इस बार के लोकसभा चुनाव में राजनीतिक दलों ने चुनाव लड़ने के लिए एक अलग ही मापदंड तैयार किया है। बेरोजगारी, अशिक्षा और तमाम ऐसे मुद्दे जो आम जनता के लिए काफी महत्वपूर्ण है, उसे छोड़कर ‘चौकीदार चोर है’ और ‘मै भी चौकीदार हूं’ से पूरा देश इस वक्त ग्रसीत है। सोशल मीडिया के इस दौर में राजनीतिक दलों ने इसका जिस तरह से यूज किया है वह काफी शर्मनाक है। जिस तरह से पिछले पांच सालों में राजनीति हुई है शायद यह भारतीय इतिहास का सबसे घटिया और निचले स्तर पर पहुंच गया है। क्योंकि सत्ता के लोभ में ये नेता अपने अस्तित्व को खोते जा रहे है।

राफेल डील के उपर आवाज उठाए जाने के बाद जैसे सभी नेताओं को ‘चौकीदार’ शब्द की लत लग गई हो। बीजेपी के नेता अपने ट्वीटर एकांउट में ‘चौकीदार’ शब्द जोड़कर बीजेपी के सदस्य होने का प्रमाण दें रहे है तो कांग्रेस भी ‘चौकीदार चोर है’ के नारे लगाकर विपक्षी दल की भूमिका निभा रही है।

मीनाक्षी लेखी, फोटो सोर्स: गूगल

इस बीच लोकसभा चुनाव का पर्याय बन चुके ‘चौकीदार’ शब्द को लेकर राहुल गांधी फंसते हुए नज़र आ रहे हैं। बीजेपी के नेता मिनाक्षी लेखी ने राहुल गांधी के खिलाफ अवमानना की याचिका दायर करते हुए कहा,

राहुल गांधी ने सुप्रिम कोर्ट के बयान को तोड़-मरोड़कर पेश किया है। सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में बस इतना कहा था कि तमाम अख़बारों में छपी खबर भी अब सुप्रीम कोर्ट के टेबल पर है और अब सुप्रीम कोर्ट इसे भी अपने जांच के दायरे में लाएगा।

मिनाक्षी लेखी के याचिका दायर करने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने राहुल गांधी को एक नोटिस भेजा है। सुप्रीम कोर्ट इस मामले की सुनवाई मंगलवार को करेगा। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अगुआई वाली बेंच ने कहा कि कोर्ट ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ कोई टिप्पणी नहीं की है। राहुल गांधी पर सुप्रीम कोर्ट के बयान को गलत तरह से पेश करने का आरोप है।

क्या है मामला?

राफेल मामले में अरुण शौरी द्वारा एक याचिका दाखिल की गई थी जिसमें इस मामले पर पुनर्विचार करने की मांग की गई थी। सुप्रिम कोर्ट ने भी इस याचिका को मंजुरी दे दी थी। जिसके बाद कांग्रेस की तरफ से अलग-अलग बातें कही जाने लगी। अमेठी में नामांकन दाखिल करने के बाद संवाददाताओं से राहुल गांधी ने कहा कि मै पहले भी कह रहा था कि भारत के प्रधानमंत्री ने एयरफोर्स का पैसा अनिल अंबानी को दे दिया है इसकी जांच की जाए। आज मै बहुत खुश हूं कि आखिरकार सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले को फिर से जांच करने की मंजुरी दे दी है। यानि सुप्रीम कोर्ट भी अब मान चुका है कि ‘चौकीदार चोर है’। इसके लिए मै सुप्रीम कोर्ट का धन्यवाद करना चाहता हूं। आखिर न्याय की जीत हुई है। जिसके बाद बीजेपी सांसद मीनाक्षी लेखी ने राहुल गांधी के इस बयान पर आपत्ति जताते हुए कहा कि राहुल गांधी अपने नीजी बयान को सुप्रीम कोर्ट का बयान बता रहे हैं और इस तरह लोगों के मन में गलत धारणा बैठा रहे है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here