खबर है कि सोशल मीडिया पर फेक फॉलोअर्स के मामले में बॉलीवुड के कुछ बड़े लोगों के नाम सामने आ सकते हैं। जी हां आप बिलकुल सही पढ़ रहे हैं। दरअसल हाल के दिनों की मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार अब तक इस मामले को लेकर 10 से ज्यादा सेलिब्रिटीज से पूछताछ हो चुकी है। मामले में फ़िल्म और क्रिकेट जगत से जुड़े कुछ बड़े नाम भी हैं जिन्हें पुलिस बयान के लिए तलब कर सकती है।

सोशल मीडिया पर अक्सर हम सुनते आते हैं कि फलाना एक्टर के 40 मिलियन फॉलोअर्स हो गए तो फला के 50 मिलियन फॉलोवर्स हो गए जबकि बॉलीवुड में तो मेल एक्टर से ज्यादा फीमेल एक्टर के ही फॉलोअर्स हैं। ऐसे में बॉलीवुड की दो बड़ी फीमेल एक्ट्रेसेज के नाम सामने आ रहे हैं। रिपब्लिक भारत ने तो इसमें दीपिका पादुकोण और प्रियंका चोपड़ा के नाम की आशंका जताई है।

source: google

source: google

उनके अनुसार, मुंबई क्राइम ब्रांच की क्राइम इंटेलीजेंस यूनिट दीपिका पादुकोण और प्रियंका चोपड़ा जोनस से कथित रूप से फर्जी फॉलोअर्स धोखाधड़ी मामले में पूछताछ कर सकती है। खबरों के मुताबिक सोशल मीडिया मार्केटिंग फ्रॉड की जांच तब शुरू हुई जब प्लेबैक सिंगर भूमि त्रिवेदी ने इस महीने की शुरुआत में अकाउंट चोरी की शिकायत दर्ज कराई थी। एक पुलिस अधिकारी ने कहा है कि जांच में उन 10 हस्तियों की सूची बनाई गई है जिन्होंने फर्जी फॉलोअर्स बनाने के लिए कंपनियों की सेवाओं का इस्तेमाल किया होगा।

अभी क्या अपडेट है?

सोशल मीडिया फर्जी फ़ॉलोअर्स केस में एक और गिरफ्तारी हुई है। जांच कर रही CIU ने 29 साल के कासिफ मंसूर नाम के आरोपी को गिरफ्तार किया है। आरोपी कासिफ मंसूर एक सिविल इंजीनियर है और www.amvsmm.com नाम की वेबसाइट ऑपरेट करता है। कासिफ पर इंस्टाग्राम, ट्वीटर और फेसबुक जैसे सोशल मीडिया पर लोगो को फेक लाइक्स, व्यूज और फॉलोअर्स मुहैया कराने का आरोप है। इस मामले में पुलिस इसके पहले अभिषेक दौडे को गिरफ्तार कर चुकी है। मामले में हिंदुस्तान की 59 के करीब फर्म CIU के निशाने पर हैं और 175 के करीब सेलिब्रिटी और इंफ्लुएंसर का नाम भी उजागर हुआ है जिन्होंने इस तरह के फर्जी फ़ॉलोअर्स बढ़ाने की सेवा ली है।

दंड का भी है प्रावधान:

बता दें कि इस घोटाले के तहत अपराधियों को भारतीय दंड संहिता के तहत आरोपित किया जा सकता है, जिसमें धारा 467 जालसाजी (forgery of valuable security, will, etc) और साथ ही सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम की धारा 66 (कंप्यूटर से संबंधित अपराध) शामिल हैं।

कुल मिलाकर इस मामले में फिलहाल के लिए अपडेट है। जैसे ही इसमें कुछ नया अपडेट आता है, हम आपको जरूर बताएंगे।