नेता जी! कब तक देश बस जुमलों के भरोसे चलता रहेगा?

सालों से हम देखते चले आ रहे हैं कि जैसे ही देश में चुनाव आते हैं पूरे