अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने रविवार को उत्तर कोरिया का दौरा किया, जहां उन्होंने उत्तर कोरिया के प्रमुख किम जोंग-उन से मुलाकात की. उत्तर कोरिया की धरती पर पहुंचने वाले डोनाल्ड ट्रंप पहले अमेरिकी राष्ट्रपति हैं. ट्रंप और किम की ये मुलाकात दक्षिण और उत्तर कोरिया को बांटने वाली कंक्रीट की सीमा पर हुई. जहां किम उनका स्वागत करने आए और दोनों ने हाथ मिलाया. फिर दोनों साथ में उत्तर कोरियाई क्षेत्र की ओर चल दिए. इस मुलाकात में दोनों देश परमाणु कार्यक्रम पर वार्ता बहाल करने पर सहमत हुए. वियतनाम में फरवरी में दोनों देशों के बीच शिखर वार्ता टूटने के बाद पहली बार दोनों देशों के नेता एक-दूसरे से मिल रहे थे. डोनाल्ड ट्रंप के इस दौरे के कई मायने हो सकते है.

दक्षिण और उत्तर कोरिया को बांटने वाले असैन्यीकृत क्षेत्र में उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग उन से मुलाकात करते अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (फोटो सोर्स गूगल)

ट्रंप के उत्तर कोरियाई जमीन पर कदम रखते ही किम ने तालियां बजाई और फिर एक बार दोनों ने हाथ मिलाया और तस्वीरें खिंचवाई. इसके बाद दोनों फिर दक्षिण कोरिया की ओर बढ़े जहां ‘फ्रीडम हाउस’ में दोनों ने बैठक की.

डोनाल्ड ट्रंप ने इस यात्रा को लेकर क्या कहा है?

ट्रंप ने कहा, “विश्व के लिए यह एक महान क्षण है और यहां आना मेरे लिए सम्मान की बात है. बहुत-सी महान चीजें हो रही हैं” ट्रंप ने शनिवार को ही अचानक इस दौरे की जानकारी ट्विटर पर दी थी. फरवरी महीने हनोई में हुई बेनतीजा शिखर वार्ता की ओर इशारा करते हुए उन्होंने कहा था, “बस हाथ मिलाकर एक दूसरे का अभिवादन करेंगे क्योंकि हम वियतनाम के बाद से मिले नहीं हैं.”

दरअसल, ट्रंप ने ओसाका में जी-20 शिखर सम्मेलन से टि्वटर पर चौंकाने वाला आमंत्रण दिया था और कहा, ‘यदि उत्तर कोरिया के अध्यक्ष इसे देखते हैं तो मैं उनसे महज हाथ मिलाने और हेलो कहने के लिए सीमा पर मिलूंगा.’ ट्रंप ने बाद में कहा कि उन्हें किम के साथ उत्तर कोरिया में प्रवेश करने में कोई समस्या नहीं होगी. ट्रंप ने संवाददाताओं से कहा था, “निश्चित तौर पर मैं ऐसा करूंगा, ऐसा करने पर मुझे खुशी होगी.’ हम जल्दबाजी नहीं चाहते. हम सही कदम उठाना चाहते हैं.”

उन्होंने कहा कि उत्तर कोरिया पर आर्थिक प्रतिबंध जारी रहेंगे, लेकिन उत्तर कोरिया को रियायत न देने के प्रशासन के पिछले फैसले को बदले जाने की उम्मीद दिखी. उन्होंने कहा कि बातचीत के दौरान ऐसा हो सकता है.

ट्रंप ने कहा कि स्थिति पहले काफी खतरनाक थी लेकिन हमारी पहली शिखर वार्ता के बाद सारा खतरा टल गया है. अमेरिका और उत्तर कोरिया के दल अगले दो या तीन सप्ताह में उत्तर कोरिया के परमाणु कार्यक्रम पर वार्ता शुरू करेंगे.

किम जोंग उन ने ट्रंप से मुलाकात पर क्या कहा है?

किम ने इस पल की सराहना करते हुए कहा कि मेरा मानना है कि यह दुर्भाग्यपूर्ण अतीत को खत्म करने और एक नया भविष्य बनाने की उनकी इच्छा की अभिव्यक्ति है. किम ने कहा कि वह ट्रंप की ओर से शनिवार को अचानक मिले आमंत्रण से हैरान थे. ट्रंप ने शनिवार को ही अचानक इस दौरे की जानकारी ट्विटर पर दी थी. ट्रंप ने पहले दो मिनट के लिए मुलाकात करने की बात कही थी लेकिन यह बैठक 50 मिनट तक चली.

इस यात्रा के दौरान उत्तर कोरिया के सुरक्षाकर्मियों के साथ रविवार को अमेरिकी प्रेस पूल की ‘खींचतान’ में व्हाइट हाउस की नई प्रेस सचिव स्टीफैनी ग्रीशम को खरोंचे आई हैं. समाचार एजेंसी एसोसिएटेड प्रेस के अनुसार, ये लोग अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की उत्तरी कोरिया के नेता किम जोंग उन के साथ हुई मुलाकात को कवर करने के लिए गए थे. वॉशिंगटन पोस्ट’ ने इस खबर को प्रकाशित किया है.

स्टीफैनी ग्रीशम को रोकता उत्तरी कोरियाई गार्ड, फोटो सोर्स- गूगल

समाचार एजेंसी AP के अनुसार, अमेरिकी रिपोर्टर्स को इंटर-कोरियन हाउस ऑफ फ्रीडम में प्रवेश से रोकने के लिए उत्तरी कोरियाई गार्ड्स द्वारा उन्हें धकेलने जाने के बाद सीक्रेट सर्विस को हस्तक्षेप करना पड़ा. पत्रकारों द्वारा ट्विटर पर की गई पोस्ट्स में बताया गया है कि अमेरिकी मीडिया को अंदर जाने देने में मदद करने के लिए स्टीफैनी ग्रीशम हल्ले-गुल्ले में शामिल हुईं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here