आज का दौर विज्ञान का दौर है जहां महिलाएं भी साइंटिस्ट होती थी लेकिन एक साइलेंट साइंटिस्ट के तौर पर। अक्सर ये देखा गया है कि ‘रॉकेट साइंस’ पुरुषों का डिपार्टमेंट रहा है लेकिन अब इसरो की ‘महिला वैज्ञानिकों’ ने इस गलतफ़हमी को भी खत्म कर दिया है। हम सब ने साल 2014 की वो तस्वीरें तो देखी ही होंगी, जहां इसरो कंट्रोल स्टेशन में सिल्क की साड़ी पहने महिलाएं एक-दूसरे को मिशन सफल हो जाने पर गले लग कर बधाई दे रही थी। सैटेलाइट कंट्रोल स्टेशन का यह नज़ारा बहुत फेमस हुआ। साथ ही उनकी हिस्सेदारी में भी कोई कमी नहीं आई। भले ही इनकी संख्या कम है लेकिन इनके जज़्बे काफी बुलंद हैं।

जब इसरो का ‘मिशन मंगल’ सफल हुआ था तब साइंटिस्ट के साथ-साथ हर भारतीय के चहरे पर खुशी और गर्व था। विज्ञान के क्षेत्र में इतनी बड़ी सफलता मिलना भारत के लिए बहुत ही गर्व की बात थी। खुद देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी इस सफलता पर सभी वैज्ञानिकों को बधाई भी दी थी और ऐसे ही आगे के और प्रोजेक्ट्स के लिए शुभकामनाएं भी दी थी।

प्रतीकात्मक तस्वीर, फोटो सोर्स: गूगल

प्रतीकात्मक तस्वीर, फोटो सोर्स: गूगल

बॉलीवुड इंडस्ट्री में रिमेक्स बनना, सोशल इशूज़ पर फिल्में बनना या फिर उस तरह की मूवीज़ का बनना जो देश के लिए बहुत बड़ी उपलब्धि रही हों, एक आम बात हो गई है। इस बार इसरो के सफल रहा ‘मिशन मंगल’ पर मूवी बनाई गयी है जिसमें अक्षय कुमार सहित पाँच महिला एक्टर्स भी हैं। बॉलीवुड इंडस्ट्री के डायरेक्टर ‘जगन शक्ति’ ने इस मूवी को डायरेक्ट किया है। इस मूवी का टीज़र भी रिलीज़ हो चुका है और 15 अगस्त को ये मूवी सिनेमाघरों में भी आ जाएगी।

क्या था मिशन मंगल?

इसरो का विज्ञान में मिशन मंगल सबसे बड़ा प्रोजेक्ट रहा है और इसमे उन्हें बहुत बड़ी उपलब्धि भी मिली थी। भारत द्वारा ग्रहों पर भेजा मंगलयान पहला यान था। इसके बाद भारत भी उन देशों में शामिल हो गया जिसने मंगल पर अपने यान भेजे हैं। यह मिशन भारत का पहला मिशन था जिसे 5 नवंबर 2013 में 2 बजकर 38 मिनट पर पूरा किया गया था।

‘मिशन मंगल’ पूरी दुनिया में चौथे नंबर पर रहा था और यह एक ऐसा मिशन भी रहा जो सबसे सस्ता था। इसकी सफलता पर पूरे इसरो में एक त्योहार का माहौल बन गया था। हर कोई इस खुशी को अपने-अपने ढंग से मना रहा था। इस प्रोजेक्ट एक गौर करने वाली बात ये भी है कि, अब तक महिलाएं एक साइलेंट साइंटिस्ट के तौर पर काम करती रहीं थी जिन्हें कभी फ्रंट पर आने का मौका मिला भी  भी नहीं किया गया था। लेकिन इस बार ‘मिशन मंगल’ में महिलाएं फ्रंट पर तो थीं ही साथ ही उन्होंने अपनी एक पहचान भी बनाई जो तारीफ करने लायक है।

मूवी के बारे में भी जान लेते हैं

‘मिशन मंगल’ को जगन शक्ति ने डायरेक्ट किया है। इस मूवी के पोस्टर में ही देखा जा चुका है कि अक्षय कुमार लीड रोल में हैं और उनके साथ विद्या बालन, तापसी पन्नू, सोनाक्षी सिन्हा, कीर्ति कुल्हारी और नित्या मेनन मुख्य भूमिका में हैं। इस मूवी का टीज़र रिलीज़ भी हो चुका है। मूवी में अक्षय कुमार वैज्ञानिक ‘राकेश धवन’ का रोल निभा रहें हैं। सोशल मीडिया पर भी फिल्म के टीज़र को काफी पसंद किया जा रहा है। इस मूवी के टीज़र पर ISRO (इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन) ने भी अपना रिएक्शन दिया है।Image result for mission mangal

इसरो के ऑफिशियल इंस्टाग्राम हैंडल से अक्षय कुमार की पोस्ट पर कमेन्ट करके लिख गया हैं- ”एक देश”, “एक सपना”, इंडिया स्पेस का सुपरपावर बनने वाला है। चंद्रयान-2 का सपना साकार होने सिर्फ कुछ दिन ही बचे हैं।” इसरो जल्द ही 14 जुलाई को चंद्रयान-2 लॉन्च करने वाला है। वहीं दूसरी तरफ अक्षय कुमार की फिल्म ‘मिशन मंगल’ 15 अगस्त को रिलीज होने वाली है। यह पूरी मूवी एक इतिहास में दर्ज हुई सच्ची घटना पर बेस्ड है जहां भारत के स्पेस मिशन की अनसुनी कहानियों को दिखाया गया है।

इस फिल्म के बारे में अक्षय ने बताया कि, ‘ये फिल्म उन्होंने अपनी बेटी के लिए की है।‘ अभी हाल ही में अक्षय कुमार ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर एक पोस्ट शेयर किया। जिसका नाम ‘मिशन इंस्पायर’ टाइटल रखा। इस पोस्ट में उन्होंने लिखा कि, “मैं हमेशा से ऐसी फिल्म का हिस्सा बनना चाहता था, जो आने वाली पीढ़ियों को प्रेरित करे। जो उनकी कल्पना और जिज्ञासा को उड़ान दे। ‘मिशन मंगल’ मेरे लिए वही फिल्म है।“

आगे उन्होंने बताया कि, “यह फिल्म लोगों को जितना प्रेरित करेगी, उतना ही मनोरंजन भी देगी। ये पूरी फिल्म ‘मिशन मंगल’, ‘मंगल अभियान’ की सच्ची घटना पर आधारित फिल्म है। यह साधारण लोगों के असाधारण लक्ष्य को हासिल करने की कहानी है। यह फिल्म साबित करती है कि विचार और सपने आसमान की तरह असीमित होते हैं।“

‘मिशन मंगल’ के रियल एक्टर कौन हैं?

इसरो के मंगलयान मिशन में जितना काम पुरुषों ने किया उतना ही महिला वैज्ञानिकों ने भी किया है। और जैसा कि फिल्म के पोस्टर में भी महिलाओं की तस्वीर दिखाई गयी है। लेकिन असल ज़िंदगी में उनके बारे में बहुत ही कम लोग जानते हैं, इसलिए उनके बारे में भी जान लेते हैं।

मीनल संपत, फोटो सोर्स: गूगल

मीनल संपत, फोटो सोर्स: गूगल

इस लिस्ट में सबसे पहला नाम है, ‘मीनल संपत’। मीनल इसरो में वैज्ञानिक और सिस्टम इंजीनियर हैं। इन्होंने इसरो में दो साल तक काम किया है। मीनल को दिन के 18-18 घंटे तक बिना खिड़की वाले बंद कमरे में काम करना पड़ता था। इन्होंने ‘निरमा इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी’ से ग्रेजुएशन किया। उसके बाद इसरो से जुड़ी थीं।

अनुराधा टीके, फोटो सोर्स: गूगल

अनुराधा टीके, फोटो सोर्स: गूगल

दूसरा नाम है, ‘अनुराधा टीके’। अनुराधा इसरो में ‘प्रोजेक्ट डायरेक्टर’ हैं। जब ये छोटी थीं, तब ‘नील आर्मस्ट्रॉन्ग’ से बहुत इंस्पायर हुई थीं। ‘नील’ ने जब पहली बार चंद्रमा पर कदम रखा था, तभी अनुराधा ने भी फैसला कर लिया था कि वो भी स्पेस साइंटिस्ट ही बनेंगी।

 

रितू करिधल, फोटो सोर्स: गूगल

रितू करिधल, फोटो सोर्स: गूगल

तीसरा नाम है, ‘रितू करिधल’ रितू इसरो में ‘डिप्टी ऑपरेशन्स डायरेक्टर’ थीं। ये अब भी इसरो के साथ ही काम करती हैं। और इस समय इसरो के चंद्रयान-2 मिशन को भी डायरेक्ट कर रही हैं।

नंदिनी हरीनाथ, फोटो सोर्स: गूगल

नंदिनी हरीनाथ, फोटो सोर्स: गूगल

चौथा नाम आता है, ‘नंदिनी हरिनाथ’। नंदिनी  इसरो में रॉकेट साइंटिस्ट हैं। ये इसरो के बेंगलुरू के सेटेलाइट सेंटर में काम करती हैं। नंदिनी 20 साल से इसरो से जुड़ी हुई हैं। अब तक ये 14 मिशन्स में काम कर चुकी हैं। इन्होंने ‘मिशन मंगल’ में अपनी अहम भूमिका निभाई थी।

मौमिता दत्ता, फोटो सोर्स: गूगल

मौमिता दत्ता, फोटो सोर्स: गूगल

पांचवा नाम है, ‘मौमिता दत्ता’। मौमिता इसरो के ‘स्पेस एप्लीकेशन सेंटर’ (SAC)में साइंटिस्ट /इंजीनियर के तौर पर काम कर रही हैं। ‘मिशन मंगल’ में भी ये टीम का हिस्सा रह चुकी हैं। ये पाँच नाम इस मूवी में भी नज़र आने वाली है। फर्क सिर्फ इतना होगा कि रियल हीरोईन की जगह रिल हीरोईन दिखेंगी। विद्या बालन, सोनाक्षी सिन्हा, तापसी पन्नू, नित्या मेनन, कीर्ति कुल्हरी इन पांचों का कैरेक्टर प्ले करने वाली हैं।  अब जो भी हो लेकिन सभी को इस फिल्म का बेसब्री से इंतज़ार हैं।