पहाड़ों में हर बार जाकर लगता है जैसे कुछ रह सा गया है, मुझे थोड़ा और आगे जाना चाहिये था। जब मैंने टिहरी के पहाड़ देखे तो लगा कि इससे अच्छा और सुंदर क्या हो सकता है? लेकिन जब आप आगे और आगे जाते हैं तो पता चलता है कि सबसे सुन्दर जैसा कुछ नहीं होता है। वो तो बस क्षणिक सुन्दरता होती है जो आपको उस जगह की याद दिलाती रहती है। इन्हीं पहाड़ों में घूमते-घूमते मैंने वो पहाड़ी देखी, वो चढ़ाई की जो उस पल की याद दिलाता है जो बार-बार उस बर्फानी चोटी की ओर मुझे आकर्षित कर रही थी। हममें से हर कोई बस यही कह रहा था कि ये पल और ये दिन भूला नहीं जायेगा। उस दिन हमने वो असमान से छूती तुंगनाथ की चढ़ाई की।

Image result for tungnath
तुंगनाथ के रास्ते मे/ फोटो: ऋषभ देव

हमारे काॅलेज के फाइनल पेपर खत्म हो गये थे। हमारे साथी और टीचर हम सब एक बार फिर से एक अच्छे सफर की तैयारी कर रहे थे लेकिन उसमें भी कई परेशानी आ रहीं थीं। कहीं समस्या पैसे की थी तो कहीं जगह की। आखिर में हमारे कुछ सीनियर हमारे साथ आ गये तो पैसे की दिक्कत कुछ कम हो गई और जाने के दिन तक जगह भी तय हो गई, तुंगनाथ। तुंगनाथ के बारे में बहुत सुना था कि वो भारत का स्विट्जरलैंड है। हम सब उत्साह और ऊर्जा से भरे हुये थे। तुंगनाथ तक पहुंचाने के लिये हमने एक बस को बुक किया था। हम 9 मई 2018 को सुबह-सुबह लगभग 30-35 लोगों के साथ एक बेहतरीन सफर के लिए निकल पड़े। जो आगे चलकर कुछ को चक्कर दिलाने वाला था और कुछ को नींद।

हरिद्वार से हमारी बस चोपता तक जानी थी और हमें आज ही पहुंचकर चढ़ाई भी करनी थी। इसलिये हमें कम जगह रूकना था जिससे जल्दी चोपता पहुंच सकें। मैं पहली बार इस ओर जा रहा था। इस रास्ते में मैं ऋषिकेश पहले भी कई बार आ चुका था। जैसे-जैसे ऋषिकेश पीछे छूटता जा रहा था वैसे-वैसे बहुत कुछ नया दिखता जा रहा था। सूरज सिर पर चढ़ आया था और घुमावदार सड़क भी शुरू हो गई थी। रास्ते बेहद ही सुंदर नजारों से गुजर रहा था। हम पहाड़ के लिए, पहाड़ के रास्ते जा रहे थे। तेज धूप थी जो अच्छे मौसम का संकेत था और हमारे सफर का भी। हमें देवप्रयाग, रूद्रप्रयाग के रास्ते चोपता पहुंचना था। ऋषिकेश से देवप्रयाग 70 किमी. की दूरी पर था। देवप्रयाग पहुंचने से पहले हम रास्ते में एक जगह रूके जहां हमने अपनी अकड़न दूर की और फिर चल पड़े पहाड़ों के बीच।

रास्ते के पहाड़ और घाटियां / फोटो: ऋषभ देव

पहाड़-नजारे

हम जैसे-जैसे गोल घुमावदार रस्तों से ऊपर जाते हमें कुछ अलग हीं नजारे देखने को मिलते। जिसे देखकर लगता कि इसे इत्मीनान से देखना चाहिए। ऐसी जगह पर बस की बजाए, दोपहिया वाहन से आना चाहिये। हमारे रोड के साथ बगल में ही गंगा बह रही थी। हम नदी की उल्टी दिशा में जा रहे थे, वो हरिद्वार की ओर जा रही थी और हम चोपता की ओर। ऊंचाई से सब कुछ छोटा लगता है लेकिन सुंदर भी लगता है जैसे कि वो पुल जो नदी के बीचोंबीच बना है। कहीं-कहीं पहाड़ों को तोड़कर चौड़ीकरण किया जा रहा था, जिस पर हमारे एक पत्रकार महाशय अपनी टिप्पणी दे रहे थे।

शिवपुरी होते हुये हम कुछ घंटों में देवप्रयाग को जाने वाली रास्ते पर आ गए। जब हमको वो संगम दिखा तो सोने वाले जागकर खिड़की से संगम देखने लगे। संगम में अलकनंदा और भागीरथी का संगम होता है। हम ऊपर से उस संगम को देख रहे थे। मुझे अफसोस हो रहा था कि आंखों के सामने होने के बावजूद, संगम नहीं जा पाया। देवप्रयाग और संगम को छोड़ते हुये हम रूद्रप्रयाग के रास्ते पर आ गये थे। अब दोपहर होने को थी, अब रास्ते में भीड़ देखी जा सकती थी। पहाड़ों के शहर कुछ अलग होते हैं, बहुत जल्दी ही खत्म होने वाले। हम ऐसे ही रास्तों को पार करने के बाद रूद्रपयाग छोड़ चुके थे।

ये गोल पहाड़ी रास्ते

हम जैसे हीं इन पहाड़ी घुमावदार रस्तों पर चढ़ने लगें वैसे ही कुछ लोगों की हालत खराब होने लगी। कुछ साथियों ने खिड़की का सहारा लिया और कुछ ने नींद की। सौरभ सर को अपनी हालत का पहले ही अंदाजा था इसलिए वे रास्ते भर सोते ही रहे। मुझे भी अपने आप पर विश्वास था कि मैं भी ऐसा ही करूंगा। इसलिए गोल रास्तों से बचने के लिए मैंने खिड़की का सहारा लिया। जब मुझे लगता कि पल्टी होने वाली है तो मैं अपना सिर खिड़की से बाहर निकाल लेता जो मुझे सुकून देता और पूरे रास्ते मैंने यही किया।

कुछ देर बाद हम एक होटल पर रूके जो सड़क किनारे था। हम सबने वहां खाना खाया और कुछ जरूरी काम निपटाये जो सफर में परेशान करते हैं। खाना सबने अपनी पसंद का खाया, मैंने कम खाया क्योंकि मुझे डर था कि ज्यादा खाने से मुझे परेशानी हो सकती है। खाना खाने के बाद हम एक बार फिर से अपने सफर की ओर निकल पड़े।

सफेद चादर

कुछ साथी जो आगे बैठे थे वे बातों में लगे थे और पीछे वाले सोने में। हिमांशु भैया अपने अनुभव से रास्ते के बारे में बता रहे थे। मैं भी उनकी बातें सुनना चाहता था इसलिए जब सभी बस पर चढ़े तो मैं आगे ही बैठ गया। मुकेश सर से बातें भी हो रहीं थीं और जानने को भी मिल रहा था। आगे का नजारा सुंदर होने लगा था। एक तरफ तो बिल्कुल पहाड़ हमसे चिपक गया था और दूसरी तरफ नदी बह रही थी और दूर तलक हरा-भरा पहाड़ नजर आ रहा था। अभी भी पहाड़ों पर धूप सीधी पड़ रही थी जो हालत खराब करने के लिये काफी थी।

Image result for haridwar to tungnath
जब हम कुछ दूर आगे निकले तो अचानक मुझे एक सफेद चादर सी दिखी। पहले तो मुझे लगा कि शायद आसमान है लेकिन ध्यान से देखा तो वो सफेद चादर पहाड़ थे जिसे देखकर मैं चिल्ला पड़ा। सभी की नजर उसी ओर जा पड़ी। वो हमसे बहुत दूर थे लेकिन पहली बार ऐसा देखने पर खुशी बहुत होती है। मैं सोच रहा था कि वो शायद केदारनाथ वाला रास्ता है इसलिये मैं उसे मोबाइल में कैद करना चाहता था।

बर्फ वाला पहाड़ दिखने के बाद अचानक मौसम और रास्ते ने मोड़ ले लिया। मौसम में अंधेरापन छाने लगा और रास्ता बीहड़ सा हो गया। रास्ता पेड़ों से घिरा हुआ चला जा रहा था। पेड़ अंधेरे की वजह से काले नजर आ रहे थे और उसके पीछे दिखती सफेद चादर सुंदरता की छटा बिखेर रही थी। हम ऊंखीमठ को पार करते हुये चोपता के नजदीक आ चुके थे। हमें रास्ता बेहद ही सुंदर नजर आ रहा था। हरे-भरे पेड़ और दूर तलक जहां देखो पहाड़ ही नजर आ रहे थे। अचानक बदले हुये मौसम ने सबके अंदर एक एनर्जी भर दी थी जो तुंगनाथ ट्रैक के लिए थी। कुछ देर बाद हम चोपता पहुंच गये थे, अब हमारा अगला पड़ाव था-तुंगनाथ ट्रैक।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here