सुनील दत्त और नरगिस दत्त फिल्मी दुनिया के वे सितारे हैं जिन्हें उनकी अदाकारी के अलावा भी याद किया जाता है। दोनों की प्रेम कहानी बहुत याद की जाती है। सुनील दत्त का जन्म 6 जून 1929 को हुआ था और 25 मई 2005 को उन्होंने दुनिया को अलविदा कह दिया था। नरगिस दत्त का जन्म 1 जून 1929 को हुआ था और कैंसर की वजह से 3 मई 1981 को उनका निधन हो गया था। इन दोनों के बहुत सारे किस्से हैं कुछ फिल्मी और कुछ नाॅन फिल्मी।

सुनील और नरगिस दत्त, फोटो सोर्स- गूगल

नरगिस को देखकर नर्वस

ये तो सबको पता है कि सुनील और नरगिस दत्त ने एक-दूसरे से शादी कर ली थी, दोनों एक-दूसरे को बहुत प्यार करते थे। ये तब की बात है जब सुनील दत्त एशिया के सबसे पुराने रेडियो, रेडियो सीलोन में रेडियो जाॅकी के तौर काम करते थे। भारी आवाज और अलग अंदाज ने उनको यहां खूब लोकप्रिय कर दिया। यहीं उनकी मुलाकात नरगिस दत्त से हुई।

नरगिस दत्त, फोटो सोर्स- गूगल

हुआ यूं कि नरगिस दत्त तब तक फिल्मों में अच्छा-खासा नाम बना चुकी थीं, राजकपूर के साथ उनकी जोड़ी काफी हिट थी। सुनील दत्त का तो फिल्मी दुनिया से दूर-दूर तक कोई नाता नहीं था। रेडियो सीलोन में सुनील दत्त को नरगिस का इंटरव्यू लेने का जिम्मा सौंप दिया गया। सुनील दत्त को जब पता चला कि उन्हें नरगिस का इंटरव्यू लेना है तो वे घबरा गये और जब अपने सामने देखा तो नर्वस हो गए। नरगिस को देखकर वे इतना घबरा गए कि उनके मुंह से एक शब्द नहीं निकला। इस खराब इंटरव्यू के कारण सुनील दत्त को खूब डांट पड़ी और नौकरी जाते-जाते बची।

दो बीघा जमीन के सेट पर

इसके बाद सुनील दत्त भी फिल्मों में आ गए, 1955 में उनकी पहली मूवी थी प्लेटफाॅर्म। लेकिन उससे पहले ही सुनील दत्त और नरगिस की मुलाकात हो चुकी थी। नरगिस अगली बार सुनील से मिलीं दो बीघा जमीन के सेट पर। यहां सुनील दत्त काम की तलाश में आए थे और नरगिस डायरेक्टर बिमल राॅय से मिलने आईं थीं। नरगिस की नजर जैसे ही सुनील दत्त पर पड़ी। उनको रेडियो सीलोन का वाकया याद आ गया और वो मुस्कुरा कर आगे बढ़ गईं।

नरगिस दत्त और राजकपूर, फोटो सोर्स- गूगल

नरगिस को देखकर भूल जाते थे डायलाॅग

इसके बाद दोनों की अच्छे से मुलाकात हुई, बात हुई 1957 में। क्योंकि नरगिस और सुनील दत्त एक ही मूवी में काम कर रहे थे। मूवी का नाम था, मदर इंडिया। इस मूवी में नरगिस ने सुनील दत्त की मां का रोल निभाया। शूटिंग के वक्त अपने सामने नरगिस को देखकर सुनील दत्त नर्वस हो जाते और अपने डायलाॅग ही भूल जाते। तब सुनील दत्त को सहज करने के लिए नरगिस ने उनसे खूब बातें की और समझाया। इस दरियादली की वजह से सुनील दत्त को नरगिस दत्त अच्छी लगने लगी थी।

फिल्म मदर इंडिया का एक सीन, फोटो सोर्स- गूगल

इस मूवी के लिए सुनील दत्त वाले रोल के लिए दिलीप कुमार से बात की गई थी। लेकिन उन्होंने ये कहकर मना कर दिया था कि नरगिस मेरी मां कैसे हो सकती है? वो तो मेरी मूवी की हीरोइन है। डायरेक्टर महबूब खान ने दिलीप कुमार को डबल रोल का आफर किया और कहा कि आप बाप-बेटे दोनों का रोल निभा लीजिए लेकिन दिलीप कुमार ने मना कर दिया। इस तरह से सुनील दत्त को मदर इंडिया का रोल मिला।

नरगिस के लिए आग के कूदे

मूवी की शूटिंग चल रही थी, सब अच्छा हो रहा था। लेकिन फिर कुछ ऐसा हुआ जिससे नरगिस और सुनील दत्त और करीब हो गये। हुआ यूं कि गुजरात के किसी गांव में ‘मदर इंडिया’ की शूटिंग चल रही थी। सीन कुछ ऐसा था कि पुआल में आग के बीच से नरगिस को बाहर निकलना था। लेकिन आग कुछ ज्यादा ही फैल गई और नरगिस आग के बीच फंस गई। तब सुनील दत्त आग के बीच में कूद गये और अपनी जान की परवाह किए बिना नरगिस की जान बचा ली। इस हादसे में सुनील दत्त बहुत ज्यादा जल गये। वे बार-बार बेहोश भी होने लगे।

सुनील और नरगिस दत्त, फोटो सोर्स- गूगल

उनको अस्पताल में भर्ती कराया गया। नरगिस अब सुनील दत्त के लिए सिर्फ उनकी हीरोइन नहीं थीं, दिल के करीब भी थीं। दोनों एक-दूसरे को पसंद करते थे लेकिन किसी ने इजहार नहीं किया था। जब सुनील दत्त अस्पताल में भर्ती थे तो नरगिस रोज अस्पताल आतीं और सुनील दत्त की देखभाल करतीं। इसी बीच सुनील दत्त की बहन की भी तबियत खराब हो गई। सुनील दत्त को बिना बताए नरगिस उनकी बहन को अस्पताल ले गईं और इलाज कराया।

इस घटना के बाद सुनील दत्त ने पक्का कर लिया कि अब आगे की जिंदगी नरगिस के साथ ही बितानी है। सुनील दत्त ने जल्दी ही नरगिस को प्रपोज कर दिया और नरगिस ने भी हां कर दी। 11 मार्च 1958 को दोनों ने शादी कर ली। कैंसर की वजह से नरगिस दत्त ने 3 मई 1981 को दुनिया से अलविदा कह दिया। सुनील दत्त ने उसके बाद कई फिल्मों में काम किया। 2003 में अपने बेटे की फिल्म ‘मुन्ना भाई एमबीबीएस’ में आखिरी बार नजर आये थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here