अगर आपने पटियाला हाऊस फिल्म देखी होगी तो आप ये भी जानते होंगे कि यह फिल्म क्रिकेट पर अधारित है जिसमें अक्षय कुमार लीड रोल में हैं। इस फिल्म की आखिरी सीन अगर याद हो तो उसमें एक बड़े टूर्नामेंट का फाइनल चल रहा था। अक्षय कुमार गेंदबाजी करने  के लिए तैयार थे। उनके सामने ऑस्ट्रेलिया के एक समय के सबसे बेजोड़ हिटर एंड्यू साइमंड्स थे। अंतीम गेंद पर तीन रनों की चाहिए थे। तभी अक्षय कुमार बॉलींग मार्क पर दौड़ना शुरु करते हैं। कमंटेटर की तरफ से यह बात कही जाती है कि अक्षय ने अपना रन-अप छोटा कर दिया है। मतलब अब वो लाला अमरनाथ की तरह गेंद फेकेंगे। जब अक्षय ने गेंद डाली तो गेंद सीधे सायमंड्स की स्टम्प ले उड़ी और इंग्लैंड वो मैच जीत जाता है। इस पूरे किस्से में एक नाम आता है लाला अमरनाथ का।

पटियाला हाउस, फोटो सोर्स: गूगल
पटियाला हाउस, फोटो सोर्स: गूगल

11 सितंबर 1912 को पंजाब के कपूरथाला में जन्में लाला अमरनाथ को क्रिकेट की दुनिया में हमेशा याद किया जाता है। वह कमाल के बल्लेबाज तो थे ही साथ ही एक मारक गेंदबाज भी थे। अपने छोटे से करियर में उनके नाम कई सारे बड़े रिकॉर्ड हैं जो उन्होंने बनाए हैं। ऑस्ट्रेलिया के एलन बॉर्डर से लेकर ब्रैडमैन तक सबने उनकी तारीफ के पुल बांधे हैं। अपने तीनों बेटे को भी क्रिकेट का गुण सीखाने के लिए लाला अमरनाथ  ने काफी मेहनत की जिसका रिजल्ट भी मिला और भारत को एक बेहतरीन खिलाड़ी मोहिन्दर अमरनाथ के रुप में मिला जिसने साल 1983 के विश्वकप जीताने में अहम भूमिका निभाई थी।

लाला अमरनाथ भारत के ऐसे पहले खिलाड़ी थे जिन्होंने सबसे पहले शतक लगाया था। 17 दिसंबर 1933 को भारत और इंग्लैंड के बीच टेस्ट सीरीज का पहला मैच चल रहा था। भारत की तरफ से 22 साल का एक खिलाड़ी अपना डेब्यू मैच चल रहा था। मैच की दूसरी पारी उस वक्त थी। इंग्लैंड काफी मजबूत स्थिति में था। क्योंकि भारत 21 रन भी अपना दो विकेट खो चुका था। लेकिन, उस डेब्यू खिलाडी ने कप्तान सी के नायडू के साथ मिल कर 186 रनों की साझेदारी कर डाली। जो उस मैच की सबसे बड़ी साझेदारी भी थी।

लाला अमरनाथ और सी के नायडू, फोटो सोर्स: गूगल
लाला अमरनाथ और सी के नायडू, फोटो सोर्स: गूगल

117 मीनट की बल्लेबाजी के दौरान उस खिलाड़ी ने अपना शतक पूरा किया और जब आउट हुए तो उस वक्त तक लाल अमरनाथ 118 रन बना चुके थे। उन्होंने अपनी पारी के दौरान कुल 21 चौंके भी लगाए थे। हालांकि वह मैच इंग्लैंड ने 9 विकेट से जीत लिया था। लेकिन, दर्शकों के बीच अमरनाथ का नाम गूंजने लगा था। शतक लगाने का उन्हें तोहफा भी मिला जब एक महिला ने उन्हें ज्वेलरी भेंट की थी। साथ ही साथ एक अफसोस की बात ये भी है अमरनाथ का वह पहला शतक उनके जीवन का आखिरी शतक भी साबित हुआ।

अमरनाथ ने अपनी करियर में कुल 24 टेस्ट खेले और 878 रन बनाए, साथ ही 45 विकेट भी चटकाए। उनके करियर से रिलेटेड एक और रिकॉर्ड है। अमरनाथ दुनिया के पहले ऐसे गेंदबाज भी थे जिन्होंने सर डॉन ब्रैडमेन को हीट विकेट आउट किया हो। यह 1947 में हुए टेस्ट मैच के दौरान हुआ था। इस मैच में ब्रैडमेन ने 336 गेंदों में 185 रनों की पारी खेली थी।  अपने करियर में सिर्फ 70 बार आउट होने वाले सर डॉन ब्रैडमेन केवल एक ही बार हीट विकेट आउट हुए हैं।  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here