है.

कौन है नवीन दलाल?

नवीन ने एक गौरक्षा संगठन बना रखा है. जिसमें वो तन और मन से काम करते हैं. पर उनका मन इससे नहीं भरा इसलिए उन्होंने शिवसेना ज्वॉइन कर ली. इस हिसाब से तो शिवसेना को अपना नारा बना लेना चाहिए.

‘गौ रक्षक बनिए, शिवसेना का टिकट पाइए’

नवीन ने इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए, शिवसेना ज्वॉइन करने की वजह बताई है. उन्होंने कहा है,

हम गौरक्षा, राष्ट्रवाद और स्वतंत्रता सेनानियों के सम्मान जैसे मुद्दों पर ही चुनाव लड़ रहे हैं. कांग्रेस और बीजेपी की सरकारों को गाय, राष्ट्रवाद, किसान और गरीब से कुछ लेना-देना नहीं है. ये सिर्फ राजनीति करते हैं.

छात्र नेता उमर खालिद, फोटो सोर्स: गूगल
छात्र नेता उमर खालिद, फोटो सोर्स: गूगल

फरार भी हुआ है

नवीन दलाल और उसके साथी शाहपुर, उमर खालिद पर हमला करके फरार हो गए थे. इसके बाद दोनों ने एक वीडियो जारी किया था. जिसमें इन्होंने कहा था,

देश को स्वतंत्रता दिवस का तोहफा था. नवीन दलाल फिलहाल जमानत पर बाहर है.

देश प्रेम के तहत किया गया था हमला

शिवसेना के नेता नवीन दलाल के बचाव में आ गए हैं. उन्होंने कहा है कि,

वो हमला नवीन का देश प्रेम दिखाने का तरीका था. नवीन को इस बात का गुस्सा था कि उमर खालिद के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई इसलिए नवीन ने ऐसा किया. नवीन के चुनावी हलफनामे में लिखा है कि उनके खिलाफ 3 पुलिस केसेज पेंडिंग हैं.

अब इन लोगों को कोई समझाए कि अपराध-अपराध होता है. चाहे किसी वजह से क्यों न किया जाए. वैसे भी अगर व्यक्ति गलत है तो उसके लिए पुलिस और कोर्ट है. अगर इसी तरह कानून को सब अपने हाथों में लेने लगे तो एक दिन सारे देश में मार-काट मच जाएगी.

ये भी पढ़े:- मायावती ने हरियाणा में जिस आदमी को टिकट दिया है उस पर रेप का आरोप है