साल 1933, वेस्टइंडीज़ और इंग्लैंड के बीच टेस्ट मैच चल रहा था। मैनचेस्टर में हो रहे इस मैच में वेस्टइंडीज़ के बाएं हाथ के गेंदबाज़ एलिस अचॉन्ग ने इंग्लैंड के बल्लेबाज़ वाल्टर रॉबिन्स को ऑफ स्टंप के बाहर से गेंद को टर्न कराकर बोल्ड कर दिया था। रॉबिन्स इस गेंद पर बोल्ड होते ही झल्ला गए और उन्होंने अंपायर से एलिस के लिए अपशब्दों के साथ ‘चाइनामैन’ शब्द का इस्तेमाल किया था। जिसके बाद इस शब्द को क्रिकेट में बहुत तवज्जो मिली। लेकिन, अफसोस भारतीय टीम को 1933 के बाद साल 2017 में अपना पहला चाइनामैन बॉलर मिला। वह बॉलर हैं, कुलदीप यादव

कुलदीप यादव, फोटो सोर्स: गूगल

कुलदीप यादव, फोटो सोर्स: गूगल

14 दिसंबर 1996 में कानपुर, उत्तर प्रदेश में जन्में कुलदीप यादव को बचपन से ही क्रिकेट खेलने का शौक था। लेकिन, वह स्पिनर्स नहीं बल्कि, मीडियम पेसर हुआ करते थे क्योंकि वो वसीम अकरम और जहीर खान को देखते हुए बड़े हो रहे थे। कुलदीप यादव के पिता ने उन्हें एकेडमी ज्वॉइन करवा दी। जब उन्होंने कानपुर में एक एकेडमी ज्वॉइन की तब, कोच कपिल पांडे ने उन्हें तेज गेंदबाजी की बजाए स्पिन गेंदबाजी करने की सलाह दी। कपिल पांडे को यह लगा कि कुलदीप की हाइट काफ़ी कम है और इसलिए कुलदीप नॉर्मल ही गेंदबाजी करता है।

कुलदीप को जब उत्तर प्रदेश की रणजी टीम में जगह मिली तो, उस वक्त वह 18 साल के थे। उसी साल उन्हें IPL में भी खेलने का मौका मिला। कोलकता नाईट राइडर्स ने उन्हें खरीदा था। हालांकि, इससे पहले उन्हें मुंबई की टीम ने साल 2012 में ही अपनी टीम में शामिल किया था लेकिन, उन्हें कोई भी मैच खेलने का मौका नहीं मिला था। साल 2014 के बाद से ही उनकी गाड़ी चल पड़ी।

कुलदीप यादव की बचपन की तस्वीर, फोटो सोर्स: गूगल

कुलदीप यादव की बचपन की तस्वीर, फोटो सोर्स: गूगल

कुलदीप को 2014 में वेस्टइंडीज के खिलाफ खेली गई श्रृंखला के लिए भारतीय टीम में शामिल किया गया था। लेकिन, उन्हें किसी मैच में खेलने का मौक़ा नहीं मिला था। बांग्लादेश के खिलाफ फरवरी 2014 में खेले गए एक टेस्ट मैच के लिए चुनी गई टीम में भी कुलदीप का नाम था। लेकिन, उन्हें मैदान पर उतरने का मौक़ा नहीं मिला। कुलदीप यादव की तारीफ पहले ही सचिन तेंदुलकर कर चुके थे क्योंकि आईपीएल  में नेट प्रैक्टिस के दौरान सचिन तेंदुलकर को उन्होंने आउट किया था।

25 मार्च साल 2017, धर्मशाला में भारतीय टीम टेस्ट मैच खेलने वाली थी। ऑस्ट्रेलिया की टीम भारत दौरे पर थी। इसी बीच मैच से पहले नेट प्रैक्टिस के दौरान विराट कोहली चोटिल हो गए और टीम से बाहर भी। उनकी जगह पर टीम मैनेजमेंट ने कुलदीप यादव को मौका दिया औऱ फिर पहली पारी में ही कुलदीप ने अपना ‘चाइनामैन’ अवतार दिखा दिया। उनके इंटरनेशल मैच में पहले टेस्ट शिकार बनें डेविड वार्नर। पहली पारी में उन्होंने 68 रन देकर चार विकेट लिए।

कानपुर में अभ्यास मैच के दौरान, फोटो सोर्स: गूगल

कानपुर में अभ्यास मैच के दौरान, फोटो सोर्स: गूगल

इस तरह से कुलदीप यादव एक खास क्लब में शामिल हो गए। साल 1935 में चक फ़्लीटवुड स्मिथ और 2016 में लक्षण रंगिका के बाद कुलदीप यादव तीसरे ऐसे चाइनामैन गेंदबाज़ बनें, जिन्होंने पहले ही टेस्ट मैच में 4 विकेट झटके। 23 जून 2017 को उन्होंने वेस्टइंडीज के खिलाफ वनडे टीम में डेब्यू किया। भारतीय टीम वेस्टइंडीज दौरे पर थी फिर, 9 जुलाई 2017 को उन्होंने वेस्टइंडीज के खिलाफ ही टी-20 में डेब्यू किया था।

कुलदीप इस छोटे से करियर के दौरान इंटरनेशनल वनडे में हैट्रिक भी ले चुके हैं। 21 सितंबर 2017 को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ईडन गार्डंस मैच में पारी के 33वें ओवर में यह कारनामा किया था। मैथ्यू वेड, एश्टोन एल्गर और पैट कमिंस उनके हैट्रिक विकेट्स के शिकार हुए थे। उन्होंने ओवर की दूसरी गेंद पर वेड (2) को बोल्ड किया। अगली गेंद पर एल्गर एलबीडब्ल्यू होकर पवेलियन लौटे। इसके बाद अगली गेंद पर कमिंस को विकेटकीपर धोनी के हाथों कैच कराकर हैट्रिक पूरी की। कुलदीप यादव भारत के दूसरे ऐसे गेंदबाज हैं जिन्होंने क्रिकेट के तीनों ही फॉर्मेट्स में पांच विकेट लिए हैं। उनसे पहले यह काम भुवनेश्वर कुमार कर चुके हैं। आज कुलदीप यादव अपना 25वां जन्मदिन मना रहे हैं।