इतिहास गवाह है कि, बंटवारे के बाद वजूद में आये पाकिस्तान ने तब से लेकर आज तक सिर्फ एक काम में प्रतिबद्धता दिखाई है और वो काम है भारत को नुकसान पहुंचाने के लिए लगातार साजिशें रचने का. भारत के खिलाफ अपने नापाक मंसूबों को अंजाम देने के लिए पाकिस्तान का सबसे बड़ा हथियार है, पाकिस्तानी खुफिया एजेन्सी ISI. जो लगातार भारतीय सेनाओं में शामिल जवान, अधिकारियों को खूबसूरत लड़कियों के जरिये हनी ट्रैप में फंसाकर भारत की सामरिक एवं गोपनीय सूचनाएं हासिल करने की कोशिश में लगी रहती है. जिसके खिलाफ मुस्तैद भारतीय खुफिया एजेंसीज़ लंबे समय से एक अलग युद्ध लड़ती आ रही हैं.

भारत-पाकिस्तान बॉर्डर पर तैनात भारतीय जवान , फोटो सोर्स - गूगल
भारत-पाकिस्तान बॉर्डर पर तैनात भारतीय जवान , फोटो सोर्स – गूगल

इसी कड़ी में एक बार फिर इंटेलिजेन्स की सूचना पर मिलिट्री इंटेलिजेंस एवं राजस्थान CID पुलिस ने संयुक्त कार्यवाही के तहत, भारतीय सेना के दो जवानों को गिरफ्तार किया है. गिरफ्तार दोनों जवान पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI की महिला एजेंट के झांसे में आकर, भारतीय सेना के बारे में गोपनीय और रणनीतिक जानकारियां दे रहे थे.

अधिकारियों ने बताया, दोनों जवान अलग-अलग स्थानों पर, पाकिस्तानी खुफिया एजेन्सी ISI की महिला एजेंट के हनी ट्रैप के जाल में फंस कर, भारतीय सेना के युद्धाभ्यास से जुड़ी कई प्रकार की जानकारियां सीमा पार भिजवा रहे थे. राजस्थान के पोखरण रेंज में तैनात जवान विचित्र बेहरा पर एजेंसियों को शक था, जिस आधार पर काफी समय से जवान पर नजर रखी जा रही थी. जिसके चलते बुधवार को सीआईडी इन्टेलिजेन्स ने विचित्र बेहरा को गिरफ्तार कर लिया. वहीं दूसरे जवान लांस नायक रवि वर्मा को भी बीते मंगलवार, जासूसी के संदेह में जैसलमेर से गिरफ्तार किया गया है.

हनी ट्रैप में फंसे जवानों की प्रतीकात्मक तस्वीर, फोटो सोर्स - गूगल
हनी ट्रैप में फंसे जवानों की प्रतीकात्मक तस्वीर, फोटो सोर्स – गूगल

सेना के एक शीर्ष खुफिया अधिकारी ने बताया, पाकिस्तानी ISI की महिला एजेंट के मोहजाल में फंसकर दोनों जवान फेसबुक और व्हाट्सएप के जरिये, भारतीय सेना की महत्वपूर्ण गोपनीय जानकारियां उसे दे रहे थे.

पाकिस्तानी सीमा से सटी पोखरण रेंज सामरिक द्रष्टि से भारतीय सेना के लिए बहुत महत्वपूर्ण लोकेशन है , फोटो सोर्स - गूगल
पाकिस्तानी सीमा से सटी पोखरण रेंज सामरिक द्रष्टि से भारतीय सेना के लिए बहुत महत्वपूर्ण लोकेशन है , फोटो सोर्स – गूगल

पोखरण रेंज में तैनात जवान विचित्र बेहरा की निगरानी के दौरान, खुफिया एजेंसीज़ को पता चला था कि वो फेसबुक एवं व्हाट्सप्प के माध्यम से निरन्तर ISI महिला एजेंट के सम्पर्क में है और सूचनाएं साझा कर रहा है. विचित्र बेहरा इन सूचनाओं के बदले में पाकिस्तानी एजेंट से अपने बैंक खाते में पैसे ट्रांसफर करवाता था.

फोटो सोर्स - गूगल
फोटो सोर्स – गूगल

पूछताछ के दौरान आरोपी जवान विचित्र बेहरा ने बताया,

ISI महिला एजेंट से उसकी दोस्ती 2 साल पहले फेसबुक के माध्यम से हुई थी. शुरुआत में पाकिस्तान की महिला एजेंट उससे फेसबुक पर चैट करती थी. लेकिन, पिछले एक साल से व्हाट्सप्प कॉल के जरिये ISI महिला एजेंट से बातें कर रहा था. व्हाट्सप्प कॉल के दौरान महिला एजेंट उसे अतरंग बातों में फँसाकर उससे सैन्य जानकारियां प्राप्त करती थी. सूचना सही होने पर वो उसके बैंक खाते में पैसे ट्रांसफर करती थी.

प्रतीकात्मक तस्वीर, फोटो सोर्स - गूगल
प्रतीकात्मक तस्वीर, फोटो सोर्स – गूगल

विचित्र बेहरा के बैंक खाते में पैसे जमा होने की पुष्टि होने के बाद ही, शासकीय गुप्त बात अधिनियम के तहत स्पेशल पुलिस स्टेशन जयपुर में जवान के खिलाफ केस दर्ज कर कार्यवाही प्रारम्भ की गयी. जवान विचित्र बेहरा को धारा 3 शासकीय गुप्त बात अधिनियम के तहत गिरफ्तार किया गया है. मामले को लेकर कार्यवाही जारी है, जवान से पूछताछ की जा रही है.

ये भी पढ़े:- हनीट्रैप में फंसा सेना का जवान, पैसों और अश्लील फोटोज के झांसे में बाँट दी ख़ुफ़िया जानकारी